Saturday , 20 January 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » इस बार पूरे विधि-विधान से करें सोमवती अमावस्या की पूजा !

इस बार पूरे विधि-विधान से करें सोमवती अमावस्या की पूजा !

%E0%A4%87%E0%A4%B8-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%AA%E0%A5%82%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%A7%E0%A4%BF-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%A7%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%95

%E0%A4%87%E0%A4%B8-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%AA%E0%A5%82%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%A7%E0%A4%BF-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%A7%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%95

Is Bar Pure Vidhi Vidhan Se

सोमवार के दिन पड़ने वाली अमावस्या सोमवती अमावस्या कहलाती है। प्रत्येक मास एक अमावस्या आती है और प्रत्येक सात दिन बाद एक सोमवार। परन्तु ऐसा बहुत ही कम होता है जब अमावस्या सोमवार के दिन हो।

महत्त्व
पीपल के पेड़ में सभी देवों का वास होता है। अतः सोमवती अमावस्या के दिन से शुरू करके जो व्यक्ति हर अमावस्या के दिन भँवरी देता है, उसके सुख और सौभाग्य में वृद्धि होती है। जो हर अमावस्या को न कर सके, वह सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या के दिन 108 वस्तुओं कि भंवरी देकर सोना धोबिन और गौरी-गणेश कि पूजा करता है, उसे अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। हमारे धर्म ग्रंथों में कहा गया है कि सोमवार को अमावस्या बड़े भाग्य से ही पड़ती है, पाण्डव पूरे जीवन तरसते रहे, परंतु उनके संपूर्ण जीवन में सोमवती अमावस्या नहीं आई।
कथा
सोमवती अमावस्या से सम्बंधित अनेक कथाएं प्रचलित हैं। परंपरा है कि सोमवती अमावस्या के दिन इन कथाओं को विधिपूर्वक सुना जाता है। एक गरीब ब्राह्मण परिवार था, जिसमे पति, पत्नी के अलावा एक पुत्री भी थी। पुत्री धीरे-धीरे बड़ी होने लगी। लड़की सुन्दर, संस्कारवान एवं गुणवान भी थी, लेकिन गरीब होने के कारण उसका विवाह नहीं हो पा रहा था। एक दिन ब्राह्मण के घर एक साधू पधारे, जो कि कन्या के सेवाभाव से काफी प्रसन्न हुए। कन्या को लम्बी आयु का आशीर्वाद देते हुए साधू ने कहा की कन्या की हथेली में विवाह योग्य रेखा नहीं है। ब्राह्मण दम्पति ने साधू से उपाय पूछा कि कन्या ऐसा क्या करें कि उसके हाथ में विवाह योग बन जाए। साधू ने कुछ देर विचार करने के बाद अपनी अंतर्दृष्टि से ध्यान करके बताया कि कुछ दूरी पर एक गांव में सोना नाम की धोबी जाति की एक महिला अपने बेटे और बहू के साथ रहती है, जो कि बहुत ही आचार- विचार और संस्कार संपन्न तथा पति परायण है। यदि यह कन्या उसकी सेवा करे और वह महिला इसकी शादी में अपने मांग का सिन्दूर लगा दे, उसके बाद इस कन्या का विवाह हो तो इस कन्या का वैधव्य योग मिट सकता है। साधू ने यह भी बताया कि वह महिला कहीं आती जाती नहीं है। यह बात सुनकर ब्राह्मणी ने अपनी बेटी से धोबिन की सेवा करने की बात कही। कन्या तड़के ही उठ कर सोना धोबिन के घर जाकर, सफाई और अन्य सारें काम करके अपने घर वापस आ जाती। सोना धोबिन अपनी बहू से पूछती है कि तुम तो तड़के ही उठकर सारे काम कर लेती हो और पता भी नहीं चलता। बहू ने कहा कि मां मैंने तो सोचा कि आप ही सुबह उठकर सारे काम खुद ही खत्म कर लेती हैं। मैं तो देर से उठती हूँ। इस पर दोनों सास बहू निगरानी करने लगी कि कौन है जो तड़के ही घर का सारा काम करके चला जाता है। कई दिनों के बाद धोबिन ने देखा कि एक एक कन्या अंधेरे घर में आती है और सारे काम करने के बाद चली जाती है। जब वह जाने लगी तो सोना धोबिन उसके पैरों पर गिर पड़ी, पूछने लगी कि आप कौन है और इस तरह छुपकर मेरे घर की चाकरी क्यों करती हैं। तब कन्या ने साधू द्वारा कही गई सारी बात बताई। सोना धोबिन पति परायण थी, उसमें तेज था। वह तैयार हो गई। सोना धोबिन के पति थोड़ा अस्वस्थ थे। उसमे अपनी बहू से अपने लौट आने तक घर पर ही रहने को कहा। सोना धोबिन ने जैसे ही अपने मांग का सिन्दूर कन्या की मांग में लगाया, उसका पति मर गया। उसे इस बात का पता चल गया। वह घर से निराजल ही चली थी, यह सोचकर की रास्ते में कहीं पीपल का पेड़ मिलेगा तो उसे भँवरी देकर और उसकी परिक्रमा करके ही जल ग्रहण करेगी। उस दिन सोमवती अमावस्या थी। ब्राह्मण के घर मिले पूए- पकवान की जगह उसने ईंट के टुकडों से 108 बार भँवरी देकर 108 बार पीपल के पेड़ की परिक्रमा की और उसके बाद जल ग्रहण किया। ऐसा करते ही उसके पति के मुर्दा शरीर में कम्पन होने लगा।
सोमवती अमावस्या स्नान-दान
इस दिन प्रातः काल उठें। दैनिक कार्य से निवृत होकर संभव हो तो पवित्र नदियों अथवा सरोवरों में स्नान करें। भगवान श्री कृष्ण जी के अनुसार इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने से मनुष्य सभी दुखों से मुक्त होकर सुख को प्राप्त करता है तथा इस कार्य से मनुष्य के पितृों की आत्माओं को शांति प्राप्त होती है। स्नान करने के पश्चात भगवान सूर्य देव को अर्घ्य दें एवं नदी में तिल का प्रवाह करें। तत्पश्चात भगवान शिव जी एवं पीपल वृक्ष की पूजा नियमानुसार करें। पूजा सम्पन्न होने के पश्चात अपने सामर्थ्य अनुसार ब्राह्मणों एवम गरीबों को दान देना चाहिए।

somavaar ke din padane vaalee amaavasya somavatee amaavasya kahalaatee hai. pratyek maas ek amaavasya aatee hai aur pratyek saat din baad ek somavaar. parantu aisa bahut hee kam hota hai jab amaavasya somavaar ke din ho.

mahattv
peepal ke ped mein sabhee devon ka vaas hota hai. atah somavatee amaavasya ke din se shuroo karake jo vyakti har amaavasya ke din bhanvaree deta hai, usake sukh aur saubhaagy mein vrddhi hotee hai. jo har amaavasya ko na kar sake, vah somavaar ko padane vaalee amaavasya ke din 108 vastuon ki bhanvaree dekar sona dhobin aur gauree-ganesh ki pooja karata hai, use akhand saubhaagy kee praapti hotee hai. hamaare dharm granthon mein kaha gaya hai ki somavaar ko amaavasya bade bhaagy se hee padatee hai, paandav poore jeevan tarasate rahe, parantu unake sampoorn jeevan mein somavatee amaavasya nahin aaee.

katha
somavatee amaavasya se sambandhit anek kathaen prachalit hain. parampara hai ki somavatee amaavasya ke din in kathaon ko vidhipoorvak suna jaata hai. ek gareeb braahman parivaar tha, jisame pati, patnee ke alaava ek putree bhee thee. putree dheere-dheere badee hone lagee. ladakee sundar, sanskaaravaan evan gunavaan bhee thee, lekin gareeb hone ke kaaran usaka vivaah nahin ho pa raha tha. ek din braahman ke ghar ek saadhoo padhaare, jo ki kanya ke sevaabhaav se kaaphee prasann hue. kanya ko lambee aayu ka aasheervaad dete hue saadhoo ne kaha kee kanya kee hathelee mein vivaah yogy rekha nahin hai. braahman dampati ne saadhoo se upaay poochha ki kanya aisa kya karen ki usake haath mein vivaah yog ban jae. saadhoo ne kuchh der vichaar karane ke baad apanee antardrshti se dhyaan karake bataaya ki kuchh dooree par ek gaanv mein sona naam kee dhobee jaati kee ek mahila apane bete aur bahoo ke saath rahatee hai, jo ki bahut hee aachaar- vichaar aur sanskaar sampann tatha pati paraayan hai. yadi yah kanya usakee seva kare aur vah mahila isakee shaadee mein apane maang ka sindoor laga de, usake baad is kanya ka vivaah ho to is kanya ka vaidhavy yog mit sakata hai. saadhoo ne yah bhee bataaya ki vah mahila kaheen aatee jaatee nahin hai. yah baat sunakar braahmanee ne apanee betee se dhobin kee seva karane kee baat kahee. kanya tadake hee uth kar sona dhobin ke ghar jaakar, saphaee aur any saaren kaam karake apane ghar vaapas aa jaatee. sona dhobin apanee bahoo se poochhatee hai ki tum to tadake hee uthakar saare kaam kar letee ho aur pata bhee nahin chalata. bahoo ne kaha ki maan mainne to socha ki aap hee subah uthakar saare kaam khud hee khatm kar letee hain. main to der se uthatee hoon. is par donon saas bahoo nigaraanee karane lagee ki kaun hai jo tadake hee ghar ka saara kaam karake chala jaata hai. kaee dinon ke baad dhobin ne dekha ki ek ek kanya andhere ghar mein aatee hai aur saare kaam karane ke baad chalee jaatee hai. jab vah jaane lagee to sona dhobin usake pairon par gir padee, poochhane lagee ki aap kaun hai aur is tarah chhupakar mere ghar kee chaakaree kyon karatee hain. tab kanya ne saadhoo dvaara kahee gaee saaree baat bataee. sona dhobin pati paraayan thee, usamen tej tha. vah taiyaar ho gaee. sona dhobin ke pati thoda asvasth the. usame apanee bahoo se apane laut aane tak ghar par hee rahane ko kaha. sona dhobin ne jaise hee apane maang ka sindoor kanya kee maang mein lagaaya, usaka pati mar gaya. use is baat ka pata chal gaya. vah ghar se niraajal hee chalee thee, yah sochakar kee raaste mein kaheen peepal ka ped milega to use bhanvaree dekar aur usakee parikrama karake hee jal grahan karegee. us din somavatee amaavasya thee. braahman ke ghar mile pooe- pakavaan kee jagah usane eent ke tukadon se 108 baar bhanvaree dekar 108 baar peepal ke ped kee parikrama kee aur usake baad jal grahan kiya. aisa karate hee usake pati ke murda shareer mein kampan hone laga.

somavatee amaavasya snaan-daan
is din praatah kaal uthen. dainik kaary se nivrt hokar sambhav ho to pavitr nadiyon athava sarovaron mein snaan karen. bhagavaan shree krshn jee ke anusaar is din pavitr nadiyon mein snaan karane se manushy sabhee dukhon se mukt hokar sukh ko praapt karata hai tatha is kaary se manushy ke pitron kee aatmaon ko shaanti praapt hotee hai. snaan karane ke pashchaat bhagavaan soory dev ko arghy den evan nadee mein til ka pravaah karen. tatpashchaat bhagavaan shiv jee evan peepal vrksh kee pooja niyamaanusaar karen. pooja sampann hone ke pashchaat apane saamarthy anusaar braahmanon evam gareebon ko daan dena chaahie.

Comments

comments