Friday , 19 January 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » कहाँ छुपी हैं शक्तियां !

कहाँ छुपी हैं शक्तियां !

%E0%A4%95%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%81-%E0%A4%9B%E0%A5%81%E0%A4%AA%E0%A5%80-%E0%A4%B9%E0%A5%88%E0%A4%82-%E0%A4%B6%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%82

%E0%A4%95%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%81-%E0%A4%9B%E0%A5%81%E0%A4%AA%E0%A5%80-%E0%A4%B9%E0%A5%88%E0%A4%82-%E0%A4%B6%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%82

god

एक बार देवताओं में चर्चा हो रहो थी, चर्चा का विषय था मनुष्य की हर मनोकामनाओं को पूरा करने वाली गुप्त चमत्कारी शक्तियों को कहाँ छुपाया जाये। सभी देवताओं में इस पर बहुत वाद- विवाद हुआ। एक देवता ने अपना मत रखा और कहा कि इसे हम एक जंगल की गुफा में रख देते हैं। दूसरे देवता ने उसे टोकते हुए कहा नहीं- नहीं हम इसे पर्वत की चोटी पर छिपा देंगे। उस देवता की बात ठीक पूरी भी नहीं हुई थी कि कोई कहने लगा , “न तो हम इसे कहीं गुफा में छिपाएंगे और न ही इसे पर्वत की चोटी पर हम इसे समुद्र की गहराइयों में छिपा देते हैं यही स्थान इसके लिए सबसे उपयुक्त रहेगा।”

सबकी राय खत्म हो जाने के बाद एक बुद्धिमान देवता ने कहा क्यों न हम मानव की चमत्कारिक शक्तियों को मानव -मन की गहराइयों में छिपा दें। चूँकि बचपन से ही उसका मन इधर -उधर दौड़ता रहता है, मनुष्य कभी कल्पना भी नहीं कर सकेगा कि ऐसी अदभुत और विलक्षण शक्तियां उसके भीतर छिपी हो सकती हैं । और वह इन्हें बाह्य जगत में खोजता रहेगा अतः इन बहुमूल्य शक्तियों को हम उसके मन की निचली तह में छिपा देंगे। बाकी सभी देवता भी इस प्रस्ताव पर सहमत हो गए। और ऐसा ही किया गया , मनुष्य के भीतर ही चमत्कारी शक्तियों का भण्डार छुपा दिया गया, इसलिए कहा जाता है मानव मवन में अद्भुत शक्तियां निहित हैं।

दोस्तों इस कहानी का सार यह है कि मानव मन असीम ऊर्जा का कोष है। इंसान जो भी चाहे वो हासिल कर सकता है। मनुष्य के लिए कुछ भी असाध्य नहीं है। लेकिन बड़े दुःख की बात है उसे स्वयं ही विश्वास नहीं होता कि उसके भीतर इतनी शक्तियां विद्यमान हैं। अपने अंदर की शक्तियों को पहचानिये, उन्हें पर्वत, गुफा या समुद्र में मत ढूंढिए बल्कि अपने अंदर खोजिए और अपनी शक्तियों को निखारिए। हथेलियों से अपनी आँखों को ढंककर अंधकार होने का शिकायत मत कीजिये। आँखें खोलिए , अपने भीतर झांकिए और अपनी अपार शक्तियों का प्रयोग कर अपना हर एक सपना पूरा कर डालिये।

Wish4me

ek baar devataon mein charcha ho raho thee, charcha ka vishay tha manushy kee har manokaamanaon ko poora karane vaalee gupt chamatkaaree shaktiyon ko kahaan chhupaaya jaaye. sabhee devataon mein is par bahut vaad- vivaad hua. ek devata ne apana mat rakha aur kaha ki ise ham ek jangal kee gupha mein rakh dete hain. doosare devata ne use tokate hue kaha nahin- nahin ham ise parvat kee chotee par chhipa denge. us devata kee baat theek pooree bhee nahin huee thee ki koee kahane laga , “na to ham ise kaheen gupha mein chhipaenge aur na hee ise parvat kee chotee par ham ise samudr kee gaharaiyon mein chhipa dete hain yahee sthaan isake lie sabase upayukt rahega.”

sabakee raay khatm ho jaane ke baad ek buddhimaan devata ne kaha kyon na ham maanav kee chamatkaarik shaktiyon ko maanav -man kee gaharaiyon mein chhipa den. choonki bachapan se hee usaka man idhar -udhar daudata rahata hai, manushy kabhee kalpana bhee nahin kar sakega ki aisee adabhut aur vilakshan shaktiyaan usake bheetar chhipee ho sakatee hain . aur vah inhen baahy jagat mein khojata rahega atah in bahumooly shaktiyon ko ham usake man kee nichalee tah mein chhipa denge. baakee sabhee devata bhee is prastaav par sahamat ho gae. aur aisa hee kiya gaya , manushy ke bheetar hee chamatkaaree shaktiyon ka bhandaar chhupa diya gaya, isalie kaha jaata hai maanav mavan mein adbhut shaktiyaan nihit hain.

doston is kahaanee ka saar yah hai ki maanav man aseem oorja ka kosh hai. insaan jo bhee chaahe vo haasil kar sakata hai. manushy ke lie kuchh bhee asaadhy nahin hai. lekin bade duhkh kee baat hai use svayan hee vishvaas nahin hota ki usake bheetar itanee shaktiyaan vidyamaan hain. apane andar kee shaktiyon ko pahachaaniye, unhen parvat, gupha ya samudr mein mat dhoondhie balki apane andar khojie aur apanee shaktiyon ko nikhaarie. hatheliyon se apanee aankhon ko dhankakar andhakaar hone ka shikaayat mat keejiye. aankhen kholie , apane bheetar jhaankie aur apanee apaar shaktiyon ka prayog kar apana har ek sapana poora kar daaliye.

Comments

comments