Monday , 18 December 2017
Latest Happenings
Home » Krishna » कृष्ण लीला- परछाई ना पकड़ पाने पर रोना।

कृष्ण लीला- परछाई ना पकड़ पाने पर रोना।

%E0%A4%95%E0%A5%83%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%A3-%E0%A4%B2%E0%A5%80%E0%A4%B2%E0%A4%BE-%E0%A4%AA%E0%A4%B0%E0%A4%9B%E0%A4%BE%E0%A4%88-%E0%A4%A8%E0%A4%BE-%E0%A4%AA%E0%A4%95%E0%A4%A1%E0%A4%BC-%E0%A4%AA

%E0%A4%95%E0%A5%83%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%A3-%E0%A4%B2%E0%A5%80%E0%A4%B2%E0%A4%BE-%E0%A4%AA%E0%A4%B0%E0%A4%9B%E0%A4%BE%E0%A4%88-%E0%A4%A8%E0%A4%BE-%E0%A4%AA%E0%A4%95%E0%A4%A1%E0%A4%BC-%E0%A4%AA

krishan leela

krishan leela

एक दिन कान्हा को नई लीला सूझी भगवान का काम नित्य नयी नयी लीलाएं करके माता को आनंदित करना था। पूर्व जन्म में नंद बाबा और यशोदा मैया ने भगवान की उपासना करके भगवान से पुत्र रुप में वात्सल्य सुख की ही तो कामना की थी। भगवान उस इच्छा को अधूरी कैसे रहने देते? इसलिए वे नित्य नयी लीलाओं से मां को रिझाने का प्रयास करते रहते थे। कान्हा नंद के आंगन में घुटनो के बल खेल रहे थे। अचानक उनकी दृष्टि अपनी परछाई पर पड़ी। जो उन्ही का अनुसरण कर रही थी। जब वे हंसते थे तो परछाई भी हंसती थी। कन्हैया बहुत खुख हुए सोचा- चलो एक नया साथी मिल गया। घर में अकेले खेलते खेलते मेरा मन ऊब गया था। अब यह रोज मेरा मन बहलाया करेगा।
कन्हैया अपनी परछाई से बोले- भैया तुम कहां रहते हो? चलो हम दोनों मित्र बन जाएं। जब मै माखन खाउंगा तो तुम्हें भी खिलाउंगा। जब दूध पीऊंगा तो तुम्हें भी पिलाऊंगा। दाऊ भैया मुझसे बड़े है इसलिए मुझसे लड़ जाते है। तुम मुझसे लड़ना नहीं। हम लोग खूब प्रेम से रहेंगे। यहां किसी चीज की कमा नहीं है। तुम्हें जितना भी माखन मिश्री चाहिए मै तुम्हें मैया से कहकर दिला दूंगा।
इस प्रकार करते हुए कन्हैया अपनी छाया को पकड़ने का प्रयास करने लगे। बार-बार आगे पीछे जाते, इधर घूमते उधर घूमते परंतु परछाई किसी के पकड़ में आई है जो कन्हैया के पकड़ में आती। जब कन्हैया थककर हार गए और परछाई नहीं पकड़ पाए तो रोने लगे। उन्हे रोता देख यशोदा मां ने पूछा- कन्हैया तुम्हें क्या हुआ, इस तरह क्यो रो रहे हो।
कन्हैया ने माता को अपना प्रतिबिंब दिखाकर बात बदल दी। श्री कृष्ण बोले मां यह कौन है? यह हमारे घर में माखन के लोभ में घुस आया है। मै क्रोध करता हूं तो यह भी क्रोध करता हूं। मैयै आओ ना हम दोनों मिलकर इसे बाहर कर दे। मैया कन्हैया के भोलेपन पर मुग्ध हो गयीं और कन्हैया के आंसू पोछकर उन्हें गोद में ले लिया।

translate in English

Ek din kaanhaa ko na_ii leelaa soojhee bhagavaan kaa kaam nity nayee nayee leelaa_en karake maataa ko aanndit karanaa thaa. Poorv janm men nnd baabaa aur yashodaa maiyaa ne bhagavaan kee upaasanaa karake bhagavaan se putr rup men vaatsaly sukh kee hee to kaamanaa kee thee. Bhagavaan us ichchhaa ko adhooree kaise rahane dete? Isalie ve nity nayee leelaa_on se maan ko rijhaane kaa prayaas karate rahate the. Kaanhaa nnd ke aangan men ghuṭano ke bal khel rahe the. Achaanak unakee driṣṭi apanee parachhaa_ii par padee. Jo unhee kaa anusaraṇa kar rahee thee. Jab ve hnsate the to parachhaa_ii bhee hnsatee thee. Kanhaiyaa bahut khukh hue sochaa- chalo ek nayaa saathee mil gayaa. Ghar men akele khelate khelate meraa man oob gayaa thaa. Ab yah roj meraa man bahalaayaa karegaa. Kanhaiyaa apanee parachhaa_ii se bole- bhaiyaa tum kahaan rahate ho? Chalo ham donon mitr ban jaa_en. Jab mai maakhan khaa_ungaa to tumhen bhee khilaa_ungaa. Jab doodh peeoongaa to tumhen bhee pilaa_oongaa. Daa_oo bhaiyaa mujhase bade hai isalie mujhase lad jaate hai. Tum mujhase ladnaa naheen. Ham log khoob prem se rahenge. Yahaan kisee cheej kee kamaa naheen hai. Tumhen jitanaa bhee maakhan mishree chaahie mai tumhen maiyaa se kahakar dilaa doongaa. Is prakaar karate hue kanhaiyaa apanee chhaayaa ko pakadne kaa prayaas karane lage. Baar-baar aage peechhe jaate, idhar ghoomate udhar ghoomate parntu parachhaa_ii kisee ke pakad men aaii hai jo kanhaiyaa ke pakad men aatee. Jab kanhaiyaa thakakar haar ga_e aur parachhaa_ii naheen pakad paa_e to rone lage. Unhe rotaa dekh yashodaa maan ne poochhaa- kanhaiyaa tumhen kyaa huaa, is tarah kyo ro rahe ho. Kanhaiyaa ne maataa ko apanaa pratibinb dikhaakar baat badal dee. Shree kriṣṇa bole maan yah kaun hai? Yah hamaare ghar men maakhan ke lobh men ghus aayaa hai. Mai krodh karataa hoon to yah bhee krodh karataa hoon. Maiyai aao naa ham donon milakar ise baahar kar de. Maiyaa kanhaiyaa ke bholepan par mugdh ho gayeen aur kanhaiyaa ke aansoo pochhakar unhen god men le liyaa.

Comments

comments