Sunday , 18 February 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » केदारनाथ मंदिर

केदारनाथ मंदिर

%E0%A4%95%E0%A5%87%E0%A4%A6%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%A5-%E0%A4%AE%E0%A4%82%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%B0

%E0%A4%95%E0%A5%87%E0%A4%A6%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%A5-%E0%A4%AE%E0%A4%82%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%B0

Kedarnath Story

पवित्र ज्योतिर्लिंग केदारनाथ भगवान शिव के साधना स्थल हिमालय पर्वत के केदार नामक शृंग पर स्थित हैं। उत्तराखंड में हिमालय पर्वत की गोद में केदारनाथ मंदिर बारह ज्योतिर्लिंग में सम्मिलित होने के साथ-साथ चार धाम में से भी एक है। यहां की प्रतिकूल जलवायु के कारण यह मंदिर अप्रैल से नवंबर माह के मध्य ही दर्शन के लिए खुलता है। कहते हैं इसका निर्माण पांडव वंशी जनमेजय ने कराया था, जबकि आदि शंकराचार्य ने इस मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था।

केदारनाथ की यात्रा (Kedarnath Yatra)

उत्तराखंड में केदारनाथ के अलावा बद्रीनाथ भी एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। कहते हैं जो व्यक्ति केदारनाथ के दर्शन किए बिना बद्रीनाथ की यात्रा करता है, उसकी यात्रा निष्फल रह जाती है। केदारनाथ सहित नर-नारायण-मूर्ति के दर्शन करने से समस्त पापों का नाश होता है तथा जीवन चक्र से मुक्ति मिलती है।

केदारेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा (Story of Kedarnath in Hindi)

शिवपुराण के अनुसार भगवान विष्णु के नर नारायण रूप नामक दो अवतार थे। वह बदरिकाश्रमतीर्थ में तपस्या करते थे। उन दोनों ने पार्थिव शिवलिंग बनाकर भगवान भोलेनाथ की आराधना की थी। उनकी आराधना से प्रसन्न होकर भगवान शंकर प्रकट हुए और उनकी प्रार्थनानुसार ज्योतिर्लिंग के रूप में सदा वास करने का वर प्रदान किया।


Pavitr jyotirling kedaaranaath bhagavaan shiv ke saadhana sthal himaalay parvat ke kedaar naamak shrng par sthit hain. uttaraakhand mein himaalay parvat kee god mein kedaaranaath mandir baarah jyotirling mein sammilit hone ke saath-saath chaar dhaam mein se bhee ek hai. yahaan kee pratikool jalavaayu ke kaaran yah mandir aprail se navambar maah ke madhy hee darshan ke lie khulata hai. kahate hain isaka nirmaan paandav vanshee janamejay ne karaaya tha, jabaki aadi shankaraachaary ne is mandir ka jeernoddhaar karavaaya tha.

kedaaranaath kee yaatra (kaidarnath yatr)

uttaraakhand mein kedaaranaath ke alaava badreenaath bhee ek pramukh teerth sthal hai. kahate hain jo vyakti kedaaranaath ke darshan kie bina badreenaath kee yaatra karata hai, usakee yaatra nishphal rah jaatee hai. kedaaranaath sahit nar-naaraayan-moorti ke darshan karane se samast paapon ka naash hota hai tatha jeevan chakr se mukti milatee hai.

kedaareshvar jyotirling kee katha (story of kaidarnath in hindi)

shivapuraan ke anusaar bhagavaan vishnu ke nar naaraayan roop naamak do avataar the. vah badarikaashramateerth mein tapasya karate the. un donon ne paarthiv shivaling banaakar bhagavaan bholenaath kee aaraadhana kee thee. unakee aaraadhana se prasann hokar bhagavaan shankar prakat hue aur unakee praarthanaanusaar jyotirling ke roop mein sada vaas karane ka var pradaan kiya.

 

Wish4me

Comments

comments