Friday , 19 January 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Pooja Paath » गोवर्धन पूजा   Govardhan Puja

गोवर्धन पूजा   Govardhan Puja

%E0%A4%97%E0%A5%8B%E0%A4%B5%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%A7%E0%A4%A8-%E0%A4%AA%E0%A5%82%E0%A4%9C%E0%A4%BE-govardhan-puja

%E0%A4%97%E0%A5%8B%E0%A4%B5%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%A7%E0%A4%A8-%E0%A4%AA%E0%A5%82%E0%A4%9C%E0%A4%BE-govardhan-puja

 Govardhan Puja

Govardhan Puja

कार्तिक शुक्ल पक्ष प्रतिपदा के दिन गोर्वधन पूजा  (Govardhan Puja) की जाती है। हिन्दू मान्यतानुसार महाभारत काल में इसी दिन भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत की पूजा की थी। तभी से यह परंपरा कायम है।  गोवर्धन पूजा से जुड़ी कथा निम्न है:

गोवर्धन पूजा कथा (Govardhan Puja Katha)

एक बार की बात है इंद्र को अपनी शक्तियों पर घमंड हो गया। तब भगवान कृष्ण ने उनके घमंड को चूर करने के लिए एक लीला रची। इसमें उन्होंने सभी ब्रजवासियों और अपनी माता को एक पूजा की तैयारी करते हुए देखा तो, यशोदा मां से पूछने लगे, “मईया आप सब किसकी पूजा की तैयारी कर रहे हैं?” तब माता ने उन्हें बताया कि ‘वह इन्द्रदेव की पूजा की तैयारी कर रही हैं।”

फिर भगवान कृष्ण ने पूछा “मैइया हम सब इंद्र की पूजा क्यों करते है? तब मईया ने बताया कि ‘इंद्र वर्षा करते हैं और उसी से हमें अन्न और हमारी गाय के घास मिलता है। यह सुनकर कृष्ण जी ने तुरंत कहा “मैइया हमारी गाय तो अन्न गोवर्धन पर्वत पर चरती है, तो हमारे लिए वही पूजनीय होना चाहिए। इंद्र देव तो घमंडी हैं वह कभी दर्शन नहीं देते हैं।

कृष्ण की बात मानते हुए सभी ब्रजवासियों ने इन्द्रदेव के स्थान पर गोवर्धन पर्वत की पूजा की। इस पर क्रोधित होकर भगवान इंद्र ने मूसलाधार बारिश शुरू कर दी। वर्षा को बाढ़ का रूप लेते देख सभी  ब्रज के निवासी भगवान कृष्ण को कोसने लगें। तब कृष्ण जी ने वर्षा से लोगों की रक्षा करने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी कानी उंगली पर उठा लिया।

इसके बाद सब को अपने गाय सहित पर्वत के नीचे शरण लेने को कहा। इससे इंद्र देव और अधिक क्रोधित हो गए तथा वर्षा की गति और तेज कर दी। इन्द्र का अभिमान चूर करने के लिए तब श्री कृष्ण ने सुदर्शन चक्र से कहा कि आप पर्वत के ऊपर रहकर वर्षा की गति को नियंत्रित करने को और शेषनाग से मेंड़ बनाकर पर्वत की ओर पानी आने से रोकने को कहा।

इंद्र देव लगातार रात- दिन मूसलाधार वर्षा करते रहे। काफी समय बीत जाने के बाद उन्हें एहसास हुआ कि कृष्ण कोई साधारण मनुष्य नहीं हैं। तब वह ब्रह्मा जी के पास गए तब उन्हें ज्ञात हुआ की श्रीकृष्ण कोई और नहीं स्वयं श्री हरि विष्णु के अवतार हैं। इतना सुनते ही वह श्री कृष्ण के पास जाकर उनसे क्षमा याचना करने लगें। इसके बाद देवराज इन्द्र ने कृष्ण की पूजा की और उन्हें भोग लगाया। तभी से गोवर्धन पूजा की परंपरा कायम है। मान्यता है कि इस दिन गोवर्धन पर्वत और गायों की पूजा करने से भगवान कृष्ण प्रसन्न होते हैं।

[To English Wish4me]

Kaartik shukl pakṣ pratipadaa ke din gorvadhan poojaa (govardhan puja) kee jaatee hai. Hindoo maanyataanusaar mahaabhaarat kaal men isee din bhagavaan kriṣṇa ne govardhan parvat kee poojaa kee thee. Tabhee se yah parnparaa kaayam hai. Govardhan poojaa se judee kathaa nimn haiah

govardhan poojaa kathaa (govardhan puja katha)

ek baar kee baat hai indr ko apanee shaktiyon par ghamnḍa ho gayaa. Tab bhagavaan kriṣṇa ne unake ghamnḍa ko choor karane ke lie ek leelaa rachee. Isamen unhonne sabhee brajavaasiyon aur apanee maataa ko ek poojaa kee taiyaaree karate hue dekhaa to, yashodaa maan se poochhane lage, “maiiyaa aap sab kisakee poojaa kee taiyaaree kar rahe hain?” tab maataa ne unhen bataayaa ki ‘vah indradev kee poojaa kee taiyaaree kar rahee hain.”

fir bhagavaan kriṣṇa ne poochhaa “maiiyaa ham sab indr kee poojaa kyon karate hai? Tab maiiyaa ne bataayaa ki ‘indr varṣaa karate hain aur usee se hamen ann aur hamaaree gaay ke ghaas milataa hai. Yah sunakar kriṣṇa jee ne turnt kahaa “maiiyaa hamaaree gaay to ann govardhan parvat par charatee hai, to hamaare lie vahee poojaneey honaa chaahie. Indr dev to ghamnḍaee hain vah kabhee darshan naheen dete hain.

Kriṣṇa kee baat maanate hue sabhee brajavaasiyon ne indradev ke sthaan par govardhan parvat kee poojaa kee. Is par krodhit hokar bhagavaan indr ne moosalaadhaar baarish shuroo kar dee. Varṣaa ko baaḍhx kaa roop lete dekh sabhee braj ke nivaasee bhagavaan kriṣṇa ko kosane lagen. Tab kriṣṇa jee ne varṣaa se logon kee rakṣaa karane ke lie govardhan parvat ko apanee kaanee ungalee par uṭhaa liyaa. Isake baad sab ko apane gaay sahit parvat ke neeche sharaṇa lene ko kahaa.

Isase indr dev aur adhik krodhit ho gae tathaa varṣaa kee gati aur tej kar dee. Indr kaa abhimaan choor karane ke lie tab shree kriṣṇa ne sudarshan chakr se kahaa ki aap parvat ke oopar rahakar varṣaa kee gati ko niyntrit karane ko aur sheṣanaag se mend banaakar parvat kee or paanee aane se rokane ko kahaa. Indr dev lagaataar raat- din moosalaadhaar varṣaa karate rahe. Kaafee samay beet jaane ke baad unhen ehasaas huaa ki kriṣṇa koii saadhaaraṇa manuṣy naheen hain.

Tab vah brahmaa jee ke paas gae tab unhen gyaat huaa kee shreekriṣṇa koii aur naheen svayn shree hari viṣṇau ke avataar hain. Itanaa sunate hee vah shree kriṣṇa ke paas jaakar unase kṣamaa yaachanaa karane lagen. Isake baad devaraaj indr ne kriṣṇa kee poojaa kee aur unhen bhog lagaayaa. Tabhee se govardhan poojaa kee parnparaa kaayam hai. Maanyataa hai ki is din govardhan parvat aur gaayon kee poojaa karane se bhagavaan kriṣṇa prasann hote hain.

 

Comments

comments