Saturday , 24 February 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Vrat & Festivals » जीवित पुत्रिका व्रत – JIVIT PUTRIKA VRAT

जीवित पुत्रिका व्रत – JIVIT PUTRIKA VRAT

%E0%A4%9C%E0%A5%80%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%AA%E0%A5%81%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%B5%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%A4-jivit-putrika-vrat

%E0%A4%9C%E0%A5%80%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%AA%E0%A5%81%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%B5%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%A4-jivit-putrika-vrat

आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को जीवित पुत्रिका के रूप में मनाते हैं| इस व्रत को करने से पुत्र शोक नहीं होता| इस व्रत का स्त्री समाज में बहुत ही महत्व है| इस व्रत में सूर्य नारायण की पूजा की जाती है|

विधि:

स्वयं स्नान करके भगवान सूर्य नारायण की प्रतिमा को स्नान करायें| धूप, दीप आदि से आरती करे एवं भोग लगावें| इस दिन बाजरा  से मिश्रित पदार्थ भोग में लगाये जाते हैं|

श्री सूर्यनारायण जी की आरती:

जय जय जय रविदेव, जय जय जय रविदेव |
रजनीपति मदहारी, शतदल जीवनदाता |
षटपत मन मुदकारी, हे दिनमणि ! ताता |
जग के हे रविदेव,जय जय जय रविदेव
नभमण्डल के वासी,ज्योति प्रकाशक देवा |

निज जनहित सुखरासी, तेरी हमसब सेवा |
करते हैं रविदेव, जय जय जय रविदेव |
कनक बदन मन मोहित, रुचिर प्रभा प्यारी |
निज मंडल से मंडित, अजर अमर छविधारी
हे सुरवर रविदेव जय जय जय रविदेव

 

Comments

comments