Wednesday , 17 January 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » धनतेरस  Dhanteras

धनतेरस  Dhanteras

%E0%A4%A7%E0%A4%A8%E0%A4%A4%E0%A5%87%E0%A4%B0%E0%A4%B8-dhanteras

%E0%A4%A7%E0%A4%A8%E0%A4%A4%E0%A5%87%E0%A4%B0%E0%A4%B8-dhanteras

Dhanteras

Dhanteras

हिन्दू समाज में धनतेरस सुख-समृद्धि, यश और वैभव का पर्व माना जाता है। इस दिन धन के देवता कुबेर और आयुर्वेद के देव धन्वंतरि की पूजा का बड़ा महत्त्व है। हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि को मनाए जाने वाले इस महापर्व के बारे में स्कन्द पुराण में लिखा है कि इसी दिन देवताओं के वैद्य धन्वंतरि अमृत कलश सहित सागर मंथन से प्रकट हुए थे, जिस कारण इस दिन धनतेरस के साथ-साथ धन्वंतरि जयंती भी मनाई जाती है।

धनतेरस के दिन खरीददारी (Shoping on Dhanteras in Hindi)

नई चीजों के शुभ आगमन के इस पर्व में मुख्य रूप से नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदने की परंपरा है। आस्थावान भक्तों के अनुसार चूंकि जन्म के समय धन्वंतरि जी के हाथों में अमृत का कलश था, इसलिए इस दिन बर्तन खरीदना अति शुभ होता है। विशेषकर पीतल के बर्तन खरीदना बेहद शुभ माना जाता है।
धनतेरस कथा (Dhanteras Katha in Hindi)
कहा जाता है कि इसी दिन यमराज से राजा हिम के पुत्र की रक्षा उसकी पत्नी ने किया था, जिस कारण दीपावली से दो दिन पहले मनाए जाने वाले ऐश्वर्य का त्यौहार धनतेरस पर सायंकाल को यम देव के निमित्त दीपदान किया जाता है। इस दिन को यमदीप दान भी कहा जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज के कोप से सुरक्षा मिलती है और पूरा परिवार स्वस्थ रहता है। इस दिन घरों को साफ-सफाई, लीप-पोत कर स्वच्छ और पवित्र बनाया जाता है और फिर शाम के समय रंगोली बना दीपक जलाकर धन और वैभव की देवी मां लक्ष्मी का आवाहन किया जाता है।

[To English wish4me]

Hindoo samaaj men dhanateras sukh-samriddhi, yash aur vaibhav kaa parv maanaa jaataa hai. Is din dhan ke devataa kuber aur aayurved ke dev dhanvntari kee poojaa kaa badaa mahattv hai. Hindoo pnchaang ke anusaar kaartik maas kee trayodashee tithi ko manaae jaane vaale is mahaaparv ke baare men skand puraaṇa men likhaa hai ki isee din devataaon ke vaidy dhanvntari amrit kalash sahit saagar mnthan se prakaṭ hue the, jis kaaraṇa is din dhanateras ke saath-saath dhanvntari jayntee bhee manaaii jaatee hai.

Dhanateras ke din khareedadaaree (shoping on dhanteras in english)

naii cheejon ke shubh aagaman ke is parv men mukhy roop se nae bartan yaa sonaa-chaandee khareedane kee parnparaa hai. Aasthaavaan bhakton ke anusaar choonki janm ke samay dhanvntari jee ke haathon men amrit kaa kalash thaa, isalie is din bartan khareedanaa ati shubh hotaa hai. Visheṣakar peetal ke bartan khareedanaa behad shubh maanaa jaataa hai.

Dhanateras kathaa (dhanteras katha in english)

kahaa jaataa hai ki isee din yamaraaj se raajaa him ke putr kee rakṣaa usakee patnee ne kiyaa thaa, jis kaaraṇa deepaavalee se do din pahale manaa_e jaane vaale aishvary kaa tyauhaar dhanateras par saaynkaal ko yam dev ke nimitt deepadaan kiyaa jaataa hai. Is din ko yamadeep daan bhee kahaa jaataa hai. Maanyataa hai ki aisaa karane se yamaraaj ke kop se surakṣaa milatee hai aur pooraa parivaar svasth rahataa hai. Is din gharon ko saaf-safaa_ii, leep-pot kar svachchh aur pavitr banaayaa jaataa hai aur fir shaam ke samay rngolee banaa deepak jalaakar dhan aur vaibhav kee devee maan lakṣmee kaa aavaahan kiyaa jaataa hai.

Comments

comments