Friday , 19 January 2018
Latest Happenings
Home » Do you Know? » भगवान शिव ने क्यों किया था चंद्र को मस्तक पर धारण

भगवान शिव ने क्यों किया था चंद्र को मस्तक पर धारण

%E0%A4%AD%E0%A4%97%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%B6%E0%A4%BF%E0%A4%B5-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%A5%E0%A4%BE

%E0%A4%AD%E0%A4%97%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%B6%E0%A4%BF%E0%A4%B5-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%A5%E0%A4%BE

पौराणिक कथानुसार चंद्र का विवाह दक्ष प्रजापति की 27 नक्षत्र कन्याओं के साथ संपन्न हुआ। चंद्र की सभी पत्नियों में रोहिणी बहुत खूबसूरत थीं। इसलिए चंद्र का रोहिणी से ज्यादा लगाव था। चंद्र का रोहिणी पर अधिक स्नेह देख शेष कन्याओं ने अपने पिता दक्ष से अपना दु:ख प्रकट किया।
दक्ष स्वभाव से ही क्रोधी प्रवृत्ति के थे और उन्होंने क्रोध में आकर चंद्र को श्राप दिया कि तुम क्षय रोग से ग्रस्त हो जाओगे। धीरे-धीरे चंद्र क्षय रोग से ग्रसित होने लगे और उनकी कलाएं क्षीण होने लगी। नारदजी ने उन्हें मृत्युंजय भगवान शिव की आराधना करने को कहा, तत्पश्चात उन्होंने भगवान शिव की आराधना की।चंद्र की आराधना से प्रसन्न भगवान शिव ने प्रदोषकाल में चंद्र को पुनर्जीवन का वरदान देकर उसे अपने मस्तक पर धारण कर लिया था अर्थात चंद्र मृत्युतुल्य होते हुए भी मृत्यु को प्राप्त नहीं हुए। चंद्र क्षय रोग से पीड़ित होकर मृत्युतुल्य कष्टों को भोग रहे थे। भगवान शिव ने उस दोष का निवारण कर उन्हें पुन:जीवन प्रदान किया पुन: धीरे-धीरे चंद्र स्वस्थ होने लगे और पूर्णमासी पर पूर्ण चंद्र के रूप में प्रकट हुए।


 

pauraanik kathaanusaar chandr ka vivaah daksh prajaapati kee 27 nakshatr kanyaon ke saath sampann hua. chandr kee sabhee patniyon mein rohinee bahut khoobasoorat theen. isalie chandr ka rohinee se jyaada lagaav tha. chandr ka rohinee par adhik sneh dekh shesh kanyaon ne apane pita daksh se apana du: kh prakat kiya.
daksh svabhaav se hee krodhee pravrtti ke the aur unhonne krodh mein aakar chandr ko shraap diya ki tum kshay rog se grast ho jaoge. dheere-dheere chandr kshay rog se grasit hone lage aur unakee kalaen ksheen hone lagee. naaradajee ne unhen mrtyunjay bhagavaan shiv kee aaraadhana karane ko kaha, tatpashchaat unhonne bhagavaan shiv kee aaraadhana kee.chandr kee aaraadhana se prasann bhagavaan shiv ne pradoshakaal mein chandr ko punarjeevan ka varadaan dekar use apane mastak par dhaaran kar liya tha arthaat chandr mrtyutuly hote hue bhee mrtyu ko praapt nahin hue. chandr kshay rog se peedit hokar mrtyutuly kashton ko bhog rahe the. bhagavaan shiv ne us dosh ka nivaaran kar unhen pun: jeevan pradaan kiya pun: dheere-dheere chandr svasth hone lage aur poornamaasee par poorn chandr ke roop mein prakat hue.

Comments

comments