Friday , 19 January 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Pooja Paath » भाई दूज Bhai Dooj

भाई दूज Bhai Dooj

%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%88-%E0%A4%A6%E0%A5%82%E0%A4%9C-bhai-dooj

%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%88-%E0%A4%A6%E0%A5%82%E0%A4%9C-bhai-dooj

Bhai Dooj

Bhai Dooj

भाई दूज, भाई- बहन के अटूट प्रेम और स्नेह का प्रतीक माना जाता है, जिसे यम द्वितीया या भैया दूज (Bhaiya Dooj) भी कहते हैं। यह हिन्दू धर्म के प्रमुख त्यौहारों में से एक है, जिसे कार्तिक माह की शुक्ल द्वितीया को मनाया जाता है।

भाई दूज पूजा विधि (Bhai Dooj Puja Vidhi)

भाई दूज के दिन बहनों को भाई के माथे पर टीका लगा उसकी लंबी उम्र की कामना करनी चाहिए। इस दिन सुबह पहले स्नान करके विष्णु और गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। इसके उपरांत भाई को तिलक लगाना चाहिए।

स्कंदपुराण के अनुसार इस दिन भाई को बहन के घर जाकर भोजन करने का विधान है। अगर बहन की शादी ना हुई हो तो उसके हाथों का बना भोजन करना चाहिए। अपनी सगी बहन न होने पर चाचा, भाई, मामा आदि की पुत्री अथवा पिता की बहन के घर जाकर भोजन करना चाहिए। साथ ही भोजन करने के पश्चात बहन को गहने, वस्त्र आदि उपहार स्वरूप देना चाहिए। इस दिन यमुनाजी में स्नान का विशेष महत्व है।

भाई दूज की मान्यता (Believe of Bhai Dooj in Hindi)

मान्यता है कि कार्तिक शुक्ल द्वितीय को जो भाई अपनी बहन का आतिथ्य स्वीकार करते हैं उन्हें यमराज का भय नहीं रहता।

[To English Wish4me ]

Bhaaii dooj, bhaaii- bahan ke aṭooṭ prem aur sneh kaa prateek maanaa jaataa hai, jise yam dviteeyaa yaa bhaiyaa dooj (bhaiya dooj) bhee kahate hain. Yah hindoo dharm ke pramukh tyauhaaron men se ek hai, jise kaartik maah kee shukl dviteeyaa ko manaayaa jaataa hai.

Bhaaii dooj poojaa vidhi (bhai dooj puja idhi)

bhaaii dooj ke din bahanon ko bhaaii ke maathe par ṭeekaa lagaa usakee lnbee umr kee kaamanaa karanee chaahie. Is din subah pahale snaan karake viṣṇau aur gaṇaesh jee kee poojaa karanee chaahie. Isake uparaant bhaaii ko tilak lagaanaa chaahie. Skndapuraaṇa ke anusaar is din bhaaii ko bahan ke ghar jaakar bhojan karane kaa vidhaan hai. Agar bahan kee shaadee naa huii ho to usake haathon kaa banaa bhojan karanaa chaahie. Apanee sagee bahan n hone par chaachaa, bhaaii, maamaa aadi kee putree athavaa pitaa kee bahan ke ghar jaakar bhojan karanaa chaahie. Saath hee bhojan karane ke pashchaat bahan ko gahane, vastr aadi upahaar svaroop denaa chaahie. Is din yamunaajee men snaan kaa visheṣ mahatv hai.

Bhaaii dooj kee maanyataa (believe of bhai dooj in English)

maanyataa hai ki kaartik shukl dviteey ko jo bhaaii apanee bahan kaa aatithy sveekaar karate hain unhen yamaraaj kaa bhay naheen rahataa.

 

Comments

comments