Monday , 17 April 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » मंदबुद्धि बालक विद्वान वरदराज की कथा

मंदबुद्धि बालक विद्वान वरदराज की कथा

मंदबुद्धि-बालक-विद्वान-व

मंदबुद्धि-बालक-विद्वान-व

varadraaj-story

varadraaj-story

विद्यालय में वह मंदबुद्धि कहलाता था। उसके अध्यापक उससे नाराज रहते थे। क्योंकि उसकी बुद्धि का स्तर औसत से भी कम था। कक्षा में उसका प्रदर्शन सदैव निराशाजनक ही रहता था। अपने सहपाठियों के मध्य वो उपहास का विषय था। विद्यालय में जैसे ही वह प्रवेश करता, चारों ओर से उस पर व्यंग बाणों की बौछार सी होने लगती। इन सब बातों से परेशान होकर उसने विद्यालय आना ही छोड़ दिया। एक दिन वह मार्ग में निरर्थक ही भ्रमण कर रहा था। धूमते हुए उसे जोरों की प्यास लगी। वह इधर उधर पानी खोजने लगा। अंत में उसे एक कुआं दिखाई दिया। वह वहां गया और प्यास बुझाई। वह काफी थक चुका था, इसलिए पानी पीने के बाद वहीं बैठ गया। उसकी दृष्टि पत्थर पर पड़े उस निशान पर गई जिस पर बार बार कुएं से पानी निकालने के कारण रस्सी के निशान पड़ गए थे। वह मन ही मन विचार करने लगा कि जब बार बार पानी खींचने से इतने कठोर पत्थर पर रस्सी के निशान पड़ सकते है तो निरंतर अभ्यास से मुझे भी विद्या आ सकती है। उसने यह विचार गांठ में बांध लिया और पुन: विद्यालय जाना आरंभ कर दिया। उसकी लगन देखकर अध्यापकों ने बी उसे सहयोह किया। उसने मन लगाकर अथक परिश्रम किया। कुछ सालों बाद यही विद्यार्थी उद्भट विद्वान वरदराज के रूप में विख्यात हुआ। जिसने संस्कृत में मुग्धबोध और लघु सिद्धांत कौमुदी जैसे ग्रंथों की रचना की।
आशय यह है कि दुर्बलताएं अपराजेय नहीं होती। यदि धैर्य, परिश्रम और लगन से कार्य किया जाए तो उन पर विजय प्राप्त कर प्रशंसनीय लक्ष्यों की प्राप्ति की जा सकती है।

In English

vidyaalay mein vah mandabuddhi kahalaata tha. usake adhyaapak usase naaraaj rahate the. kyonki usakee buddhi ka star ausat se bhee kam tha. kaksha mein usaka pradarshan sadaiv niraashaajanak hee rahata tha. apane sahapaathiyon ke madhy vo upahaas ka vishay tha. vidyaalay mein jaise hee vah pravesh karata, chaaron or se us par vyang baanon kee bauchhaar see hone lagatee. in sab baaton se pareshaan hokar usane vidyaalay aana hee chhod diya. ek din vah maarg mein nirarthak hee bhraman kar raha tha. dhoomate hue use joron kee pyaas lagee. vah idhar udhar paanee khojane laga. ant mein use ek kuaan dikhaee diya. vah vahaan gaya aur pyaas bujhaee. vah kaaphee thak chuka tha, isalie paanee peene ke baad vaheen baith gaya. usakee drshti patthar par pade us nishaan par gaee jis par baar baar kuen se paanee nikaalane ke kaaran rassee ke nishaan pad gae the. vah man hee man vichaar karane laga ki jab baar baar paanee kheenchane se itane kathor patthar par rassee ke nishaan pad sakate hai to nirantar abhyaas se mujhe bhee vidya aa sakatee hai. usane yah vichaar gaanth mein baandh liya aur pun: vidyaalay jaana aarambh kar diya. usakee lagan dekhakar adhyaapakon ne bee use sahayoh kiya. usane man lagaakar athak parishram kiya. kuchh saalon baad yahee vidyaarthee udbhat vidvaan varadaraaj ke roop mein vikhyaat hua. jisane sanskrt mein mugdhabodh aur laghu siddhaant kaumudee jaise granthon kee rachana kee.
aashay yah hai ki durbalataen aparaajey nahin hotee. yadi dhairy, parishram aur lagan se kaary kiya jae to un par vijay praapt kar prashansaneey lakshyon kee praapti kee ja sakatee hai.

Comments

comments