Monday , 17 April 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » शिवजी की प्रतिमा के सामने नंदीजी की मूर्ति स्थापित करने की कथा

शिवजी की प्रतिमा के सामने नंदीजी की मूर्ति स्थापित करने की कथा

शिवजी-की-प्रतिमा-के-सामने

शिवजी-की-प्रतिमा-के-सामने

nandi-story-shiv

शिव की मूर्ति के सामने या उनके मंदिर के बाहर शिव के वाहन नंदी की मूर्ति स्थापित होती है। नंदी बैल को पुराणों में भी विशेष स्थान दिया गया है। नंदी अपने ईश्वर शिव का केवल एक वाहन ही नहीं बल्कि उनके परम भक्त होने के साथ-साथ उनके साथी, उनके गणों में सबसे ऊपर और उनके मित्र भी हैं।
कथा के अनुसार शिलाद मुनि के ब्रह्मचारी हो जाने के कारण वंश समाप्त होता देख उनके पितरों ने अपनी चिंता उनसे व्यक्त की। मुनि योग और तप आदि में व्यस्त रहने के कारण गृहस्थाश्रम नहीं अपनाना चाहते थे। शिलाद मुनि ने संतान की कामना से इंद्र देव को तप से प्रसन्न कर जन्म और मृत्यु से हीन पुत्र का वरदान माँगा। परन्तु इंद्र ने यह वरदान देने में असर्मथता प्रकट की और भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए कहा। भगवान शंकर शिलाद मुनि के कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर स्वयं शिलाद के पुत्र रूप में प्रकट होने का वरदान दिया और नंदी के रूप में प्रकट हुए। शंकर के वरदान से नंदी मृत्यु से भय मुक्त, अजर-अमर हो गए। भगवान शंकर ने उमा की सम्मति से संपूर्ण गणों, गणेशों व वेदों के समक्ष गणों के अधिपति के रूप में नंदी का अभिषेक करवाया। इस तरह नंदी नंदीश्वर हो गए। बाद में मरुतों की पुत्री सुयशा के साथ नंदी का विवाह हुआ। भगवान शंकर ने नंदी को वरदान दिया कि जहाँ पर नंदी का निवास होगा वहाँ उनका भी निवास होगा। तभी से हर शिव मंदिर में शिवजी के सामने नंदी की स्थापना की जाती है।

🌼🌼🌼🌼नंदी के दर्शन और महत्त्व🌼🌼🌼🌼🌼🌼

ऐसा माना जाता है कि शिव तो हमेशा ध्यान में लीन होते हैं, वह हमेशा समाधि में रहते हैं इसलिए उनके भक्तों की आवाज उन तक नंदी ही पहुंचाते हैं। नंदी के कान में की गई प्रार्थना नंदी की अपने स्वामी से प्रार्थना बन जाती है और वह शिव को इसे पूरा करने के लिए कहते हैं। नंदी की प्रार्थना शिव कभी अनसुनी नहीं करते इसलिए वह जल्दी पूरी हो जाती है।नंदी के नेत्र सदैव अपने इष्ट को स्मरण रखने का प्रतीक हैं, क्योंकि नेत्रों से ही उनकी छवि मन में बसती है और यहीं से भक्ति की शुरुआत होती है। नंदी के नेत्र हमें ये बात सिखाते हैं कि अगर भक्ति के साथ मनुष्य में क्रोध, अहम व दुर्गुणों को पराजित करने का सामर्थ्य न हो तो भक्ति का लक्ष्य प्राप्त नहीं होता।

shiv kee moorti ke saamane ya unake mandir ke baahar shiv ke vaahan nandee kee moorti sthaapit hotee hai. nandee bail ko puraanon mein bhee vishesh sthaan diya gaya hai. nandee apane eeshvar shiv ka keval ek vaahan hee nahin balki unake param bhakt hone ke saath-saath unake saathee, unake ganon mein sabase oopar aur unake mitr bhee hain.
katha ke anusaar shilaad muni ke brahmachaaree ho jaane ke kaaran vansh samaapt hota dekh unake pitaron ne apanee chinta unase vyakt kee. muni yog aur tap aadi mein vyast rahane ke kaaran grhasthaashram nahin apanaana chaahate the. shilaad muni ne santaan kee kaamana se indr dev ko tap se prasann kar janm aur mrtyu se heen putr ka varadaan maanga. parantu indr ne yah varadaan dene mein asarmathata prakat kee aur bhagavaan shiv ko prasann karane ke lie kaha. bhagavaan shankar shilaad muni ke kathor tapasya se prasann hokar svayan shilaad ke putr roop mein prakat hone ka varadaan diya aur nandee ke roop mein prakat hue. shankar ke varadaan se nandee mrtyu se bhay mukt, ajar-amar ho gae. bhagavaan shankar ne uma kee sammati se sampoorn ganon, ganeshon va vedon ke samaksh ganon ke adhipati ke roop mein nandee ka abhishek karavaaya. is tarah nandee nandeeshvar ho gae. baad mein maruton kee putree suyasha ke saath nandee ka vivaah hua. bhagavaan shankar ne nandee ko varadaan diya ki jahaan par nandee ka nivaas hoga vahaan unaka bhee nivaas hoga. tabhee se har shiv mandir mein shivajee ke saamane nandee kee sthaapana kee jaatee hai.

🌼🌼🌼🌼nandee ke darshan aur mahattv🌼🌼🌼🌼🌼🌼

aisa maana jaata hai ki shiv to hamesha dhyaan mein leen hote hain, vah hamesha samaadhi mein rahate hain isalie unake bhakton kee aavaaj un tak nandee hee pahunchaate hain. nandee ke kaan mein kee gaee praarthana nandee kee apane svaamee se praarthana ban jaatee hai aur vah shiv ko ise poora karane ke lie kahate hain. nandee kee praarthana shiv kabhee anasunee nahin karate isalie vah jaldee pooree ho jaatee hai.nandee ke netr sadaiv apane isht ko smaran rakhane ka prateek hain, kyonki netron se hee unakee chhavi man mein basatee hai aur yaheen se bhakti kee shuruaat hotee hai. nandee ke netr hamen ye baat sikhaate hain ki agar bhakti ke saath manushy mein krodh, aham va durgunon ko paraajit karane ka saamarthy na ho to bhakti ka lakshy praapt nahin hota.

 

Comments

comments