Monday , 18 December 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » सती सावित्री की जय हो

सती सावित्री की जय हो

%E0%A4%B8%E0%A4%A4%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%9C%E0%A4%AF-%E0%A4%B9%E0%A5%8B

%E0%A4%B8%E0%A4%A4%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%9C%E0%A4%AF-%E0%A4%B9%E0%A5%8B

sati-savitri-aur-yamraaj

sati-savitri-aur-yamraaj

प्राचीन काल में मद्र देश में अश्वपति नाम के एक राजा राज्य करते थे। वे बड़े धर्मात्मा, ब्राह्मणभक्त, सत्यवादी और जितेन्द्रिय थे। राजा के काई संतान नहीं थी। इसलिए उन्होंने संतान प्राप्ति की कामना से अठारह वर्षों तक सावित्री देवी की कठोर तपस्या की। देवी ने एक तेजस्विनी कन्या की प्राप्ति का वर दिया। राजा की बड़ी रानी के गर्भ से एक सुंदर कन्या ने जन्म लिया। राजा ने कन्या का नाम सावित्री रखा। धीरे- धीरे कन्या ने युवावस्था में प्रवेश किया। सावित्री के रूप-लावण्य को जो भी देखता उस पर मोहित हो जाता।
राजा के विशेष प्रयास करने पर भी सावित्री के योग्य कोई वर नहीं मिला। उन्होंने एक दिन सावित्री से कहा- बेटी अब तुम विवाह के योग्य हो गई हो, इसलिए स्वयं अपने योग्य वर की खोज करो। सावित्री योग्य मंत्रियों के साथ रथ पर बैठकर यात्रा के लिए निकली। कुछ दिनों तक ब्रह्मर्षियों और राजर्षियों के तपोवनों और तीर्थों में भ्रमण करने के बाद वे राजमहल में लौट आई। उसने पिता के साथ देवर्षि नारद को बैठे देखकर उन दोनों के चरणों में श्रद्धा से प्रणाम किया।
अपने वर की खोज में जाते समय उसने निर्वासित और वनवासी राजा द्युमत्सेन के पुत्र सत्यवान को पतिरूप में स्वीकार कर लिया। जब देवर्षि नारद ने उनसे कहा कि सत्यवान की आयु केवल एक वर्ष की ही शेष है तो सावित्री ने बडी दृढता के साथ कहा- जो कुछ होना था सो तो हो चुका। माता-पिता ने भी बहुत समझाया, परन्तु सती अपने धर्म से नहीं डिगी!
सावित्री का सत्यवान के साथ विवाह हो गया। सत्यवान बडे धर्मात्मा, माता-पिता के भक्त एवं सुशील थे। सावित्री राजमहल छोडकर जंगल की कुटिया में आ गयी। आते ही उसने सारे वस्त्राभूषणों को त्यागकर सास-ससुर और पति जैसे वल्कल के वस्त्र पहनते थे वैसे ही पहन लिये और अपना सारा समय अपने अन्धे सास-ससुर की सेवा में बिताने लगी। सत्यवान की मृत्यु का दिन निकट आ पहुँचा।
सत्यवान कुल्हाडी उठाकर जंगल की तरफ लकडियां काटने चले। सावित्री ने भी साथ चलने के लिये अत्यन्त आग्रह किया। सत्यवान की स्वीकृति पाकर और सास-ससुर से आज्ञा लेकर सावित्री भी पति के साथ वन में गयी। सत्यवान लकडियां काटने वृक्षपर चढे, परन्तु तुरंत ही उन्हें चक्कर आने लगा और वे कुल्हाडी फेंककर नीचे उतर आये। पति का सिर अपनी गोद में रखकर सावित्री उन्हें अपने आंचल से हवा करने लगी।
थोडी देर में ही उसने भैंसे पर चढे हुए, काले रंग के सुन्दर अंगोंवाले, हाथ में फांसी की डोरी लिये हुए, सूर्य के समान तेजवाले एक भयंकर देव-पुरुष को देखा। उसने सत्यवान के शरीर से फांसी की डोरी में बंधे हुए अंगूठे के बराबर पुरुष को बलपूर्वक खींच लिया। सावित्री ने अत्यन्त व्याकुल होकर आर्त स्वर में पूछा- हे देव! आप कौन हैं और मेरे इन हृदयधन को कहां ले जा रहे हैं? उस पुरुष ने उत्तर दिया- हे तपस्विनी! तुम पतिव्रता हो, अत: मैं तुम्हें बताता हूं कि मैं यम हूं और आज तुम्हारे पति सत्यवान की आयु क्षीण हो गयी है, अत: मैं उसे बांधकर ले जा रहा हूँ। तुम्हारे सतीत्व के तेज के सामने मेरे दूत नहीं आ सके, इसलिये मैं स्वयं आया हूँ। यह कहकर यमराज दक्षिण दिशा की तरफ चल पडे।
सावित्री भी यम के पीछे-पीछे जाने लगी। यम ने बहुत मना किया। सावित्री ने कहा- जहां मेरे पतिदेव जाते हैं वहां मुझे जाना ही चाहिये। यह सनातन धर्म है। यम बार-बार मना करते रहे, परन्तु सावित्री पीछे-पीछे चलती गयी। उसकी इस दृढ निष्ठा और पातिव्रतधर्म से प्रसन्न होकर यम ने एक-एक करके वररूप में सावित्री के अंधे सास-ससुर को आंखें दीं, खोया हुआ राज्य दिया, उसके पिता को सौ पुत्र दिये और सावित्री को लौट जाने को कहा। परंतु सावित्री के प्राण तो यमराज लिये जा रहे थे, वह लौटती कैसे? यमराज ने फिर कहा कि सत्यवान को छोडकर चाहे जो मांग लो, सावित्री ने कहा-यदि आप प्रसन्न हैं तो मुझे सत्यवान से सौ पुत्र प्रदान करें। यम ने बिना ही सोचे प्रसन्न मन से तथास्तु कह दिया। वचनबद्ध यमराज आगे बढे। सावित्री ने कहा- मेरे पति को आप लिये जा रहे हैं और मुझे सौ पुत्रों का वर दिये जा रहे हैं। यह कैसे सम्भव है? मैं पति के बिना सुख, स्वर्ग और लक्ष्मी, किसी की भी कामना नहीं करती। बिना पति मैं जिना भी नहीं चाहती।
वचनबद्ध यमराज ने सत्यवान् के सूक्ष्म शरीर को पाशमुक्त करके सावित्री को लौटा दिया और सत्यवान को चार सौ वर्ष की नवीन आयु प्रदान की।

In English

praacheen kaal mein madr desh mein ashvapati naam ke ek raaja raajy karate the. ve bade dharmaatma, braahmanabhakt, satyavaadee aur jitendriy the. raaja ke kaee santaan nahin thee. isalie unhonne santaan praapti kee kaamana se athaarah varshon tak saavitree devee kee kathor tapasya kee. devee ne ek tejasvinee kanya kee praapti ka var diya. raaja kee badee raanee ke garbh se ek sundar kanya ne janm liya. raaja ne kanya ka naam saavitree rakha. dheere- dheere kanya ne yuvaavastha mein pravesh kiya. saavitree ke roop-laavany ko jo bhee dekhata us par mohit ho jaata.
raaja ke vishesh prayaas karane par bhee saavitree ke yogy koee var nahin mila. unhonne ek din saavitree se kaha- betee ab tum vivaah ke yogy ho gaee ho, isalie svayan apane yogy var kee khoj karo. saavitree yogy mantriyon ke saath rath par baithakar yaatra ke lie nikalee. kuchh dinon tak brahmarshiyon aur raajarshiyon ke tapovanon aur teerthon mein bhraman karane ke baad ve raajamahal mein laut aaee. usane pita ke saath devarshi naarad ko baithe dekhakar un donon ke charanon mein shraddha se pranaam kiya.
apane var kee khoj mein jaate samay usane nirvaasit aur vanavaasee raaja dyumatsen ke putr satyavaan ko patiroop mein sveekaar kar liya. jab devarshi naarad ne unase kaha ki satyavaan kee aayu keval ek varsh kee hee shesh hai to saavitree ne badee drdhata ke saath kaha- jo kuchh hona tha so to ho chuka. maata-pita ne bhee bahut samajhaaya, parantu satee apane dharm se nahin digee!
saavitree ka satyavaan ke saath vivaah ho gaya. satyavaan bade dharmaatma, maata-pita ke bhakt evan susheel the. saavitree raajamahal chhodakar jangal kee kutiya mein aa gayee. aate hee usane saare vastraabhooshanon ko tyaagakar saas-sasur aur pati jaise valkal ke vastr pahanate the vaise hee pahan liye aur apana saara samay apane andhe saas-sasur kee seva mein bitaane lagee. satyavaan kee mrtyu ka din nikat aa pahuncha.
satyavaan kulhaadee uthaakar jangal kee taraph lakadiyaan kaatane chale. saavitree ne bhee saath chalane ke liye atyant aagrah kiya. satyavaan kee sveekrti paakar aur saas-sasur se aagya lekar saavitree bhee pati ke saath van mein gayee. satyavaan lakadiyaan kaatane vrkshapar chadhe, parantu turant hee unhen chakkar aane laga aur ve kulhaadee phenkakar neeche utar aaye. pati ka sir apanee god mein rakhakar saavitree unhen apane aanchal se hava karane lagee.
thodee der mein hee usane bhainse par chadhe hue, kaale rang ke sundar angonvaale, haath mein phaansee kee doree liye hue, soory ke samaan tejavaale ek bhayankar dev-purush ko dekha. usane satyavaan ke shareer se phaansee kee doree mein bandhe hue angoothe ke baraabar purush ko balapoorvak kheench liya. saavitree ne atyant vyaakul hokar aart svar mein poochha- he dev! aap kaun hain aur mere in hrdayadhan ko kahaan le ja rahe hain? us purush ne uttar diya- he tapasvinee! tum pativrata ho, at: main tumhen bataata hoon ki main yam hoon aur aaj tumhaare pati satyavaan kee aayu ksheen ho gayee hai, at: main use baandhakar le ja raha hoon. tumhaare sateetv ke tej ke saamane mere doot nahin aa sake, isaliye main svayan aaya hoon. yah kahakar yamaraaj dakshin disha kee taraph chal pade.
saavitree bhee yam ke peechhe-peechhe jaane lagee. yam ne bahut mana kiya. saavitree ne kaha- jahaan mere patidev jaate hain vahaan mujhe jaana hee chaahiye. yah sanaatan dharm hai. yam baar-baar mana karate rahe, parantu saavitree peechhe-peechhe chalatee gayee. usakee is drdh nishtha aur paativratadharm se prasann hokar yam ne ek-ek karake vararoop mein saavitree ke andhe saas-sasur ko aankhen deen, khoya hua raajy diya, usake pita ko sau putr diye aur saavitree ko laut jaane ko kaha. parantu saavitree ke praan to yamaraaj liye ja rahe the, vah lautatee kaise? yamaraaj ne phir kaha ki satyavaan ko chhodakar chaahe jo maang lo, saavitree ne kaha-yadi aap prasann hain to mujhe satyavaan se sau putr pradaan karen. yam ne bina hee soche prasann man se tathaastu kah diya. vachanabaddh yamaraaj aage badhe. saavitree ne kaha- mere pati ko aap liye ja rahe hain aur mujhe sau putron ka var diye ja rahe hain. yah kaise sambhav hai? main pati ke bina sukh, svarg aur lakshmee, kisee kee bhee kaamana nahin karatee. bina pati main jina bhee nahin chaahatee.
vachanabaddh yamaraaj ne satyavaan ke sookshm shareer ko paashamukt karake saavitree ko lauta diya aur satyavaan ko chaar sau varsh kee naveen aayu pradaan kee.

Comments

comments