Monday , 19 June 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Vrat & Festivals » होली

होली

होली

होली

66होली एक रंगबिरंगा मस्ती भरा पर्व है। इस दिन सारे लोग अपने पुराने गिलेशिकवे भूल कर गले लगते हैं और एक दूजे को गुलाल लगाते हैं। बच्चे और युवा रंगों से खेलते हैं।

फाल्गुन मास की पुर्णिमा को यह त्योहार मनाया जाता है। होली के साथ अनेक कथाएं जुड़ीं हैं। होली मनाने के एक रात पहले होली को जलाया जाता है। इसके पीछे एक लोकप्रिय पौराणिक कथा है।

होली भारत का प्रमुख त्योहार है। होली जहाँ एक ओर सामाजिक एवं धार्मिक त्योहार है, वहीं रंगों का भी त्योहार है। बाल-वृद्ध, नर-नारी सभी इसे बड़े उत्साह से मनाते हैं। इसमें जातिभेद-वर्णभेद का कोई स्थान नहीं होता। इस अवसर पर लकड़ियों तथा कंडों आदि का ढेर लगाकर होलिकापूजन किया जाता है फिर उसमें आग लगायी जाती है। पूजन के समय मंत्र उच्चारण किया जाता है।

65यह त्यौहार हिरण्यकश्यप की बहन होलिका के मारे जाने की स्मृति में मनाया जाता है. पुराणों के अनुसार प्राचीन समय में हिरण्यकश्यप नामक एक असुर था जो भगवान विष्णु का कट्टर दुश्मन माना जाता था लेकिन उसका खुद का पुत्र प्रह्लाद विष्णु जी का सबसे बड़ा भक्त था. अपने बेटे को अपने विरुद्ध देख हिरण्यकश्यप ने उसे मारने की योजना बनाई. हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका जिसे आग में ना जलने का वरदान प्राप्त था उसके साथ मिलकर प्रह्लाद को मार देने का निश्चय किया. लेकिन जैसे हिरण्यकश्यप ने सोचा था हुआ बिलकुल ठीक उसके उलट. होलिका प्रह्लाद के साथ अग्नि में बैठ गई लेकिन आग की लपटों से झुलस होलिका की ही मृत्यु हो गई और प्रह्लाद बच गए. तभी से इस त्योहार के मनाने की प्रथा चल पड़ी.
यह कथा इस बात का संकेत करती है की बुराई पर अच्छाई की जीत अवश्य होती है। आज भी पूर्णिमा को होली जलाते हैं, और अगले दिन सब लोग एक दूसरे पर गुलाल, अबीर और तरह-तरह के रंग डालते हैं। यह त्योहार रंगों का त्योहार है। इस दिन लोग प्रात:काल उठकर रंगों को लेकर अपने नाते-रिश्तेदारों व मित्रों के घर जाते हैं और उनके साथ जमकर होली खेलते हैं। बच्चों के लिए तो यह त्योहार विशेष महत्व रखता है। वह एक दिन पहले से ही बाजार से अपने लिए तरह-तरह की पिचकारियां व गुब्बारे लाते हैं। बच्चे गुब्बारों व पिचकारी से अपने मित्रों के साथ होली का आनंद उठते हैं।

रंगों का त्यौहार

होली के एक दिन पहले लोग रात को होलिका जलाते हैं जिसमें वैर और उत्पीड़न की प्रतीक होलिका (जलाने की लकड़ी) जलती है. उसके अगले दिन दुलेंडी मनाई जाती है. दुलेंडी को सभी एक-दूसरे पर गुलाल बरसाते हैं तथा पिचकारियों से गीले रंग लगाते हैं. पारंपरिक रूप से केवल प्राकृतिक व जड़ी-बूटियों से निर्मित रंगों का प्रयोग होता है, परंतु आज कल कृत्रिम रंगों ने इनका स्थान ले लिया है. आजकल तो लोग जिस किसी के साथ भी शरारत या मजाक करना चाहते हैं, उसी पर रंगीले झाग व रंगों से भरे गुब्बारे मारते हैं. प्रेम से भरे यह नारंगी, लाल, हरे, नीले, बैंगनी तथा काले रंग सभी के मन से कटुता व वैमनस्य को धो देते हैं तथा सामुदायिक मेल-जोल को बढ़ाते हैं. इस दिन सभी के घर पकवान व मिष्टान बनते हैं. लोग एक-दूसरे के घर जाकर गले मिलते हैं और पकवान खाते हैं.

गुझियों की मिठास

मिठाइयां होली की विशेषता हैं. होली पर भारत में विशेष रुप से गुझियां बनाने की परंपरा है. गुझिया एक बेहद मीठी और स्वादिष्ट मिठाई होती है.

गुझियों के साथ होली के दिन ठंडाई पीना भी कई जगह रिवाज में शामिल है. ठंडाई एक शीतल पेय है जिसे दूध, भांग, बादाम मिलाकर बनाया जाता है. हालांकि होली के रंग में कई बार ठंडाई रंग में भंग का काम कर देता है क्योंकि ठंड़ाई में जो भांग होती है वह एक तरह का नशीला पदार्थ होता है.

होली का त्यौहार हमें एकता और हंसी खुशी रहने का संदेश देता है. होली में मस्ती तो की जाती है लेकिन वह मस्ती अश्लीलता से दूर होती है. आज के समय में होली की हुड़दंग को युवाओं ने अश्लीलता से भरकर रख दिया है. केमिकल कलर और गुब्बारों ने पर्व की महिमा को कम किया है तो होली के दिन विशेष रुप से शराब पीना लोगों का कल्चर सा बन गया है. होली एक धार्मिक पर्व है जो हमें खुश होने का एक मौका देता है. इसे ऐसा ना बनाएं कि किसी की खुशी छिन जाए.

होली को सुरक्षित और इस अंदाज से मनाएं कि देखने वाले देखते ही रह जाएं. अपनी होली को रंगीन बनाएं और प्राकृतिक रंगों से सराबोर कर दें.
सभी लोग बैर-भाव भूलकर एक-दूसरे से परस्पर गले मिलते हैं। घरों में औरतें एक दिन पहले से ही मिठाई, गुझिया आदि बनाती हैं व अपने पास-पड़ोस में आपस में बांटती हैं। कई लोग होली की टोली बनाकर निकलते हैं उन्हें हुरियारे कहते हैं।

ब्रज की होली, मथुरा की होली, वृंदावन की होली, बरसाने की होली, काशी की होली पूरे भारत में मशहूर है।
आजकल अच्छी क्वॉलिटी के रंगों का प्रयोग नहीं होता और त्वचा को नुकसान पहुंचाने वाले रंग खेले जाते हैं। यह सरासर गलत है। इस मनभावन त्योहार पर रासायनिक लेप व नशे आदि से दूर रहना चाहिए। बच्चों को भी सावधानी रखनी चाहिए। बच्चों को बड़ों की निगरानी में ही होली खेलना चाहिए। दूर से गुब्बारे फेंकने से आंखों में घाव भी हो सकता है। रंगों को भी आंखों और अन्य अंदरूनी अंगों में जाने से रोकना चाहिए। यह मस्ती भरा पर्व मिलजुल कर मनाना चाहिए।

 

Holi

67Holi Pooja takes place a day before the Holi Festival. This day is called as ‘Holika Dahan’. There is no special pooja performed on the Holi day. This day is only meant for celebrations and play of colors. Holika Dahan is the major ritual performed at the time of Holi which is also considered an important Holi Puja. People light bonfires on the eve of Holi festival to celebrate the victory of ‘good’ over ‘bad’ which is called Holika Dahan.
Holi Pooja Process or Holika Dahan Process
Holika Dahan preparations begin almost 40 days before the festival. People start gathering woods on the important crossroads of the city. Holi Pooja or Holika takes place on an auspicious time in the evening a day before the Holi festival. Given below are the steps and rituals for the Holi Pooja:

 68Holika Dahan According to Hindu scriptures Holika Dahan, which is also known as Holika Deepak or Chhoti Holi, should be done during Pradosh Kaal (which starts after sunset) while Purnimasi Tithi is prevailing. Bhadra prevails during first half of Purnimasi Tithi and all good work should be avoided when Bhadra prevails.

Holika Dahan Muhurta is decided based on following rules.

The first preference to get Holika Dahan Muhurta is during Pradosh while Purnimasi Tithi is prevailing and Bhadra is over. If Bhadra prevails during Pradosh but it ends before midnight then Holika Dahan should be done after Bhadra is over. If Bhadra is getting over after midnight then only Holika Dahan should be done in Bhadra and preferably during Bhadra Punchha. However one should avoid Bhadra Mukha and in no condition Holika Dahan should be done in Bhadra Mukha. Doing so brings bad luck for the whole year not only for individuals but for whole city and country. Many times Bhadra Punchha is not available between Pradosh and midnight. In such situations one should do Holika Dahan during Pradosh. In rare occasions when neither Pradosh nor Bhadra Punchha is available then one should do Holika Dahan after Pradosh.

Choosing right Muhurta for Holika Dahan is more important than choosing right Muhurta for any other festivals. For other festivals doing puja at wrong time will not bring puja benefits but doing Holika Dahan at wrong time would bring suffering and misfortune.

Comments

comments