Friday , 24 November 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » डाँकू रत्नाकर और देवऋषि नारद

डाँकू रत्नाकर और देवऋषि नारद

%E1%B8%8Daankoo-ratnaakar-aur-deva_rri%E1%B9%A3i-naarad

%E1%B8%8Daankoo-ratnaakar-aur-deva_rri%E1%B9%A3i-naarad

Narad ji

Narad ji

बहुत समय पहले की बात है किसी राज्य में एक बड़े ही खूंखार डाँकू  का भय व्याप्त था।  उस डाँकू का नाम रत्नाकर था।  वह अपने साथियों के साथ जंगल से गुजर रहे राहगीरों को लूटता और विरोध करने पर उनकी हत्या भी कर देता।

एक बार देवऋषि नारद भी उन्ही जंगलों से भगवान का जप करते हुए जा रहे थे। जब वे घने बीहड़ों में पहुंचे तभी उन्हें कुछ लोग विपरीत दिशा में भागते हुए दिखे।

देवऋषि ने उनसे ऐसा करने का कारण पूछा तो सभी ने मार्ग में रत्नाकर के होने की बात बतायी। पर बावजूद इसके देवऋषि आगे बढ़ने लगे।

“क्या आपको भय नहीं लगता ?” , भाग रहे लोगों ने उन्हें ऐसा करते देख पुछा।

“नहीं, मैं मानता ही नहीं की मेरे आलावा यहाँ कोई और है , और भय तो हमेशा किसी और के होने से लगता है , स्वयं से नहीं। “, ऋषि ने ऐसा कहते हुए अपने कदम आगे बढ़ा दिए।

कुछ ही दूर जाने पर  डाँकू रत्नाकर अपने साथियों के साथ उनके समक्ष आ पहुंचा।

रत्नाकर –   नारद , मैं रत्नाकर हूँ , डाँकू रत्नाकर।

नारद मुस्कुराते हुए बोले – मैं नारद हूँ देवऋषि नारद , तुम्हारा अतिथि और मैं निर्भय हूँ। क्या तुम निर्भय हो ?

रत्नाकर – क्या मतलब है तुम्हारा ?

नारद – ना मुझे प्राणो का भय है , ना असफलता का , ना कल का ना कलंक का, और कोई भय है जो तुम जानते हो ? अब तुम बताओ क्या तुम निर्भय हो ?

रत्नाकर – हाँ, मैं निर्भय हूँ , ना मुझे प्राणो का भय है , ना असफलता का , ना कल का ना कलंक का।

नारद – तो तुम यहाँ इन घने जंगलों में छिप कर क्यों रहते हो ? क्या राजा से डरते हो ?

रत्नाकर – नहीं !

नारद – क्या प्रजा से डरते हो ?

रत्नाकर- नहीं !

नारद- क्या पाप से डरते हो ?

रत्नाकर – नहीं !

नारद – तो यहाँ छिप कर क्यों रहते हो ?

यह सुनकर रत्नाकर घबरा गया और एकटक देवऋषि को घूरने लगा।

नारद – उत्तर मैं देता हूँ। तुम पाप करते हो और पाप से डरते हो।

रत्नाकर हँसते हुए बोला – नारद तुम अपनी इन बातों से मुझे भ्रमित नहीं कर सकते।  ना मैं पाप से डरता हूँ , ना पुण्य से , ना देवताओं से ना दानवों से , ना राजा से ना राज्य से , ना दंड से ना विधान से। मैंने राज्य के साथ द्रोह किया है, मैंने समाज के साथ द्रोह किया है, इसलिए मैं यहाँ इन बीहड़ों में रहता हूँ। ये प्रतिशोध है मेरा।

नारद – क्या था वो पाप जिससे तुम डरते हो ?

रत्नाकर- मुझे इतना मत उकसाओ की मैं तुम्हारी हत्या कर दूँ नारद । इतना तो मैं जान ही चुका हूँ कि पाप और पुण्य की परिभाषा हमेशा ताकतवर तय करते हैं और उसे कमजोरों पर थोपते हैं।  मैंने साम्राज्यों का विस्तार देखा है, हत्या से, बल से , छल से , मैंने वाणिज्य का विस्तार देखा है , कपट से , अनीति से , अधर्म से , वो पाप नहीं था ? मैं सैनिक था , दुष्ट और निर्दयी सौदागरों की भी रक्षा की… वो पाप नहीं था ? युद्ध में हारे हुए लोगों की स्त्रीयों के साथ पशुता का व्यवहार करने वाले सैनिकों की हत्या क्या की मैंने , मैं पापी हो गया ? राजा , सेना और सेनापति का अपराधी हो गया मैं। क्या वो पाप था ?

नारद – दूसरों का पाप अपने पाप को सही नहीं ठहरा सकता रत्नाकर।

रत्नाकर चीखते हुए – मैं पापी नहीं हूँ।

नारद – कौन निर्णय करेगा ? वो जो इस यात्रा में तुम्हारे साथ हैं या नहीं हैं ? क्या तुम्हारी पत्नी , तुम्हारा पुत्र, इस पाप में तुम्हारे साथ हैं ?

रत्नाकर – हाँ , वो क्यों साथ नहीं होंगे, मैं जो ये सब करता हूँ , उनके सुख के लिए ही तो करता हूँ।  तो जो तुम्हारे साथ हैं उन्ही को निर्णायक बनाते हैं।  जाओ , अपनी पत्नी से,  अपने पुत्र से , अपने पिता से, अपने निकट सम्बन्धियों से पूछ कर आओ, जो तुम कर रहे हो , क्या वो पाप नहीं है , और क्या वे सब इस पाप में तुम्हारे साथ हैं ? इस पाप के भागीदार हैं ?

रत्नाकर – ठीक है मैं अभी जाकर लौटता हूँ।

और अपने साथियों को नारद को बाँध कर रखने का निर्देश देकर रत्नाकर सीधा अपनी पत्नी के पास जाता है और उससे पूछता है – ” ये मैं जो कर रहा हूँ , क्या वो पाप है ? क्या तुम इस पाप में मेरी भागीदार हो? “

पत्नी कहती है , ” नहीं स्वामी , मैंने आपके सुख में , दुःख में साथ देने की कसम खाई है , आपके पाप में भागीदार बनने की नहीं।  “

यह सुन रत्नाकर स्तब्ध रह जाता है।  फिर वह अपने अंधे पिता के समक्ष यही प्रश्न दोहराता है , ” पिताजी ,ये जो मैं कर रहा हूँ , क्या वो पाप है ? क्या आप इस पाप में मेरी भागीदार हैं ? “

पिताजी बोलते हैं , ” नहीं पुत्र, ये तो तेरी कमाई है , इसे मैं कैसे बाँट सकता हूँ। “

यह सुनते ही मानो रत्नाकर पर बिजली टूट पड़ती है।  वह बेहद दुखी हो जाता है और धीरे – धीरे चलते हुए वापस देवऋषि नारद के पास पहुँच जाता है।

नारद- तुम्हारे साथी मुझे अकेला छोड़ जा चुके हैं रत्नाकर।

रत्नाकर , देवऋषि के चरणो में गिरते हुए  – क्षमा देवऋषि क्षमा, अब तो मैं भी अकेला ही हूँ।

नारद – नहीं रत्नाकर , तुम्ही अपने मित्र , और तुम्ही अपने शत्रु हो , तुम्हारे पुराने संसार की रचना भी तुम्ही ने की थी.. तुम्हारे नए संसार की रचना भी तुम्ही करोगे।  इसलिए उठो और अपने पुरुषार्थ से अपना भविष्य लिखो …. राम-राम , तुम्हारा पथ सुबह हो।

मित्रों , इस घटना के पश्चात डाकू रत्नाकर का जीवन पूरी तरह बदल गया, उसने पाप के मार्ग को त्याग पुण्ये के मार्ग को अपनाया और आगे चलकर यही डाँकू राम-कथा का रचयिता मह्रिषी वाल्मीकि बना।

उपनिषदों से ली गयी यह कथा बताती है कि मनुष्य असीम संभावनाओं का स्वामी है , जहां एक तरफ वह अपने पुरुषार्थ से राजा बन सकता है तो वहीँ अपने आलस्य से रंक भी।  वह अपने अविवेक से अपना नाश कर सकता है तो अपने विवेक से अपना निर्वाण भी। यानि , हम सब अपने आप में महाशक्तिशाली हैं, पर हममें से ज्यादातर लोग पूरे जीवन काल में अपनी असीम शक्तियों का एक छोटा सा हिस्सा भी प्रयोग नहीं कर पाते।  क्यों ना हम भी डाँकू रत्नाकर की तरह सामान्यता को त्याग कर उत्कृष्टता की ओर बढ़ चलें !

Wish4me to English

Bahut samay pahale kee baat hai kisee raajy men ek bade hee khoonkhaar ḍaankoo kaa bhay vyaapt thaa. Us ḍaankoo kaa naam ratnaakar thaa. Vah apane saathiyon ke saath jngal se gujar rahe raahageeron ko looṭataa aur virodh karane par unakee hatyaa bhee kar detaa. Ek baar deva_rriṣi naarad bhee unhee jngalon se bhagavaan kaa jap karate hue jaa rahe the. Jab ve ghane beehadon men pahunche tabhee unhen kuchh log vipareet dishaa men bhaagate hue dikhe. Deva_rriṣi ne unase aisaa karane kaa kaaraṇa poochhaa to sabhee ne maarg men ratnaakar ke hone kee baat bataayee. Par baavajood isake deva_rriṣi aage baḍhane lage.

“kyaa aapako bhay naheen lagataa ?” , bhaag rahe logon ne unhen aisaa karate dekh puchhaa.

“naheen, main maanataa hee naheen kee mere aalaavaa yahaan koii aur hai , aur bhay to hameshaa kisee aur ke hone se lagataa hai , svayn se naheen. “, rriṣi ne aisaa kahate hue apane kadam aage baḍhaa die. Kuchh hee door jaane par ḍaankoo ratnaakar apane saathiyon ke saath unake samakṣ aa pahunchaa. Ratnaakar – naarad , main ratnaakar hoon , ḍaankoo ratnaakar. Naarad muskuraate hue bole – main naarad hoon deva_rriṣi naarad , tumhaaraa atithi aur main nirbhay hoon. Kyaa tum nirbhay ho ? Ratnaakar – kyaa matalab hai tumhaaraa ? Naarad – naa mujhe praaṇao kaa bhay hai , naa asafalataa kaa , naa kal kaa naa kalnk kaa, aur koii bhay hai jo tum jaanate ho ? Ab tum bataa_o kyaa tum nirbhay ho ? Ratnaakar – haan, main nirbhay hoon , naa mujhe praaṇao kaa bhay hai , naa asafalataa kaa , naa kal kaa naa kalnk kaa. Naarad – to tum yahaan in ghane jngalon men chhip kar kyon rahate ho ? Kyaa raajaa se ḍaarate ho ? Ratnaakar – naheen ! Naarad – kyaa prajaa se ḍaarate ho ? Ratnaakar- naheen ! Naarad- kyaa paap se ḍaarate ho ? Ratnaakar – naheen ! Naarad – to yahaan chhip kar kyon rahate ho ? Yah sunakar ratnaakar ghabaraa gayaa aur ekaṭak deva_rriṣi ko ghoorane lagaa. Naarad – uttar main detaa hoon. Tum paap karate ho aur paap se ḍaarate ho. Ratnaakar hnsate hue bolaa – naarad tum apanee in baaton se mujhe bhramit naheen kar sakate. Naa main paap se ḍaarataa hoon , naa puṇay se , naa devataa_on se naa daanavon se , naa raajaa se naa raajy se , naa dnḍa se naa vidhaan se. Mainne raajy ke saath droh kiyaa hai, mainne samaaj ke saath droh kiyaa hai, isalie main yahaan in beehadon men rahataa hoon. Ye pratishodh hai meraa. Naarad – kyaa thaa vo paap jisase tum ḍaarate ho ? Ratnaakar- mujhe itanaa mat ukasaa_o kee main tumhaaree hatyaa kar doon naarad . Itanaa to main jaan hee chukaa hoon ki paap aur puṇay kee paribhaaṣaa hameshaa taakatavar tay karate hain aur use kamajoron par thopate hain. Mainne saamraajyon kaa vistaar dekhaa hai, hatyaa se, bal se , chhal se , mainne vaaṇaijy kaa vistaar dekhaa hai , kapaṭ se , aneeti se , adharm se , vo paap naheen thaa ? Main sainik thaa , duṣṭ aur nirdayee saudaagaron kee bhee rakṣaa kee… vo paap naheen thaa ? Yuddh men haare hue logon kee streeyon ke saath pashutaa kaa vyavahaar karane vaale sainikon kee hatyaa kyaa kee mainne , main paapee ho gayaa ? Raajaa , senaa aur senaapati kaa aparaadhee ho gayaa main. Kyaa vo paap thaa ? Naarad – doosaron kaa paap apane paap ko sahee naheen ṭhaharaa sakataa ratnaakar. Ratnaakar cheekhate hue – main paapee naheen hoon. Naarad – kaun nirṇaay karegaa ? Vo jo is yaatraa men tumhaare saath hain yaa naheen hain ? Kyaa tumhaaree patnee , tumhaaraa putr, is paap men tumhaare saath hain ? Ratnaakar – haan , vo kyon saath naheen honge, main jo ye sab karataa hoon , unake sukh ke lie hee to karataa hoon. To jo tumhaare saath hain unhee ko nirṇaayak banaate hain. Jaa_o , apanee patnee se, apane putr se , apane pitaa se, apane nikaṭ sambandhiyon se poochh kar aao, jo tum kar rahe ho , kyaa vo paap naheen hai , aur kyaa ve sab is paap men tumhaare saath hain ? Is paap ke bhaageedaar hain ? Ratnaakar – ṭheek hai main abhee jaakar lauṭataa hoon. Aur apane saathiyon ko naarad ko baandh kar rakhane kaa nirdesh dekar ratnaakar seedhaa apanee patnee ke paas jaataa hai aur usase poochhataa hai – ” ye main jo kar rahaa hoon , kyaa vo paap hai ? Kyaa tum is paap men meree bhaageedaar ho? “

patnee kahatee hai , ” naheen svaamee , mainne aapake sukh men , duahkh men saath dene kee kasam khaa_ii hai , aapake paap men bhaageedaar banane kee naheen. “

yah sun ratnaakar stabdh rah jaataa hai. Fir vah apane andhe pitaa ke samakṣ yahee prashn doharaataa hai , ” pitaajee ,ye jo main kar rahaa hoon , kyaa vo paap hai ? Kyaa aap is paap men meree bhaageedaar hain ? “

pitaajee bolate hain , ” naheen putr, ye to teree kamaa_ii hai , ise main kaise baanṭ sakataa hoon. “

yah sunate hee maano ratnaakar par bijalee ṭooṭ padatee hai. Vah behad dukhee ho jaataa hai aur dheere – dheere chalate hue vaapas deva_rriṣi naarad ke paas pahunch jaataa hai. Naarad- tumhaare saathee mujhe akelaa chhod jaa chuke hain ratnaakar. Ratnaakar , deva_rriṣi ke charaṇao men girate hue – kṣamaa deva_rriṣi kṣamaa, ab to main bhee akelaa hee hoon. Naarad – naheen ratnaakar , tumhee apane mitr , aur tumhee apane shatru ho , tumhaare puraane snsaar kee rachanaa bhee tumhee ne kee thee.. Tumhaare na_e snsaar kee rachanaa bhee tumhee karoge. Isalie uṭho aur apane puruṣaarth se apanaa bhaviṣy likho …. Raam-raam , tumhaaraa path subah ho. Mitron , is ghaṭanaa ke pashchaat ḍaakoo ratnaakar kaa jeevan pooree tarah badal gayaa, usane paap ke maarg ko tyaag puṇaye ke maarg ko apanaayaa aur aage chalakar yahee ḍaankoo raam-kathaa kaa rachayitaa mahriṣee vaalmeeki banaa. Upaniṣadon se lee gayee yah kathaa bataatee hai ki manuṣy aseem snbhaavanaa_on kaa svaamee hai , jahaan ek taraf vah apane puruṣaarth se raajaa ban sakataa hai to vaheen apane aalasy se rnk bhee. Vah apane avivek se apanaa naash kar sakataa hai to apane vivek se apanaa nirvaaṇa bhee. Yaani , ham sab apane aap men mahaashaktishaalee hain, par hamamen se jyaadaatar log poore jeevan kaal men apanee aseem shaktiyon kaa ek chhoṭaa saa hissaa bhee prayog naheen kar paate. Kyon naa ham bhee ḍaankoo ratnaakar kee tarah saamaanyataa ko tyaag kar utkriṣṭataa kee or baḍh chalen !

Comments

comments