Tuesday , 16 January 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » ‪‎रामावतार‬

‪‎रामावतार‬

%E2%80%AA%E2%80%8Eraamaavataar%E2%80%AC

%E2%80%AA%E2%80%8Eraamaavataar%E2%80%AC

Prem aur paramaatmaa

बहुत पुरानी कथा है। श्रीहरि के जय- विजय नाम के दो द्वारपाल थे। वे सनकादि ब्रह्मर्षियों के शाप से घोर निशाचर कुल में पैदा हुए। उनके नाम रावण और कुभ्करण थे। उनके अत्याचारों से पृथ्वी कांप उठी। वह पाप के भार को सह ना सकी। अंत में वह सभी देवताओं के साथ भगवान की शरण में गयी। देवताओं का प्रार्थना से परब्रह्म परमात्मा ने अयोध्या के राज दशरथ की रानी कौसल्या के गर्भ से राम के रूप में अवतार लिया।
भगवान श्रीराम ने विश्वामित्र के यज्ञ में विघ्न डालने वाले सुबाहु आदि राक्षसों को मार डाला। वे सब बड़े-बड़े राक्षसों की गिनती में थे।
जनकपुर में सीताजी का स्वयंवर हो रहा था। वहां भगवान शंकर का विशाल धनुष रखा हुआ था। श्रीराम ने उस धनुष को तोड़कर सीता जी को प्राप्त कर लिया। राजा दशरथ की आज्ञा से श्रीराम का चौदह वर्ष का वनवास हुआ। भगवान ने पिता की आज्ञा लेकर माता सीता और छोटे भाई लक्ष्मण के साथ वन को चले गए।
वन में पहुंचकर भगवान ने रावण की बहिन शूर्पणखा को कूरूप कर दिया। उसके पक्षपाती खर, दूषण, त्रिशिरा आदि भाइयों को श्रीराम ने नष्ट कर दिया।
शूर्पणखा की दशा देखकर रावण बहुत कोघ्रित हुआ। उसने भगवान से शत्रुता ठान ली। छल से सीता जी का हरण कर लिया। श्रीराम सीताजी के वियोग में बहुत दु:खी हुए। सीता जी की खोज में वन-वन भटकने लगे। भगवान ने सुग्रीव से मित्रता कर माता सीता की खोज आरंभ कर दी। त्तपश्चात हनुमान जी माता सीता की खोज में लंका गए। वहां उन्हे माता सीता का पता चला। उन्होंने लंका दहन किया और लौटते समय माता सीता से चूणामणि लेकर भगवान राम को दिया। अंत में भगवान राम ने वानरों की सेना के साथ लंका पर चढ़ाई कर दी। विभीषण की सलाह से भगवान ने नील, सुग्रीव, हनुमान आदि वीरों की सेना के साथ लंका में प्रवेश किया। दोनों ओर की सेनाओं में घमासान युद्ध हुआ। भगवान राम ने लंका पर विजय प्राप्त की। उसके बाद बाद भगवान श्रीराम ने सीता और लक्ष्मण के साथ अयोध्या लौटकर राम राज्य की स्थापना की।

wish4me in English

bahut puraanee katha hai. shreehari ke jay- vijay naam ke do dvaarapaal the. ve sanakaadi brahmarshiyon ke shaap se ghor nishaachar kul mein paida hue. unake naam raavan aur kubhkaran the. unake atyaachaaron se prthvee kaamp uthee. vah paap ke bhaar ko sah na sakee. ant mein vah sabhee devataon ke saath bhagavaan kee sharan mein gayee. devataon ka praarthana se parabrahm paramaatma ne ayodhya ke raaj dasharath kee raanee kausalya ke garbh se raam ke roop mein avataar liya.
bhagavaan shreeraam ne vishvaamitr ke yagy mein vighn daalane vaale subaahu aadi raakshason ko maar daala. ve sab bade-bade raakshason kee ginatee mein the.
janakapur mein seetaajee ka svayanvar ho raha tha. vahaan bhagavaan shankar ka vishaal dhanush rakha hua tha. shreeraam ne us dhanush ko todakar seeta jee ko praapt kar liya. raaja dasharath kee aagya se shreeraam ka chaudah varsh ka vanavaas hua. bhagavaan ne pita kee aagya lekar maata seeta aur chhote bhaee lakshman ke saath van ko chale gae.
van mein pahunchakar bhagavaan ne raavan kee bahin shoorpanakha ko kooroop kar diya. usake pakshapaatee khar, dooshan, trishira aadi bhaiyon ko shreeraam ne nasht kar diya.
shoorpanakha kee dasha dekhakar raavan bahut koghrit hua. usane bhagavaan se shatruta thaan lee. chhal se seeta jee ka haran kar liya. shreeraam seetaajee ke viyog mein bahut du:khee hue. seeta jee kee khoj mein van-van bhatakane lage. bhagavaan ne sugreev se mitrata kar maata seeta kee khoj aarambh kar dee. ttapashchaat hanumaan jee maata seeta kee khoj mein lanka gae. vahaan unhe maata seeta ka pata chala. unhonne lanka dahan kiya aur lautate samay maata seeta se choonaamani lekar bhagavaan raam ko diya. ant mein bhagavaan raam ne vaanaron kee sena ke saath lanka par chadhaee kar dee. vibheeshan kee salaah se bhagavaan ne neel, sugreev, hanumaan aadi veeron kee sena ke saath lanka mein pravesh kiya. donon or kee senaon mein ghamaasaan yuddh hua. bhagavaan raam ne lanka par vijay praapt kee. usake baad baad bhagavaan shreeraam ne seeta aur lakshman ke saath ayodhya lautakar raam raajy kee sthaapana kee.

Comments

comments