Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » आखिर क्यों पड़ी थी समुद्र मंथन की जरूरत..

आखिर क्यों पड़ी थी समुद्र मंथन की जरूरत..

aakhir-kyo-pari-samunder-manthan-ki-jarurat-srory

aakhir-kyo-pari-samunder-manthan-ki-jarurat-srory

43

एक बार शिवजी के दर्शन के लिए दुर्वासा ऋषि अपने शिष्यों के साथ कैलाश जा रहे थे। मार्ग में उन्हें देवराज इन्द्र मिले। इन्द्र ने दुर्वासा ऋषि और उनके शिष्यों को भक्तिपूर्वक प्रणाम किया। तब दुर्वासा ऋषि ने इन्द्र को आशीर्वाद देकर विष्णु भगवान का पारिजात पुष्प प्रदान किया। इन्द्रासन के गर्व में चूर देवराज इन्द्र ने उस पुष्प को अपने ऐरावत हाथी के मस्तक पर रख दिया। उस पुष्प का स्पर्श होते ही ऐरावत सहसा विष्णु भगवान के समान तेजस्वी हो गया। उसने देवराज इन्द्र का त्याग कर दिया और उस दिव्य पुष्प को कुचलते हुए वन की ओर चला गया।

जब दुर्वाषा ऋषि ने दिया देवराज इन्द्र को श्राप

इन्द्र द्वारा भगवान विष्णु के पुष्प का तिरस्कार होते देखकर दुर्वाषा ऋषि के क्रोध की सीमा न रही। उन्होंने देवराज इन्द्र को लक्ष्मी से हीन हो जाने का श्राप दे दिया। दुर्वासा मुनि के श्राप के फलस्वरूप लक्ष्मी उसी क्षण स्वर्गलोक को छोड़कर अदृश्य हो गईं। लक्ष्मी के चले जाने से इन्द्र आदि देवता निर्बल और श्रीहीन हो गए। उनका वैभव लुप्त हो गया। इन्द्र को बलहीन जानकर दैत्यों ने स्वर्ग पर आक्रमण कर दिया और देवगण को पराजित करके स्वर्ग के राज्य पर अपनी परचम फहरा दिया, तब परामर्श हेतु देवराज इन्द्र, देवगुरु बृहस्पति और अन्य देवता गण ब्रह्माजी की शरण में जाते है। देवताओं को देखकर ब्रह्माजी बोले —‘‘देव राज इन्द्र ! भगवान विष्णु के भोगरूपी पुष्प का अपमान करने के कारण रुष्ट होकर भगवती लक्ष्मी तुम्हारे पास से चली गयी हैं। उन्हें पुनः प्रसन्न करने के लिए तुम भगवान नारायण की कृपा-दृष्टि प्राप्त करो। उनके आशीर्वाद से तुम्हें खोया वैभव पुनः मिल जाएगा।’’
इस प्रकार ब्रह्माजी इन्द्र और बाकि देवताओं को आश्वस्त करने के बाद और उन्हें लेकर भगवान विष्णु की शरण में पहुँचे। वहाँ परब्रह्म भगवान विष्णु भगवती लक्ष्मी के साथ विराजमान थे। देवगण भगवान विष्णु की स्तुति करते हुए बोले, ‘‘भगवान ! आपके श्रीचरणों में हमारा प्रणाम। भगवान ! हम सब जिस उद्देश्य से आपकी शरण में आए हैं, कृपा करके आप उसे पूरा कीजिए। दुर्वाषा ऋषि के शाप के कारण माता लक्ष्मी हमसे रूठ गई हैं और दैत्यों ने हमें पराजित कर स्वर्ग पर अधिकार कर लिया है। अब हम आपकी शरण में हैं, हमारी रक्षा कीजिए।’’ भगवान विष्णु पल भर में ही देवताओं के मन की बात जान गए और बोले, ‘‘देवगण ! मेरी बात ध्यानपूर्वक सुनें, क्योंकि केवल यही तुम्हारे कल्याण का उपाय है। दैत्यों पर इस समय काल की विशेष कृपा है इसलिए जब तक तुम्हारे उत्कर्ष और दैत्यों के पतन का समय नहीं आता, तब तक तुम उनसे संधि कर लो। क्षीरसागर के गर्भ में अनेक दिव्य पदार्थों के साथ-साथ अमृत भी छिपा है। उसे पीने वाले के सामने मृत्यु भी पराजित हो जाती है। इसके लिए तुम्हें समुद्र मंथन करना होगा। यह कार्य अत्यंत दुष्कर है, अतः इस कार्य में दैत्यों से सहायता लो। कूटनीति भी यही कहती है कि आवश्यकता पड़ने पर शत्रुओं को भी मित्र बना लेना चाहिए। तत्पश्चात अमृत पीकर अमर हो जाओ। तब दुष्ट दैत्य भी तुम्हारा अहित नहीं कर सकेंगे। देवगण ! वे जो शर्त रखें, उसे स्वाकीर कर लें। यह बात याद रखें कि शांति से सभी कार्य बन जाते हैं, क्रोध करने से कुछ नहीं होता।’’ भगवान विष्णु के परामर्श के अनुसार इन्द्र ने समुद्र मंथन से अमृत निकलने की बात बलि को बताया। दैत्यराज बलि ने देवराज इन्द्र से समझौता कर लिया और समुद्र मंथन के लिये तैयार हो गये और इस तरह शुरू हुई कहानी समुद्र मंथन की।

wis4me in English

ek baar shivajee ke darshan ke lie durvaasa rshi apane shishyon ke saath kailaash ja rahe the. maarg mein unhen devaraaj indr mile. indr ne durvaasa rshi aur unake shishyon ko bhaktipoorvak pranaam kiya. tab durvaasa rshi ne indr ko aasheervaad dekar vishnu bhagavaan ka paarijaat pushp pradaan kiya. indraasan ke garv mein choor devaraaj indr ne us pushp ko apane airaavat haathee ke mastak par rakh diya. us pushp ka sparsh hote hee airaavat sahasa vishnu bhagavaan ke samaan tejasvee ho gaya. usane devaraaj indr ka tyaag kar diya aur us divy pushp ko kuchalate hue van kee or chala gaya.

jab durvaasha rshi ne diya devaraaj indr ko shraap

indr dvaara bhagavaan vishnu ke pushp ka tiraskaar hote dekhakar durvaasha rshi ke krodh kee seema na rahee. unhonne devaraaj indr ko lakshmee se heen ho jaane ka shraap de diya. durvaasa muni ke shraap ke phalasvaroop lakshmee usee kshan svargalok ko chhodakar adrshy ho gaeen. lakshmee ke chale jaane se indr aadi devata nirbal aur shreeheen ho gae. unaka vaibhav lupt ho gaya. indr ko balaheen jaanakar daityon ne svarg par aakraman kar diya aur devagan ko paraajit karake svarg ke raajy par apanee paracham phahara diya, tab paraamarsh hetu devaraaj indr, devaguru brhaspati aur any devata gan brahmaajee kee sharan mein jaate hai. devataon ko dekhakar brahmaajee bole —‘‘dev raaj indr ! bhagavaan vishnu ke bhogaroopee pushp ka apamaan karane ke kaaran rusht hokar bhagavatee lakshmee tumhaare paas se chalee gayee hain. unhen punah prasann karane ke lie tum bhagavaan naaraayan kee krpa-drshti praapt karo. unake aasheervaad se tumhen khoya vaibhav punah mil jaega.’’
is prakaar brahmaajee indr aur baaki devataon ko aashvast karane ke baad aur unhen lekar bhagavaan vishnu kee sharan mein pahunche. vahaan parabrahm bhagavaan vishnu bhagavatee lakshmee ke saath viraajamaan the. devagan bhagavaan vishnu kee stuti karate hue bole, ‘‘bhagavaan ! aapake shreecharanon mein hamaara pranaam. bhagavaan ! ham sab jis uddeshy se aapakee sharan mein aae hain, krpa karake aap use poora keejie. durvaasha rshi ke shaap ke kaaran maata lakshmee hamase rooth gaee hain aur daityon ne hamen paraajit kar svarg par adhikaar kar liya hai. ab ham aapakee sharan mein hain, hamaaree raksha keejie.’’ bhagavaan vishnu pal bhar mein hee devataon ke man kee baat jaan gae aur bole, ‘‘devagan ! meree baat dhyaanapoorvak sunen, kyonki keval yahee tumhaare kalyaan ka upaay hai. daityon par is samay kaal kee vishesh krpa hai isalie jab tak tumhaare utkarsh aur daityon ke patan ka samay nahin aata, tab tak tum unase sandhi kar lo. ksheerasaagar ke garbh mein anek divy padaarthon ke saath-saath amrt bhee chhipa hai. use peene vaale ke saamane mrtyu bhee paraajit ho jaatee hai. isake lie tumhen samudr manthan karana hoga. yah kaary atyant dushkar hai, atah is kaary mein daityon se sahaayata lo. kootaneeti bhee yahee kahatee hai ki aavashyakata padane par shatruon ko bhee mitr bana lena chaahie. tatpashchaat amrt peekar amar ho jao. tab dusht daity bhee tumhaara ahit nahin kar sakenge. devagan ! ve jo shart rakhen, use svaakeer kar len. yah baat yaad rakhen ki shaanti se sabhee kaary ban jaate hain, krodh karane se kuchh nahin hota.’’ bhagavaan vishnu ke paraamarsh ke anusaar indr ne samudr manthan se amrt nikalane kee baat bali ko bataaya. daityaraaj bali ne devaraaj indr se samajhauta kar liya aur samudr manthan ke liye taiyaar ho gaye aur is tarah shuroo huee kahaanee samudr manthan kee.

Comments

comments