Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » अहोई अष्टमी व्रत पूजन की विधि

अहोई अष्टमी व्रत पूजन की विधि

ahoee-ashtamee-vrat-poojan-kee-vidhi

ahoee-ashtamee-vrat-poojan-kee-vidhi

laxmijee

laxmijee

यह व्रत कार्तिक लगते ही अष्टमी को किया जाता है। जिस वार को दीपावली होती है, अहोई अष्टमी उससे ठीक सात दिन पूर्व उसी वार को पड़ती है। इस व्रत को वह स्त्रियां ही करती हैं जिनकी संतान होती है। बच्चों की मां दिनभर व्रत रखें। सांयकाल दीवार पर अष्ट कोष्ठक की अहोई की पुतली रंग भरकर बनाएं।

उस पुतली के पास सेई (स्याऊ) तथा सेई के बच्चों का चित्र भी बनाएं या छपी हुई अहोई अष्टमी का चित्र मंगवाकर दीवार पर लगांए तथा पूजन कर सूर्यास्त के बाद अर्थात् तारे निकलने पर अहोई माता की पूजा करने से पहले पृथ्वी को पवित्र करके चौक पूज कर एक लोटा जल भरकर पटले पर कलश की भांति रखकर पूजा करें।

अहोई माता का पूजन करके माताएं कहानी सुनें। पूजा के लिए माताएं पहले से एक चांदी की अहोई बनायें, जिसे स्याऊ कहते हैं और उसमें चांदी के दो दाने (मोती डलवा लें) जिस प्रकार गले में पहनने के हार में पैंडेंट लगा होता है उसी की भांति चांदी की अहोई डलवा लें। फिर अहोई की रोली,चावल दूध व भात से पूजा करें।जल से भरे लोटे पर सतिया बना लें तथा एक कटोर में हलवा,रुपये निकाल कर रख लें और सात दाने गेहूं के लेकर कहानी सुनें। कहानी सुनने के बाद अहोई स्याऊ की माला गले में पहन लें।

जो बायना निकालकर रखा था,उसे सासू जी के पांव लगकर श्रद्धा पूर्वक उन्हें दें। इसके बाद चंद्रमा के अर्घ्य देकर भोजन करें। दीवाली के बाद किसी शुभ दिन अहोई को गले से उतारकर उसका गुड़ से भोग लगायें और जल को छीटें देकर मस्तक झुकाकर रख दें। जितने बेटे हैं उतनी बार तथा जितने बेटों का विवाह हो गया हो उतनी बार चांदी के 2-2 दाने अहोई में डालते जाएं। ऐसा करने से अहोई माता प्रसन्न हो बच्चों को दीर्घायु प्रदान कर घर में नित नये मंगल करती रहती हैं। इस दिन पंडितों को पेठा दान करने से शुभ फळ की प्राप्त होती है।

To English in Wish4me

yah vrat kaartik lagate hee ashtamee ko kiya jaata hai. jis vaar ko deepaavalee hotee hai, ahoee ashtamee usase theek saat din poorv usee vaar ko padatee hai. is vrat ko vah striyaan hee karatee hain jinakee santaan hotee hai. bachchon kee maan dinabhar vrat rakhen. saanyakaal deevaar par asht koshthak kee ahoee kee putalee rang bharakar banaen. us putalee ke paas seee (syaoo) tatha seee ke bachchon ka chitr bhee banaen ya chhapee huee ahoee ashtamee ka chitr mangavaakar deevaar par lagaane tatha poojan kar sooryaast ke baad arthaat taare nikalane par ahoee maata kee pooja karane se pahale prthvee ko pavitr karake chauk pooj kar ek lota jal bharakar patale par kalash kee bhaanti rakhakar pooja karen. ahoee maata ka poojan karake maataen kahaanee sunen. pooja ke lie maataen pahale se ek chaandee kee ahoee banaayen, jise syaoo kahate hain aur usamen chaandee ke do daane (motee dalava len) jis prakaar gale mein pahanane ke haar mein paindent laga hota hai usee kee bhaanti chaandee kee ahoee dalava len. phir ahoee kee rolee,chaaval doodh va bhaat se pooja karen.jal se bhare lote par satiya bana len tatha ek kator mein halava,rupaye nikaal kar rakh len aur saat daane gehoon ke lekar kahaanee sunen. kahaanee sunane ke baad ahoee syaoo kee maala gale mein pahan len. jo baayana nikaalakar rakha tha,use saasoo jee ke paanv lagakar shraddha poorvak unhen den. isake baad chandrama ke arghy dekar bhojan karen. deevaalee ke baad kisee shubh din ahoee ko gale se utaarakar usaka gud se bhog lagaayen aur jal ko chheeten dekar mastak jhukaakar rakh den. jitane bete hain utanee baar tatha jitane beton ka vivaah ho gaya ho utanee baar chaandee ke 2-2 daane ahoee mein daalate jaen. aisa karane se ahoee maata prasann ho bachchon ko deerghaayu pradaan kar ghar mein nit naye mangal karatee rahatee hain. is din panditon ko petha daan karane se shubh phal kee praapt hotee hai.

Comments

comments