Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » आखिर कहां से आया नारियल ?

आखिर कहां से आया नारियल ?

akhir-kha-se-aya-nariyal-story

akhir-kha-se-aya-nariyal-story

60

हिन्दू धर्म में नारियल का विशेष महत्व है। नारियल के बिना कोई भी धार्मिक कार्यक्रम संपन्न नहीं होता है। नारियल से जुड़ी एक पौराणिक कथा भी प्रचलित है। कहते है नारियल को इस धरती पर ऋषि विश्वामित्र लेकर आए थे।
प्राचीन काल की बात है। एक बहुत ही पराक्रमी सत्यव्रत नाम के राजा हुए। राजा सत्यव्रत का ईश्वर में सम्पूर्ण विश्वास था। उनके पास सब कुछ था लेकिन उनके मन की एक इच्छा थी जिसे वे किसी भी रूप में पूरा करना चाहते थे।
वे चाहते थे कि वो किसी भी प्रकार से पृथ्वीलोक से स्वर्गलोक जा सकें। स्वर्गलोक की सुंदरता उन्हें अपनी ओर आकर्षित करती थी, किंतु वहां कैसे जाना है, यह सत्यव्रत नहीं जानते थे।
एक बार ऋषि विश्वामित्र तपस्या करने के लिए अपने घर से काफी दूर निकल गए थे और लम्बे समय से वापस नहीं आए थे। उनकी अनुपस्थिति में क्षेत्र में सूखा पड़ा गया और उनका परिवार भूखा-प्यासा भटक रहा था। तब राजा सत्यव्रत ने उनके परिवार की सहायता की और उनकी देख-रेख की जिम्मेदारी ली।
जब ऋषि विश्वामित्र वापस लौटे तो उन्हें परिवार वालों ने राजा की अच्छाई बताई। वे राजा से मिलने उनके दरबार पहुंचे और उनका धन्यवाद किया। शुक्रिया के रूप में राजा ने ऋषि विश्वामित्र द्वारा उन्हें एक वर देने के लिए निवेदन किया। ऋषि विश्वामित्र ने भी उन्हें आज्ञा दी।
तब राजा बोले की वो स्वर्गलोक जाना चाहते हैं, तो क्या ऋषि विश्वामित्र अपनी शक्तियों का सहारा लेकर उनके लिए स्वर्ग जाने का मार्ग बना सकते हैं? अपने परिवार की सहायता का उपकार मानते हुए ऋषि विश्वामित्र ने जल्द ही एक ऐसा मार्ग तैयार किया जो सीधा स्वर्गलोक को जाता था।
राजा सत्यव्रत खुश हो गए और उस मार्ग पर चलते हुए जैसे ही स्वर्गलोक के पास पहुंचे ही थे, कि स्वर्गलोक के देवता इन्द्र ने उन्हें नीचे की ओर धकेल दिया। धरती पर गिरते ही राजा ऋषि विश्वामित्र के पास पहुंचे और रोते हुए सारी घटना का वर्णन करने लगे।
देवताओं के इस प्रकार के व्यवहार से ऋषि विश्वामित्र भी क्रोधित हो गए, परन्तु अंत में स्वर्गलोक के देवताओं से वार्तालाप करके आपसी सहमति से एक हल निकाला गया। इसके मुताबिक राजा सत्यव्रत के लिए अलग से एक स्वर्गलोक का निर्माण करने का आदेश दिया गया।
ये नया स्वर्गलोक पृथ्वी एवं असली स्वर्गलोक के मध्य में स्थित होगा, ताकि ना ही राजा को कोई परेशानी हो और ना ही देवी-देवताओं को किसी कठिनाई का सामना करना पड़े। राजा सत्यव्रत भी इस सुझाव से बेहद प्रसन्न हुए, किन्तु ऋषि विश्वामित्र को एक चिंता ने घेरा हुआ था।
उन्हें यह बात सता रही थी कि धरती और स्वर्गलोक के बीच होने के कारण कहीं हवा के ज़ोर से यह नया स्वर्गलोक डगमगा ना जाए। यदि ऐसा हुआ तो राजा फिर से धरती पर आ गिरेंगे। इसका हल निकालते हुए ऋषि विश्वामित्र ने नए स्वर्गलोक के ठीक नीचे एक खम्बे का निर्माण किया, जिसने उसे सहारा दिया।
माना जाता है कि यही खम्बा समय आने पर एक पेड़ के मोटे तने के रूप में बदल गया और राजा सत्यव्रत का सिर एक फल बन गया। इसी पेड़ के तने को नारियल का पेड़ और राजा के सिर को नारियल कहा जाने लगा। इसीलिए आज के समय में भी नारियल का पेड़ काफी ऊंचाई पर लगता है।
इस कथा के अनुसार सत्यव्रत को समय आने पर एक ऐसे व्यक्ति की उपाधि दी गई, जो ना ही इधर का है और ना ही उधर का। यानी कि एक ऐसा इंसान जो दो धुरों के बीच में लटका हुआ है।

wish4me in English

hindoo dharm mein naariyal ka vishesh mahatv hai. naariyal ke bina koee bhee dhaarmik kaaryakram sampann nahin hota hai. naariyal se judee ek pauraanik katha bhee prachalit hai. kahate hai naariyal ko is dharatee par rshi vishvaamitr lekar aae the.
praacheen kaal kee baat hai. ek bahut hee paraakramee satyavrat naam ke raaja hue. raaja satyavrat ka eeshvar mein sampoorn vishvaas tha. unake paas sab kuchh tha lekin unake man kee ek ichchha thee jise ve kisee bhee roop mein poora karana chaahate the.
ve chaahate the ki vo kisee bhee prakaar se prthveelok se svargalok ja saken. svargalok kee sundarata unhen apanee or aakarshit karatee thee, kintu vahaan kaise jaana hai, yah satyavrat nahin jaanate the.
ek baar rshi vishvaamitr tapasya karane ke lie apane ghar se kaaphee door nikal gae the aur lambe samay se vaapas nahin aae the. unakee anupasthiti mein kshetr mein sookha pada gaya aur unaka parivaar bhookha-pyaasa bhatak raha tha. tab raaja satyavrat ne unake parivaar kee sahaayata kee aur unakee dekh-rekh kee jimmedaaree lee.
jab rshi vishvaamitr vaapas laute to unhen parivaar vaalon ne raaja kee achchhaee bataee. ve raaja se milane unake darabaar pahunche aur unaka dhanyavaad kiya. shukriya ke roop mein raaja ne rshi vishvaamitr dvaara unhen ek var dene ke lie nivedan kiya. rshi vishvaamitr ne bhee unhen aagya dee.
tab raaja bole kee vo svargalok jaana chaahate hain, to kya rshi vishvaamitr apanee shaktiyon ka sahaara lekar unake lie svarg jaane ka maarg bana sakate hain? apane parivaar kee sahaayata ka upakaar maanate hue rshi vishvaamitr ne jald hee ek aisa maarg taiyaar kiya jo seedha svargalok ko jaata tha.
raaja satyavrat khush ho gae aur us maarg par chalate hue jaise hee svargalok ke paas pahunche hee the, ki svargalok ke devata indr ne unhen neeche kee or dhakel diya. dharatee par girate hee raaja rshi vishvaamitr ke paas pahunche aur rote hue saaree ghatana ka varnan karane lage.
devataon ke is prakaar ke vyavahaar se rshi vishvaamitr bhee krodhit ho gae, parantu ant mein svargalok ke devataon se vaartaalaap karake aapasee sahamati se ek hal nikaala gaya. isake mutaabik raaja satyavrat ke lie alag se ek svargalok ka nirmaan karane ka aadesh diya gaya.
ye naya svargalok prthvee evan asalee svargalok ke madhy mein sthit hoga, taaki na hee raaja ko koee pareshaanee ho aur na hee devee-devataon ko kisee kathinaee ka saamana karana pade. raaja satyavrat bhee is sujhaav se behad prasann hue, kintu rshi vishvaamitr ko ek chinta ne ghera hua tha.
unhen yah baat sata rahee thee ki dharatee aur svargalok ke beech hone ke kaaran kaheen hava ke zor se yah naya svargalok dagamaga na jae. yadi aisa hua to raaja phir se dharatee par aa girenge. isaka hal nikaalate hue rshi vishvaamitr ne nae svargalok ke theek neeche ek khambe ka nirmaan kiya, jisane use sahaara diya.
maana jaata hai ki yahee khamba samay aane par ek ped ke mote tane ke roop mein badal gaya aur raaja satyavrat ka sir ek phal ban gaya. isee ped ke tane ko naariyal ka ped aur raaja ke sir ko naariyal kaha jaane laga. iseelie aaj ke samay mein bhee naariyal ka ped kaaphee oonchaee par lagata hai.
is katha ke anusaar satyavrat ko samay aane par ek aise vyakti kee upaadhi dee gaee, jo na hee idhar ka hai aur na hee udhar ka. yaanee ki ek aisa insaan jo do dhuron ke beech mein lataka hua hai.

Comments

comments