Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Hanumaan » मंगलवार व्रत की कथा

मंगलवार व्रत की कथा

angalavaar-vrat-kee-katha

angalavaar-vrat-kee-katha

hanumaan jee

hanumaan jee

भगवान शिव के एकादश रुद्रावतारों में से एक हैं हनुमानजी। कलयुग में हनुमान जी उपासना से शीघ्र प्रसन्न होने वाले देव हैं। यदि सच्चे मन से महाबली पवन पुत्र की आराधना की जाए तो वह अपने भक्त का हर मनोरथ पूर्ण कर देते हैं।

प्राचीन समय की बात है किसी नगर में एक ब्राह्मण दंपत्ति रहते थे उनके कोई संतान न होन कारण वह बेहद दुखी थे. हर मंगलवार ब्राह्मण वन में हनुमान जी की पूजा के करने जाता था. वह पूजा करके बजरंगबली से एक पुत्र की कामना करता था. उसकी पत्नी भी पुत्र की प्राप्ति के लिए मंगलवार का व्रत करती थी. वह मंगलवार के दिन व्रत के अंत में हनुमान जी को भोग लगाकर ही भोजन करती थी.

एक बार व्रत के दिन ब्राह्मणी ने भोजन नहीं बना पाया और न ही हनुमान जी को भोग लगा सकी. तब उसने प्रण किया कि वह अगले मंगलवार को हनुमान जी को भोग लगाकर ही भोजन करेगी. वह भूखी प्यासी छह दिन तक पड़ी रही. मंगलवार के दिन वह बेहोश हो गई. हनुमान जी उसकी श्रद्धा और भक्ति देखकर प्रसन्न हुए. उन्होंने आशीर्वाद स्वरूप ब्राह्मणी को एक पुत्र दिया और कहा कि यह तुम्हारी बहुत सेवा करेगा. बालक को पाकर ब्राह्मणी बहुत खुश हुई. उसने बालक का नाम मंगल रखा. कुछ समय उपरांत जब ब्राह्मण घर आया, तो बालक को देख पूछा कि वह कौन है? पत्नी बोली कि मंगलवार व्रत से प्रसन्न होकर हनुमान जी ने उसे यह बालक दिया है. यह सुनकर ब्राह्मण को अपनी पत्नी की बात पर विश्वास नहीं हुआ. एक दिन मौका पाकर ब्राह्मण ने बालक को कुएं में गिरा दिया. घर पर लौटने पर ब्राह्मणी ने पूछा कि मंगल कहां है? तभी पीछे से मंगल मुस्कुरा कर आ गया. उसे वापस देखकर ब्राह्मण चौंक गया. उसी रात को बजरंगबली ने ब्राह्मण को सपने में दर्शन दिए और बताया कि यह पुत्र उन्होंने ही उसे दिया है. सच जानकर ब्राह्मण बहुत खुश हुआ. जिसके बाद से ब्राह्मण दंपत्ति नियमित रूप से मंगलवार व्रत रखने लगे. मंगलवार का व्रत रखने वाले मनुष्य पर हनुमान जी की अपार कृपा होती है।

To English  in Wish4me

bhagavaan shiv ke ekaadash rudraavataaron mein se ek hain hanumaanajee. kalayug mein hanumaan jee upaasana se sheeghr prasann hone vaale dev hain. yadi sachche man se mahaabalee pavan putr kee aaraadhana kee jae to vah apane bhakt ka har manorath poorn kar dete hain.

praacheen samay kee baat hai kisee nagar mein ek braahman dampatti rahate the unake koee santaan na hon kaaran vah behad dukhee the. har mangalavaar braahman van mein hanumaan jee kee pooja ke karane jaata tha. vah pooja karake bajarangabalee se ek putr kee kaamana karata tha. usakee patnee bhee putr kee praapti ke lie mangalavaar ka vrat karatee thee. vah mangalavaar ke din vrat ke ant mein hanumaan jee ko bhog lagaakar hee bhojan karatee thee.

ek baar vrat ke din braahmanee ne bhojan nahin bana paaya aur na hee hanumaan jee ko bhog laga sakee. tab usane pran kiya ki vah agale mangalavaar ko hanumaan jee ko bhog lagaakar hee bhojan karegee. vah bhookhee pyaasee chhah din tak padee rahee. mangalavaar ke din vah behosh ho gaee. hanumaan jee usakee shraddha aur bhakti dekhakar prasann hue. unhonne aasheervaad svaroop braahmanee ko ek putr diya aur kaha ki yah tumhaaree bahut seva karega. baalak ko paakar braahmanee bahut khush huee. usane baalak ka naam mangal rakha. kuchh samay uparaant jab braahman ghar aaya, to baalak ko dekh poochha ki vah kaun hai? patnee bolee ki mangalavaar vrat se prasann hokar hanumaan jee ne use yah baalak diya hai. yah sunakar braahman ko apanee patnee kee baat par vishvaas nahin hua. ek din mauka paakar braahman ne baalak ko kuen mein gira diya. ghar par lautane par braahmanee ne poochha ki mangal kahaan hai? tabhee peechhe se mangal muskura kar aa gaya. use vaapas dekhakar braahman chaunk gaya. usee raat ko bajarangabalee ne braahman ko sapane mein darshan die aur bataaya ki yah putr unhonne hee use diya hai. sach jaanakar braahman bahut khush hua. jisake baad se braahman dampatti niyamit roop se mangalavaar vrat rakhane lage. mangalavaar ka vrat rakhane vaale manushy par hanumaan jee kee apaar krpa hotee hai.

Comments

comments