Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Krishna » अंतिम झांकी

अंतिम झांकी

antim-jhaankee

antim-jhaankee

shreekrshn

shreekrshn

जब भगवान श्रीकृष्ण जी ने देखा कि समस्त यदुवंशियों का संहार हो चुका है,तब उन्होंने संतोष की सांस ली कि पृथ्वी का बचा-खुचा भार भी उतर गया।अब मेरे अवतार का कार्य पूर्ण हो चुका है। बलराम जी ने भी समुद्रतट पर बैठकर एकाग्र चित्त से परमात्मा का चिंतन करते हुए अपनी आत्मा को आत्मस्वरूप में स्थिर कर लिया और मनुष्य शरीर छोड़। अब मुझे भी अपनी लीला-संवरण करना चाहिए।यह सोचकर भगवान श्रीकृष्ण एक पीपल के पेड़-तले जाकर चुपचाप धरती पर बैठ गये। उन्होनें उस समय चतुर्भुज रूप धारण कर रखा था। उनके वक्ष-स्थल पर श्रीवत्स का चिन्ह शोभायमान था। वह रेशमी पीताम्बर दुपट्टा और वैसी ही धोती धारण किये हुए थे। बड़ा ही मंगलमय रूप था। मुख-कमल पर सुंदर कुण्डल झिलमिला रहे थे। कंधे पर यज्ञोपवीत,माथे पर मुकुट,कलाइयों में कंगन,बांहों में बाजूबंद,वक्ष:स्थल पर हार तथा गले में कौस्तुभमणि शोभायमान हो रही थी। घुटनों तक वनमाला हुई थी।शंख,चक्र,गदा आदि आयुध प्रभु की शोभा को और भी बढ़ा रहे थे। उस समय भगवान अपनी दाहिनी जांघ पर बायां चरण रखकर बैठे हुए थे। उनका लाल-लाल तलवा रक्तकमल की तरह चमक रहा था।
जरा नामक एक बहेलिया था। उसने मूसल के बचे हुए टुकड़ों से अपने बाण की नोंक बना रखी थी। उसे दूर से भगवान के चरण का लाल-लाल तलवा हिरन के मुख को समान जान पड़ा। उसने उपने धनुष पर बाण चढ़ाया और निशाना साधकर प्रभु के चरणों में छोड़ दिया। जब वह पास आया तो उसने देखा कि अरे यह तो श्रीकृष्ण हैं। अब तो वह अपराध कर चुका था। इसलिये वह डर के मारे कांपने लगा और दैत्य दलन श्रीकृष्ण जी के चरणों में सिर रखकर धरती पर गिर पड़ा।
उसने कहा –मधूसूदन मैंने अनजाने में यह पाप किया है। सचमुच मैं बहुत बड़ा पापी हूं,परंतु आप परम यशस्वी हैं। आप कृपा करके मेरा अपराध क्षमा कीजिये। प्रभो,महात्मा लोग कहा करते हैं कि आपके स्मरण मात्र से मनुष्य का सम्पूर्ण अज्ञान नष्ट हो जाता है। बड़े खेद की बात है कि मैंने आपका अनिष्ट कर दिया। आप मुझे अभी मार डालिए,क्योंकि मन जाने पर मैं फिर कभी आप जैसे महापुरूषों का अपराध नहीं कर सकूंगा।
भगवान श्रीकृष्ण ने कहा- जा तू डर मत,तूने मेरे मन का काम किया है। जा, तू मेरी आज्ञा से स्वर्ग में निवास कर, जिसकी प्राप्ति पुण्यवानों को ही होती है। उसके बाद जरा व्याध ने भगवान की तीन बार परिक्रमा की और विमान पर सवार होकर स्वर्ग को चला गया। सभी देवता श्रीकृष्ण के परमधाम-प्रस्थान को देखने के लिए बड़ी ही उत्सुकता से वहां आये। वह सभी श्रीकृष्ण लीलाओं का गान कर रहे थे। उनके विमानों से आकाश भर गया। वह बड़ी भक्ति से भगवान पर पुष्पों की वर्षा कर रहे थे। देवताओं के देखते ही देखते भगवान श्रीकृष्ण सशरीर अपने धाम चले गये। उस समय स्वर्ग में नगाड़े बजने लगे। भगवान श्रीकृष्ण के पीछ-पीछे इस लोक से सत्य, धर्म, धैर्य, श्री और कीर्ती भी चली गयी। ब्रम्हाजी, शकंर जी आदि देवता भगवान की इस परम योगमयी गति को देखकर उनकी भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए अपने-अपने लोक में चले गये।

To English Wish4me

jab bhagavaan shreekrshn jee ne dekha ki samast yaduvanshiyon ka sanhaar ho chuka hai,tab unhonne santosh kee saans lee ki prthvee ka bacha-khucha bhaar bhee utar gaya.ab mere avataar ka kaary poorn ho chuka hai. balaraam jee ne bhee samudratat par baithakar ekaagr chitt se paramaatma ka chintan karate hue apanee aatma ko aatmasvaroop mein sthir kar liya aur manushy shareer chhod. ab mujhe bhee apanee leela-sanvaran karana chaahie.yah sochakar bhagavaan shreekrshn ek peepal ke ped-tale jaakar chupachaap dharatee par baith gaye. unhonen us samay chaturbhuj roop dhaaran kar rakha tha. unake vaksh-sthal par shreevats ka chinh shobhaayamaan tha. vah reshamee peetaambar dupatta aur vaisee hee dhotee dhaaran kiye hue the. bada hee mangalamay roop tha. mukh-kamal par sundar kundal jhilamila rahe the. kandhe par yagyopaveet,maathe par mukut,kalaiyon mein kangan,baanhon mein baajooband,vaksh:sthal par haar tatha gale mein kaustubhamani shobhaayamaan ho rahee thee. ghutanon tak vanamaala huee thee.shankh,chakr,gada aadi aayudh prabhu kee shobha ko aur bhee badha rahe the. us samay bhagavaan apanee daahinee jaangh par baayaan charan rakhakar baithe hue the. unaka laal-laal talava raktakamal kee tarah chamak raha tha.
jara naamak ek baheliya tha. usane moosal ke bache hue tukadon se apane baan kee nonk bana rakhee thee. use door se bhagavaan ke charan ka laal-laal talava hiran ke mukh ko samaan jaan pada. usane upane dhanush par baan chadhaaya aur nishaana saadhakar prabhu ke charanon mein chhod diya. jab vah paas aaya to usane dekha ki are yah to shreekrshn hain. ab to vah aparaadh kar chuka tha. isaliye vah dar ke maare kaampane laga aur daity dalan shreekrshn jee ke charanon mein sir rakhakar dharatee par gir pada.
usane kaha –madhoosoodan mainne anajaane mein yah paap kiya hai. sachamuch main bahut bada paapee hoon,parantu aap param yashasvee hain. aap krpa karake mera aparaadh kshama keejiye. prabho,mahaatma log kaha karate hain ki aapake smaran maatr se manushy ka sampoorn agyaan nasht ho jaata hai. bade khed kee baat hai ki mainne aapaka anisht kar diya. aap mujhe abhee maar daalie,kyonki man jaane par main phir kabhee aap jaise mahaapurooshon ka aparaadh nahin kar sakoonga.
bhagavaan shreekrshn ne kaha- ja too dar mat,toone mere man ka kaam kiya hai. ja, too meree aagya se svarg mein nivaas kar, jisakee praapti punyavaanon ko hee hotee hai. usake baad jara vyaadh ne bhagavaan kee teen baar parikrama kee aur vimaan par savaar hokar svarg ko chala gaya. sabhee devata shreekrshn ke paramadhaam-prasthaan ko dekhane ke lie badee hee utsukata se vahaan aaye. vah sabhee shreekrshn leelaon ka gaan kar rahe the. unake vimaanon se aakaash bhar gaya. vah badee bhakti se bhagavaan par pushpon kee varsha kar rahe the. devataon ke dekhate hee dekhate bhagavaan shreekrshn sashareer apane dhaam chale gaye. us samay svarg mein nagaade bajane lage. bhagavaan shreekrshn ke peechh-peechhe is lok se saty, dharm, dhairy, shree aur keertee bhee chalee gayee. bramhaajee, shakanr jee aadi devata bhagavaan kee is param yogamayee gati ko dekhakar unakee bhoori-bhoori prashansa karate hue apane-apane lok mein chale gaye.

Comments

comments