Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » अपनी नियामतें

अपनी नियामतें

apanee-niyaamaten

apanee-niyaamaten

apanee niyaamaten

apanee niyaamaten

आपने लोगों को कहते सुना होगा कि अपनी नियामतें गिनो! जब आप कृतज्ञ होने के लिए चीजें खोजते हैं, तो दरअसल आप बिल्कुल यही कर रहे होते हैं। लेकिन हो सकता है आपको यह अहसास न हो कि अपनी नियामतें गिनना एक बहुत ही शक्तिशाली अभ्यास है, जिससे आपका पूरा जीवन जादुई ढंग से बदल जाएगा! जब आप अपने पास मौजूद चीजों के लिए कृतज्ञ होते हैं, तो चाहे वे कितनी भी छोटी क्यों न हों, आप उन्हें तुरंत बढ़ता हुआ देखेंगे। यदि आप उस धन के लिए कृतज्ञ हैं, जो आपके पास है, चाहे वह कितना भी कम क्यों न हो, तो आप देखेंगे कि आपका धन जादुई ढंग से बढ़ रहा है। यदि आप किसी संबंध के लिए कृतज्ञ हैं, भले ही वह आदर्श न हो, तो आप उसे चमत्कारिक अदांज में बेहतर होते देखेंगे। यदि आप अपनी वर्तमान नौकरी के लिए कृतज्ञ हैं, भले ही वह आपके सपनों की नौकरी न हो, तो परिस्थितियां इस तरह बदलने लगेंगी कि आपको नौकरी में अधिक आनंद आएगा और सभी तरह की प्रगति के अवसर अचानक प्रकट हो जाएंगे। इसका दूसरा पहलू यह है कि जब हम अपनी नियामतें नहीं हिनते हैं, तो हम अनजाने में ही नकारात्मक चीजों को गिनने के जाल में फंस सकते हैं। जब हम उन चीजों के बारे में बात करते हैं, जो हमारे पास नहीं हैं, तो हम निश्चित रुप से नकारात्मक चाजों को गिन रहे होते हैं। जब हम दूसरों की आलोचना करते हैं या उनमें दोष ढूंढ़ते हैं, जब हम ट्रैफिक, लाइन में इंतजार करने, देर होने, सरकार, पर्याप्त पैसा न होने या मौसम की शिकायत करते हैं। जब हम नकारात्मक चीजों को गिनते हैं, तो वे बढ़ भी जाती हैं, लेकिन उससे भी बड़ी बात यह है कि हमारी गिनी हुई हर नकारात्मक चीज उन नियामतों गिनने और नकारात्मक चीजें गिनने दोनों को आजमाकर देखा है और मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि अपनी नियामतें गिनना ही जीवन में समृद्धि पाने का एकमात्र तरीका है। सुबह सबसे पहले या दिन में जितनी जल्दी हो सके, अपनी नियामतें गिनें। आप अपनी सूची हाथ से लिख सकते हैं, इसे कंप्यूटर पर टाइप कर सकते हैं या किसी खास तरह की पुस्तिका या जर्नल का इस्तमाल कर सकते हैं, ताकि कृतज्ञ होने के सारे कारण एक ही जगह आ जाएं। आज अपने जीवन की उन दस नियामतों की सरल सूची बनाएंगे, जिनके लिए आप कृतज्ञ हैं। जब आईंस्टाइन ने धन्यवाद दिया था, तो उन्होंने यह सोचा था कि वे क्यों कृतज्ञ हैं ? जब आप किसी खास चीज, व्यक्ति या स्थिति के लिए क्यों कृतज्ञ हैं, इस बारे में सोचेंगे तो आप कृतज्ञता को अधिक गहराई से महसूस करेंगे। याद रखें, कृतज्ञता का जादू आपकी भावना की प्रहलता के अनुरूप होता है ! इसलिए अपनी सूची की हर चीज के सामने कारण अवश्य लिखें कि आप उसके लिए क्यों कृतज्ञ हैं। अपनी दस नियामतों की सूची बनाने के बाद हर नियामत को पढ़ें, या तो मन ही मन या फिर जोर से। जब आप हर नियामत के अंत में पहुंचें, तो जादुई शब्द धन्यवाद, धन्यवाद, धन्यवाद को तीन बार दोहराएं और उस नियामत की कृतज्ञता को अधिक से अधिक महसूस करें। अधिक कृतज्ञता महसूस करने के लिए आप सृष्टि, ईश्वर, परमात्मा, अच्छाई, जीवन, आपके उच्चतर स्वरुप या जो भी अवधारा आपको आकर्षित करती हो, उसकी प्रति कृतज्ञ हो सकते हैं। जब आप किसी चीज या व्यक्ति की ओर कृतज्ञता को निर्देशित करते हैं, तो आप इसे और अधिक महसूस करते हैं। इस तरह आपकी कृतज्ञता की शक्ति बढ़ जाएगी तथा यह और अधिक जादू करेगी! इसी वजह से प्राचीन संस्कृतियों ने सूर्य जैसे प्रती कों को चुना, ताकि कृतज्ञता उनकी दिशा में भेजी जा सकें। वे सारी अच्छाई के सर्नव्यापी स्त्रोत का प्रतिनिधित्व करने के लिए भौतिक प्रतीक का इस्तेमाल कर रहे थे और उस प्रतीक पर ध्यान केंद्रित करने से अधिक कृतज्ञता महसूस कर रहे थे। अपनी नियामतें गिनने का अभ्यास आपके पूरे जीवन के बदल देगा। यह इतना सरल और शक्तिशाली है कि मैं चाहता हूं कि आप अगले 27 दिनों तक अपनी सूची में हर दिन दस नई नियामतें जोड़ते चले जाएं। हांलाकि आपको लग सकता है कि हर दिन कृतज्ञता के लिए दस चीजें खोजना मुश्किल होगा, लेकिन आप इस पर जितना अधिक सोचेंगे, आपको उतना ही अधिक अहसास होगा कि आपके पास कृतज्ञ होने के लिए कितनी सारी चीजें हैं। अपने जीवन को गौर से देखें; आपने हर दिन इतना अधिक पाया है और पा रहे हैं। धन्यवाद देने के लिए कितना कुछ है ! आप अपने घर, परिवार, मित्रों, कामकाज और पालतू पशुओं के लिए कृतज्ञ हो सकते हैं। आप सूरज के लिए कृतज्ञ हो सकते हैं, जिसकी धूप आप सेकते हैं। उस पानी के लिए, जो आप पीते हैं। उस भोजन के लिए, जो आप खाते हैं। उस हवा के लिए, जिसमें आप सांस लेते हैं। इनमें से किसी के बिना भी आप जीवित नहीं होते। आप वृक्षों, पशुओं, समुद्रों, पक्षियों, फूलों, पौधों, नीले आसमान, वर्षा, तारों, चाद्रमा और हमारे सुंदर ग्रह पृथ्वी के लिए कृतज्ञ हो सकते हैं। आप अपनी इंद्रियों के लिए कृतज्ञ हो सकते हैं ः जिन आंखों से आप देखते हैं, जिन कानों से आप सुनते हैं, जिस जीभ से आप स्वाद लेते हैं, जिस नाक से आप गंध लेते हैं और जो त्वचा आपको महसूस करने में समर्थ बनाती है। आप उन पैरों के लिए कृतज्ञ हो सकते हैं, जिनके सहारे आप चलते हैं; अपने हाथों के लिए, जिनकी मदद से आप लगभग हर काम करते हैं; अपनी आवाज के लिए, जो आपको स्वयं को अभिव्यक्त करने तथा दूसरों से संवाद करने में समर्थ बनाती है। आप अपने अद्भूत प्रतिरक्षा तंत्र के लिए धन्यवाद दे सकते हैं, जो आपको स्वस्थ रखता है और अपने सभी अंगों के लिए, जो आपके शरीर में जीवन को बनाए रखने के लिए काम करते हैं। और आपके मानव मस्तिष्क की भव्यता का क्या कहना, जिसकी बराबरी संसार की कोई भी कंप्यूटर टेक्नोलॉजी नहीं कर सकती? अपनी नियामतें गिनने के बाद हर बार आपको बेहतर और ज्यादा खुशी महसूस होनी चाहिए। आप कितना अच्छा महसूस करते हैं, यही इस बात का पैमाना है कि आपने कितनी कृतज्ञता महसूस की थी। आपने जितनी अधिक कृतज्ञता महसूस की होगी,आप उतनी ही ज्यादा खुशी महसूस करेंगे और आपका जीवन उतनी ही तेजी से बदलेगा। कई दिन ऐसे होंगे कि आप तत्काल खुशी महसूस करेंगे और बाकी दिन संभवतः उनमें थोड़ा अधिक समय लगेगा। लेकिन जब आप हर दिन अपनी नियामतें गिनना जारी रखते हैं, तो आप अपने अहसास में बहुत बड़ा फर्क महसूस करेंगे। आप अपनी नियामतों को जादू से कई गुना होता हुआ देखेंगे!

wish4me to English

aapane logon ko kahate suna hoga ki apanee niyaamaten gino! jab aap krtagy hone ke lie cheejen khojate hain, to darasal aap bilkul yahee kar rahe hote hain. lekin ho sakata hai aapako yah ahasaas na ho ki apanee niyaamaten ginana ek bahut hee shaktishaalee abhyaas hai, jisase aapaka poora jeevan jaaduee dhang se badal jaega! jab aap apane paas maujood cheejon ke lie krtagy hote hain, to chaahe ve kitanee bhee chhotee kyon na hon, aap unhen turant badhata hua dekhenge. yadi aap us dhan ke lie krtagy hain, jo aapake paas hai, chaahe vah kitana bhee kam kyon na ho, to aap dekhenge ki aapaka dhan jaaduee dhang se badh raha hai. yadi aap kisee sambandh ke lie krtagy hain, bhale hee vah aadarsh na ho, to aap use chamatkaarik adaanj mein behatar hote dekhenge. yadi aap apanee vartamaan naukaree ke lie krtagy hain, bhale hee vah aapake sapanon kee naukaree na ho, to paristhitiyaan is tarah badalane lagengee ki aapako naukaree mein adhik aanand aaega aur sabhee tarah kee pragati ke avasar achaanak prakat ho jaenge. isaka doosara pahaloo yah hai ki jab ham apanee niyaamaten nahin hinate hain, to ham anajaane mein hee nakaaraatmak cheejon ko ginane ke jaal mein phans sakate hain. jab ham un cheejon ke baare mein baat karate hain, jo hamaare paas nahin hain, to ham nishchit rup se nakaaraatmak chaajon ko gin rahe hote hain. jab ham doosaron kee aalochana karate hain ya unamen dosh dhoondhate hain, jab ham traiphik, lain mein intajaar karane, der hone, sarakaar, paryaapt paisa na hone ya mausam kee shikaayat karate hain. jab ham nakaaraatmak cheejon ko ginate hain, to ve badh bhee jaatee hain, lekin usase bhee badee baat yah hai ki hamaaree ginee huee har nakaaraatmak cheej un niyaamaton ginane aur nakaaraatmak cheejen ginane donon ko aajamaakar dekha hai aur main aapako aashvast kar sakata hoon ki apanee niyaamaten ginana hee jeevan mein samrddhi paane ka ekamaatr tareeka hai. subah sabase pahale ya din mein jitanee jaldee ho sake, apanee niyaamaten ginen. aap apanee soochee haath se likh sakate hain, ise kampyootar par taip kar sakate hain ya kisee khaas tarah kee pustika ya jarnal ka istamaal kar sakate hain, taaki krtagy hone ke saare kaaran ek hee jagah aa jaen. aaj apane jeevan kee un das niyaamaton kee saral soochee banaenge, jinake lie aap krtagy hain. jab aaeenstain ne dhanyavaad diya tha, to unhonne yah socha tha ki ve kyon krtagy hain ? jab aap kisee khaas cheej, vyakti ya sthiti ke lie kyon krtagy hain, is baare mein sochenge to aap krtagyata ko adhik gaharaee se mahasoos karenge. yaad rakhen, krtagyata ka jaadoo aapakee bhaavana kee prahalata ke anuroop hota hai ! isalie apanee soochee kee har cheej ke saamane kaaran avashy likhen ki aap usake lie kyon krtagy hain. apanee das niyaamaton kee soochee banaane ke baad har niyaamat ko padhen, ya to man hee man ya phir jor se. jab aap har niyaamat ke ant mein pahunchen, to jaaduee shabd dhanyavaad, dhanyavaad, dhanyavaad ko teen baar doharaen aur us niyaamat kee krtagyata ko adhik se adhik mahasoos karen. adhik krtagyata mahasoos karane ke lie aap srshti, eeshvar, paramaatma, achchhaee, jeevan, aapake uchchatar svarup ya jo bhee avadhaara aapako aakarshit karatee ho, usakee prati krtagy ho sakate hain. jab aap kisee cheej ya vyakti kee or krtagyata ko nirdeshit karate hain, to aap ise aur adhik mahasoos karate hain. is tarah aapakee krtagyata kee shakti badh jaegee tatha yah aur adhik jaadoo karegee! isee vajah se praacheen sanskrtiyon ne soory jaise pratee kon ko chuna, taaki krtagyata unakee disha mein bhejee ja saken. ve saaree achchhaee ke sarnavyaapee strot ka pratinidhitv karane ke lie bhautik prateek ka istemaal kar rahe the aur us prateek par dhyaan kendrit karane se adhik krtagyata mahasoos kar rahe the. apanee niyaamaten ginane ka abhyaas aapake poore jeevan ke badal dega. yah itana saral aur shaktishaalee hai ki main chaahata hoon ki aap agale 27 dinon tak apanee soochee mein har din das naee niyaamaten jodate chale jaen. haanlaaki aapako lag sakata hai ki har din krtagyata ke lie das cheejen khojana mushkil hoga, lekin aap is par jitana adhik sochenge, aapako utana hee adhik ahasaas hoga ki aapake paas krtagy hone ke lie kitanee saaree cheejen hain. apane jeevan ko gaur se dekhen; aapane har din itana adhik paaya hai aur pa rahe hain. dhanyavaad dene ke lie kitana kuchh hai ! aap apane ghar, parivaar, mitron, kaamakaaj aur paalatoo pashuon ke lie krtagy ho sakate hain. aap sooraj ke lie krtagy ho sakate hain, jisakee dhoop aap sekate hain. us paanee ke lie, jo aap peete hain. us bhojan ke lie, jo aap khaate hain. us hava ke lie, jisamen aap saans lete hain. inamen se kisee ke bina bhee aap jeevit nahin hote. aap vrkshon, pashuon, samudron, pakshiyon, phoolon, paudhon, neele aasamaan, varsha, taaron, chaadrama aur hamaare sundar grah prthvee ke lie krtagy ho sakate hain. aap apanee indriyon ke lie krtagy ho sakate hain h jin aankhon se aap dekhate hain, jin kaanon se aap sunate hain, jis jeebh se aap svaad lete hain, jis naak se aap gandh lete hain aur jo tvacha aapako mahasoos karane mein samarth banaatee hai. aap un pairon ke lie krtagy ho sakate hain, jinake sahaare aap chalate hain; apane haathon ke lie, jinakee madad se aap lagabhag har kaam karate hain; apanee aavaaj ke lie, jo aapako svayan ko abhivyakt karane tatha doosaron se sanvaad karane mein samarth banaatee hai. aap apane adbhoot pratiraksha tantr ke lie dhanyavaad de sakate hain, jo aapako svasth rakhata hai aur apane sabhee angon ke lie, jo aapake shareer mein jeevan ko banae rakhane ke lie kaam karate hain. aur aapake maanav mastishk kee bhavyata ka kya kahana, jisakee baraabaree sansaar kee koee bhee kampyootar teknolojee nahin kar sakatee? apanee niyaamaten ginane ke baad har baar aapako behatar aur jyaada khushee mahasoos honee chaahie. aap kitana achchha mahasoos karate hain, yahee is baat ka paimaana hai ki aapane kitanee krtagyata mahasoos kee thee. aapane jitanee adhik krtagyata mahasoos kee hogee,aap utanee hee jyaada khushee mahasoos karenge aur aapaka jeevan utanee hee tejee se badalega. kaee din aise honge ki aap tatkaal khushee mahasoos karenge aur baakee din sambhavatah unamen thoda adhik samay lagega. lekin jab aap har din apanee niyaamaten ginana jaaree rakhate hain, to aap apane ahasaas mein bahut bada phark mahasoos karenge. aap apanee niyaamaton ko jaadoo se kaee guna hota hua dekhenge!

Comments

comments