Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » अय्यप्पा स्वामी मंदिर (Ayyappa Swamy Temple)

अय्यप्पा स्वामी मंदिर (Ayyappa Swamy Temple)

ayyappa-swamy-temple

ayyappa-swamy-temple

Ayyappa Swamy Temple

Ayyappa Swamy Temple

अय्यप्पा स्वामी मंदिर भारत के केरल राज्य में स्थित हिन्दुओं का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है। यहां एक दिव्य ज्योति स्थित है, जो हर समय जलती रहती है। इस दिव्य ज्योति को मकर ज्योति कहते है। माना जाता है कि अय्यप्पा भगवान शिव और विष्णु अवतार मोहिनी के पुत्र थे। इस मंदिर (Lord Ayyappa Temple, Kerala) को दक्षिण भारत का तीर्थ भी कहा जाता है। इस मंदिर को वैष्णव और शैव संप्रदायों की एकता का परिचायक माना जाता है।

अय्यप्पा से जुड़ी एक कहानी (Story of Lord Ayyappa)
पुराणों के अनुसार अय्यप्पा शास्ता का अवतार हैं। कहा जाता है कि भगवान अय्यप्पा भगवान शिव और विष्णु के पुत्र थे। एक कथा के अनुसार एक राक्षसी महिषी को वरदान था, की उसकी मृत्यु केवल हरिहर के पुत्र के हाथों ही होगी। इसके पश्चात जब अय्यपप्पा का जन्म हुआ, तो भगवान विष्णु ने उन्हें एक नदी तट पर छोड़ दिया।

इसके बाद पंदल के राजा राजशेखरा ने अय्यप्पा का पालन पोषण किया। राजा को उससे पहले कोई पुत्र नहीं था। परंतु अय्यप्पा के आने के बाद राजा को भी एक पुत्र की प्राप्ति हुई। इसके बाद जब राज पाठ सौंपने का समय हुआ तो राजा राजगद्दी पर अय्यप्पा को बिठाना चाहते थे, लेकिन महारानी इस बात से सहमत नही थीं।

इसके बाद महारानी ने बीमारी का बहाना करते हुए अय्यप्पा को जंगल में शेरनी का दूध लाने के लिए भेज दिया। जब अय्यप्पा जंगल में गए तो वहां उनका सामना राक्षसी महिषी से हुआ, जिसका वध करने के लिए उनका जन्म हुआ था। अय्यप्पा ने राक्षसनी का वध किया तथा शेर पर सवार होकर राजमहल लोटे।

राजा ने जब अय्यप्पा को शेर पर सवार देखा तो वह हैरान हो गया। तब अय्यप्पा ने कहा कि “अब मैं यहां नहीं रह सकता हूं मैं जा रहा हूं। तब राजा ने अय्यप्पा को देव अवतार मानते हुए इस मंदिर का निर्माण करवाया था।

अय्यप्पा स्वामी मंदिर की विशेषता (Facts of Sabarimala Lord Ayyappa Temple, Kerala)

माना जाता है कि अय्यप्पा भगवान ब्रह्मचारी हैं। इसलिए यहां महिलाओं का प्रवेश निषेध है। यहां केवल 60 साल से छोटी लड़कियां और 60 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाएं ही प्रवेश कर सकती हैं। इस मंदिर का द्वार हर धर्म के लोगों के लिए खुला रहता है। अय्यप्पा अपने भक्तों पर कृपा दृष्टि हर समय बनाएं रखते हैं।
यहां मकर संक्रांति के अवसर पर मंदिर के गर्भगृह तक पहुंचने के लिए 18 पवित्र सीढियां चढ़नी होती हैं। यह सीढियां मनुष्य के 18 लक्षणों को दर्शाती हैं। हर साल मकर संक्रांति के दिन यहां एक उत्सव मनाया जाता है। इस दिन लाखों श्रद्धालु अय्यप्पा मंदिर में पूजा-अर्चना के लिए इकट्ठा होते हैं।
wish4mai to ainglish

ayyapp svaamaiai mandir bhaarat kai kairal raajy maiin sthit hinduon ka aik pramukh dhaarmik sthaan hai. yahaan aik divy jyoti sthit hai, jo har samay jalataiai rahataiai hai. is divy jyoti ko makar jyoti kahatai hai. maan jaat hai ki ayyapp bhagavaan shiv aur vishnu avataar mohinaiai kai putr thai. is mandir (lord ayyapp taimplai, kairal) ko dakshin bhaarat ka taiairth bhaiai kah jaat hai. is mandir ko vaishnav aur shaiv sampradaayon kaiai aikat ka parichhaayak maan jaat hai.

ayyapp sai judaiai aik kahaanaiai (story of lord ayyapp)
puraanon kai anusaar ayyapp shaast ka avataar hain. kah jaat hai ki bhagavaan ayyapp bhagavaan shiv aur vishnu kai putr thai. aik kath kai anusaar aik raakshasaiai mahishaiai ko varadaan th, kaiai usakaiai mrtyu kaival harihar kai putr kai haathon haiai hogaiai. isakai pashchhaat jab ayyapapp ka janm hu, to bhagavaan vishnu nai unhain aik nadaiai tat par chhhod diy.

isakai baad pandal kai raaj raajashaikhar nai ayyapp ka paalan poshan kiy. raaj ko usasai pahalai koaiai putr nahin th. parantu ayyapp kai aanai kai baad raaj ko bhaiai aik putr kaiai praapti huaiai. isakai baad jab raaj paath saumpanai ka samay hu to raaj raajagaddaiai par ayyapp ko bithaan chhaahatai thai, laikin mahaaraanaiai is baat sai sahamat nahaiai thaiain.

isakai baad mahaaraanaiai nai baiaimaaraiai ka bahaan karatai huai ayyapp ko jangal maiin shairanaiai ka doodh laanai kai liai bhaij diy. jab ayyapp jangal maiin gaai to vahaan unak saaman raakshasaiai mahishaiai sai hu, jisak vadh karanai kai liai unak janm hu th. ayyapp nai raakshasanaiai ka vadh kiy tath shair par savaar hokar raajamahal lotai.

raaj nai jab ayyapp ko shair par savaar daikh to vah hairaan ho gay. tab ayyapp nai kah ki “ab main yahaan nahin rah sakat hoon main ja rah hoon. tab raaj nai ayyapp ko daiv avataar maanatai huai is mandir ka nirmaan karavaay th.

ayyapp svaamaiai mandir kaiai vishaishat (fachhts of sabarimal lord ayyapp taimplai, kairal)

maan jaat hai ki ayyapp bhagavaan brahmachhaaraiai hain. isaliai yahaan mahilaon ka pravaish nishaidh hai. yahaan kaival 60 saal sai chhhotaiai ladakiyaan aur 60 varsh sai adhik umr kaiai mahilaain haiai pravaish kar sakataiai hain. is mandir ka dvaar har dharm kai logon kai liai khul rahat hai. ayyapp apanai bhakton par krp drshti har samay banaain rakhatai hain.
yahaan makar sankraanti kai avasar par mandir kai garbhagrh tak pahunchhanai kai liai 18 pavitr saiaidhiyaan chhadhanaiai hotaiai hain. yah saiaidhiyaan manushy kai 18 lakshanon ko darshaataiai hain. har saal makar sankraanti kai din yahaan aik utsav manaay jaat hai. is din laakhon shraddhaalu ayyapp mandir maiin pooj-archhan kai liai ikatth hotai hain.

Comments

comments