Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » बाड़े की कील (Knowledge Story)

बाड़े की कील (Knowledge Story)

baade-kee-keel-story

baade-kee-keel-story

Baade kee keel

Dosti Ki Agg Story

बहुत समय पहले की बात है, एक गाँव में एक लड़का रहता था. वह बहुत ही गुस्सैल था, छोटी-छोटी बात पर अपना आप खो बैठता और लोगों को भला-बुरा कह देता. उसकी इस आदत से परेशान होकर एक दिन उसके पिता ने उसे कीलों से भरा हुआ एक थैला दिया और कहा कि , ” अब जब भी तुम्हे गुस्सा आये तो तुम इस थैले में से एक कील निकालना और बाड़े में ठोक देना.”

पहले दिन उस लड़के को चालीस बार गुस्सा किया और इतनी ही कीलें बाड़े में ठोंक दी.पर  धीरे-धीरे कीलों  की संख्या घटने लगी,उसे लगने लगा की कीलें ठोंकने में इतनी मेहनत करने से अच्छा है कि अपने क्रोध पर काबू किया जाए और अगले कुछ हफ्तों में उसने अपने गुस्से पर बहुत हद्द तक  काबू करना सीख लिया. और फिर एक दिन ऐसा आया कि उस लड़के ने पूरे दिन में एक बार भी अपना temper नहीं loose किया.

जब उसने अपने पिता को ये बात बताई तो उन्होंने ने फिर उसे एक काम दे दिया, उन्होंने कहा कि ,” अब हर उस दिन जिस दिन तुम एक बार भी गुस्सा ना करो इस बाड़े से एक कील निकाल निकाल देना.”

लड़के ने ऐसा ही किया, और बहुत समय बाद वो दिन भी आ गया जब लड़के ने बाड़े में लगी आखिरी कील भी निकाल दी, और अपने पिता को ख़ुशी से ये बात बतायी.

तब पिताजी उसका हाथ पकड़कर उस बाड़े के पास ले गए, और बोले, ” बेटे तुमने बहुत अच्छा काम किया है, लेकिन क्या तुम बाड़े में हुए छेदों को देख पा रहे हो. अब वो बाड़ा कभी भी वैसा नहीं बन सकता जैसा वो पहले था.जब तुम क्रोध में कुछ कहते हो तो वो शब्द भी इसी तरह सामने वाले व्यक्ति पर गहरे घाव छोड़ जाते हैं.”

इसलिए अगली बार अपना temper loose करने से पहले सोचिये कि क्या आप भी उस बाड़े में और कीलें ठोकना चाहते हैं !!!

 wish4me to English

Bahut samay pahale kee baat hai, ek gaanv men ek ladkaa rahataa thaa. Vah bahut hee gussail thaa, chhoṭee-chhoṭee baat par apanaa aap kho baiṭhataa aur logon ko bhalaa-buraa kah detaa. Usakee is aadat se pareshaan hokar ek din usake pitaa ne use keelon se bharaa huaa ek thailaa diyaa aur kahaa ki , ” ab jab bhee tumhe gussaa aaye to tum is thaile men se ek keel nikaalanaa aur baade men ṭhok denaa.”

pahale din us ladke ko chaalees baar gussaa kiyaa aur itanee hee keelen baade men ṭhonk dee. Par dheere-dheere keelon kee snkhyaa ghaṭane lagee,use lagane lagaa kee keelen ṭhonkane men itanee mehanat karane se achchhaa hai ki apane krodh par kaaboo kiyaa jaa_e aur agale kuchh hafton men usane apane gusse par bahut hadd tak kaaboo karanaa seekh liyaa. Aur fir ek din aisaa aayaa ki us ladke ne poore din men ek baar bhee apanaa temper naheen loose kiyaa. Jab usane apane pitaa ko ye baat bataa_ii to unhonne ne fir use ek kaam de diyaa, unhonne kahaa ki ,” ab har us din jis din tum ek baar bhee gussaa naa karo is baade se ek keel nikaal nikaal denaa.”

ladke ne aisaa hee kiyaa, aur bahut samay baad vo din bhee aa gayaa jab ladke ne baade men lagee aakhiree keel bhee nikaal dee, aur apane pitaa ko khaushee se ye baat bataayee. Tab pitaajee usakaa haath pakadkar us baade ke paas le ga_e, aur bole, ” beṭe tumane bahut achchhaa kaam kiyaa hai, lekin kyaa tum baade men hue chhedon ko dekh paa rahe ho. Ab vo baadaa kabhee bhee vaisaa naheen ban sakataa jaisaa vo pahale thaa. Jab tum krodh men kuchh kahate ho to vo shabd bhee isee tarah saamane vaale vyakti par gahare ghaav chhod jaate hain.”

isalie agalee baar apanaa temper loose karane se pahale sochiye ki kyaa aap bhee us baade men aur keelen ṭhokanaa chaahate hain !!!

 

Comments

comments