Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » Baaj kee udaan/बाज की उड़ान

Baaj kee udaan/बाज की उड़ान

baaj-kee-udaan

baaj-kee-udaan

Baaj-kee-udaan

Baaj-kee-udaan

एक बार की बात है कि एक बाज का अंडा मुर्गी के अण्डों के बीच आ गया. कुछ दिनों  बाद उन अण्डों में से चूजे निकले, बाज का बच्चा भी उनमे से एक था.वो उन्ही के बीच बड़ा होने लगा. वो वही करता जो बाकी चूजे करते, मिटटी में इधर-उधर खेलता, दाना चुगता और दिन भर उन्हीकी तरह चूँ-चूँ करता. बाकी चूजों की तरह वो भी बस थोडा सा ही ऊपर उड़ पाता , और पंख फड़-फडाते हुए नीचे आ जाता . फिर एक दिन उसने एक बाज को खुले आकाश में उड़ते हुए देखा, बाज बड़े शान से बेधड़क उड़ रहा था. तब उसने बाकी चूजों से पूछा, कि-

” इतनी उचाई पर उड़ने वाला वो शानदार पक्षी कौन है?”

तब चूजों ने कहा-” अरे वो बाज है, पक्षियों का राजा, वो बहुत ही ताकतवर और विशाल है , लेकिन तुम उसकी तरह नहीं उड़ सकते क्योंकि तुम तो एक चूजे हो!”

बाज के बच्चे ने इसे सच मान लिया और कभी वैसा बनने की कोशिश नहीं की. वो ज़िन्दगी भर चूजों की तरह रहा, और एक दिन बिना अपनी असली ताकत पहचाने ही मर गया.

दोस्तों , हममें से बहुत से लोग  उस बाज की तरह ही अपना असली potential जाने बिना एक second-class ज़िन्दगी जीते रहते हैं, हमारे आस-पास की mediocrity हमें भी mediocre बना देती है.हम में ये भूल जाते हैं कि हम आपार संभावनाओं से पूर्ण एक प्राणी हैं. हमारे लिए इस जग में कुछ भी असंभव नहीं है,पर फिर भी बस एक औसत जीवन जी के हम इतने बड़े मौके को गँवा देते हैं.

आप चूजों  की तरह मत बनिए , अपने आप पर ,अपनी काबिलियत पर भरोसा कीजिए. आप चाहे जहाँ हों, जिस परिवेश में हों, अपनी क्षमताओं को पहचानिए और आकाश की ऊँचाइयों पर उड़ कर  दिखाइए  क्योंकि यही आपकी वास्तविकता है.

wish4me to English

Ek baar kee baat hai ki ek baaj kaa anḍaa murgee ke aṇaḍaon ke beech aa gayaa. Kuchh dinon baad un aṇaḍaon men se chooje nikale, baaj kaa bachchaa bhee uname se ek thaa. Vo unhee ke beech badaa hone lagaa. Vo vahee karataa jo baakee chooje karate, miṭaṭee men idhar-udhar khelataa, daanaa chugataa aur din bhar unheekee tarah choon-choon karataa. Baakee choojon kee tarah vo bhee bas thoḍaa saa hee oopar ud paataa , aur pnkh fad-faḍaate hue neeche aa jaataa . Fir ek din usane ek baaj ko khule aakaash men udte hue dekhaa, baaj bade shaan se bedhadk ud rahaa thaa. Tab usane baakee choojon se poochhaa, ki-

” itanee uchaa_ii par udne vaalaa vo shaanadaar pakṣee kaun hai?”

tab choojon ne kahaa-” are vo baaj hai, pakṣiyon kaa raajaa, vo bahut hee taakatavar aur vishaal hai , lekin tum usakee tarah naheen ud sakate kyonki tum to ek chooje ho!”

baaj ke bachche ne ise sach maan liyaa aur kabhee vaisaa banane kee koshish naheen kee. Vo zaindagee bhar choojon kee tarah rahaa, aur ek din binaa apanee asalee taakat pahachaane hee mar gayaa. Doston , hamamen se bahut se log us baaj kee tarah hee apanaa asalee potential jaane binaa ek second-class zaindagee jeete rahate hain, hamaare aas-paas kee mediocrity hamen bhee mediocre banaa detee haiam men ye bhool jaate hain ki ham aapaar snbhaavanaa_on se poorṇa ek praaṇaee hain. Hamaare lie is jag men kuchh bhee asnbhav naheen hai,par fir bhee bas ek ausat jeevan jee ke ham itane bade mauke ko gnvaa dete hain. Aap choojon kee tarah mat banie , apane aap par ,apanee kaabiliyat par bharosaa keejie. Aap chaahe jahaan hon, jis parivesh men hon, apanee kṣamataa_on ko pahachaanie aur aakaash kee oonchaa_iyon par ud kar dikhaa_ie kyonki yahee aapakee vaastavikataa hai.

 

Comments

comments