Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » बड़ा बनने के लिए बड़ा सोचो

बड़ा बनने के लिए बड़ा सोचो

bada-banane-ke-lie-bada-socho

bada-banane-ke-lie-bada-socho

bada banane ke lie bada socho

bada banane ke lie bada socho

अत्यंत गरीब परिवार का एक  बेरोजगार युवक  नौकरी की तलाश में  किसी दूसरे शहर जाने के लिए  रेलगाड़ी से  सफ़र कर रहा था | घर में कभी-कभार ही सब्जी बनती थी, इसलिए उसने रास्ते में खाने के लिए सिर्फ रोटीयां ही रखी थी |

आधा रास्ता गुजर जाने के बाद उसे भूख लगने लगी, और वह टिफिन में से रोटीयां निकाल कर खाने लगा | उसके खाने का तरीका कुछ अजीब था , वह रोटी का  एक टुकड़ा लेता और उसे टिफिन के अन्दर कुछ ऐसे डालता मानो रोटी के साथ कुछ और भी खा रहा हो, जबकि उसके पास तो सिर्फ रोटीयां थीं!! उसकी इस हरकत को आस पास के और दूसरे यात्री देख कर हैरान हो रहे थे | वह युवक हर बार रोटी का एक टुकड़ा लेता और झूठमूठ का टिफिन में डालता और खाता | सभी सोच रहे थे कि आखिर वह युवक ऐसा क्यों कर रहा था | आखिरकार  एक व्यक्ति से रहा नहीं गया और उसने उससे पूछ ही लिया की भैया तुम ऐसा क्यों कर रहे हो, तुम्हारे पास सब्जी तो है ही नहीं फिर रोटी के टुकड़े को हर बार खाली टिफिन में डालकर ऐसे खा रहे हो मानो उसमे सब्जी हो |

तब उस युवक  ने जवाब दिया, “भैया , इस खाली ढक्कन में सब्जी नहीं है लेकिन मै अपने मन में यह सोच कर खा रहा हू की इसमें बहुत सारा आचार है,  मै आचार के साथ रोटी खा रहा हू  |”

फिर व्यक्ति ने पूछा , “खाली ढक्कन में आचार सोच कर सूखी रोटी को खा रहे हो तो क्या तुम्हे आचार का स्वाद आ रहा है ?”

“हाँ, बिलकुल आ रहा है , मै रोटी  के साथ अचार सोचकर खा रहा हूँ और मुझे बहुत अच्छा भी लग रहा है |”, युवक ने जवाब दिया|

 उसके इस बात को आसपास के यात्रियों ने भी सुना, और उन्ही में से एक व्यक्ति बोला , “जब सोचना ही था तो तुम आचार की जगह पर मटर-पनीर सोचते, शाही गोभी सोचते….तुम्हे इनका स्वाद मिल जाता | तुम्हारे कहने के मुताबिक तुमने आचार सोचा तो आचार का स्वाद आया तो और स्वादिष्ट चीजों के बारे में सोचते तो उनका स्वाद आता | सोचना ही था तो भला  छोटा क्यों सोचे तुम्हे तो बड़ा सोचना चाहिए था |”

मित्रो इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है की जैसा सोचोगे वैसा पाओगे | छोटी सोच होगी तो छोटा मिलेगा, बड़ी सोच होगी तो बड़ा मिलेगा | इसलिए जीवन में हमेशा बड़ा सोचो | बड़े सपने देखो , तो हमेश बड़ा ही पाओगे | छोटी सोच में भी उतनी ही उर्जा और समय खपत होगी जितनी बड़ी सोच में, इसलिए जब सोचना ही है तो हमेशा बड़ा ही सोचो|

wish4me to English

atyant gareeb parivaar ka ek berojagaar yuvak naukaree kee talaash mein kisee doosare shahar jaane ke lie relagaadee se safar kar raha tha | ghar mein kabhee-kabhaar hee sabjee banatee thee, isalie usane raaste mein khaane ke lie sirph roteeyaan hee rakhee thee |

aadha raasta gujar jaane ke baad use bhookh lagane lagee, aur vah tiphin mein se roteeyaan nikaal kar khaane laga | usake khaane ka tareeka kuchh ajeeb tha , vah rotee ka ek tukada leta aur use tiphin ke andar kuchh aise daalata maano rotee ke saath kuchh aur bhee kha raha ho, jabaki usake paas to sirph roteeyaan theen!! usakee is harakat ko aas paas ke aur doosare yaatree dekh kar hairaan ho rahe the | vah yuvak har baar rotee ka ek tukada leta aur jhoothamooth ka tiphin mein daalata aur khaata | sabhee soch rahe the ki aakhir vah yuvak aisa kyon kar raha tha | aakhirakaar ek vyakti se raha nahin gaya aur usane usase poochh hee liya kee bhaiya tum aisa kyon kar rahe ho, tumhaare paas sabjee to hai hee nahin phir rotee ke tukade ko har baar khaalee tiphin mein daalakar aise kha rahe ho maano usame sabjee ho |

tab us yuvak ne javaab diya, “bhaiya , is khaalee dhakkan mein sabjee nahin hai lekin mai apane man mein yah soch kar kha raha hoo kee isamen bahut saara aachaar hai, mai aachaar ke saath rotee kha raha hoo |”

phir vyakti ne poochha , “khaalee dhakkan mein aachaar soch kar sookhee rotee ko kha rahe ho to kya tumhe aachaar ka svaad aa raha hai ?”

“haan, bilakul aa raha hai , mai rotee ke saath achaar sochakar kha raha hoon aur mujhe bahut achchha bhee lag raha hai |”, yuvak ne javaab diya|

usake is baat ko aasapaas ke yaatriyon ne bhee suna, aur unhee mein se ek vyakti bola , “jab sochana hee tha to tum aachaar kee jagah par matar-paneer sochate, shaahee gobhee sochate….tumhe inaka svaad mil jaata | tumhaare kahane ke mutaabik tumane aachaar socha to aachaar ka svaad aaya to aur svaadisht cheejon ke baare mein sochate to unaka svaad aata | sochana hee tha to bhala chhota kyon soche tumhe to bada sochana chaahie tha |”
mitro is kahaanee se hamen yah shiksha milatee hai kee jaisa sochoge vaisa paoge | chhotee soch hogee to chhota milega, badee soch hogee to bada milega | isalie jeevan mein hamesha bada socho | bade sapane dekho , to hamesh bada hee paoge | chhotee soch mein bhee utanee hee urja aur samay khapat hogee jitanee badee soch mein, isalie jab sochana hee hai to hamesha bada hee socho|

Comments

comments