Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा

भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा

bahgwan-jagannath-ki-rath-yatra

bahgwan-jagannath-ki-rath-yatra

 

jaganath1

jaganath1

✨ जगन्नाथ रथयात्रा भारत में मनाए जाने वाले धार्मिक महामहोत्सवों में सबसे प्रमुख तथा महत्त्वपूर्ण मानी जाती है। यह रथयात्रा न केवल भारत बल्कि विदेशों से आने वाले पर्यटकों के लिए भी ख़ासी दिलचस्पी और आकर्षण का केंद्र बनती है। भगवान श्रीकृष्ण के अवतार जगन्नाथ की रथयात्रा का पुण्य सौ यज्ञों के बराबर माना जाता है। सागर तट पर बसे पुरी शहर में होने वाली जगन्नाथ रथयात्रा उत्सव के समय आस्था का जो विराट वैभव देखने को मिलता है वह और कहीं दुर्लभ है। इस रथयात्रा के दौरान भक्तों को सीधे प्रतिमाओं तक पहुँचने का बहुत ही सुनहरा अवसर प्राप्त होता है। जगन्नाथ रथयात्रा दस दिवसीय महोत्सव होता है। यात्रा की तैयारी अक्षय तृतीया के दिन श्रीकृष्ण बलराम और सुभद्रा के रथों के निर्माण के साथ ही शुरू हो जाती है। देश-विदेश से लाखों लोग इस पर्व के साक्षी बनने हर वर्ष यहाँ आते हैं। भारत के चार पवित्र धामों में से एक पुरी के 800 वर्ष पुराने मुख्य मंदिर में योगेश्वर श्रीकृष्ण जगन्नाथ के रूप में विराजते हैं साथ ही यहाँ बलभद्र एवं सुभद्रा भी हैं। ✨

☀पौराणिक मान्यता☀

पौराणिक कथाओं के अनुसार श्रीकृष्ण अपने परम भक्त राज इन्द्रद्युम्न के सपने में आये और उन्हे आदेश दिया कि पुरी के दरिया किनारे पर पड़े एक पेड़ के तने में से वे श्री कृष्ण का विग्रह बनायें। राजा ने इस कार्य के लिये काबिल बढ़ई की तलाश शुरु की। कुछ दिनों बाद एक रहस्यमय बूढ़ा ब्राह्मण आया और उसने कहा कि प्रभु का विग्रह बनाने की जिम्मेदारी वो लेना चाहता है। लेकिन उसकी एक शर्त थी – कि वो विग्रह बन्द कमरे में बनायेगा और उसका काम खत्म होने तक कोई भी कमरे का दरवाजा नहीं खोलेगा नहीं तो वो काम अधूरा छोड़ कर चला जायेगा। 6-7 दिन बाद काम करने की आवाज़ आनी बन्द हो गयी तो राजा से रहा न गया और ये सोचते हुए कि ब्राह्मण को कुछ हो गया होगा, उसने दरवाजा खोल दिया पर अन्दर तो सिर्फ़ भगवान का अधूरा विग्रह ही मिला और बूढ़ा ब्राह्मण गायब हो चुका था। तब राजा को एहसास हुआ कि ब्राह्मण और कोई नहीं बल्कि देवों का वास्तुकार विश्वकर्मा था। राजा को आघात हो गया क्योंकि विग्रह के हाथ और पैर नहीं थे और वह पछतावा करने लगा कि उसने दरवाजा क्यों खोला पर तभी वहाँ पर ब्राह्मण के रूप में नारद मुनि पधारे और उन्होंने राजा से कहा कि भगवान इसी स्वरूप में अवतरित होना चाहते थे और दरवाजा खोलने का विचार स्वयं श्री कृष्ण ने राजा के दिमाग में डाला था। इसलिये उसे आघात महसूस करने का कोई कारण नहीं है और वह निश्चिन्त हो जाये क्योंकि सब श्री कृष्ण की इच्छा ही है। 🙏 🙏 🙏 🙏

➡भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा से जुड़ी ये खास और रोचक बातें ⬅

⭕ पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर भारत के चार पवित्र धामों में से एक है। वर्तमान मंदिर 800 वर्ष से अधिक प्राचीन है, जिसमें भगवान श्रीकृष्ण, जगन्नाथ रूप में विराजित है। साथ ही यहां उनके बड़े भाई बलराम (बलभद्र या बलदेव) और उनकी बहन देवी सुभद्रा की पूजा की जाती है।

⭕ पुरी रथयात्रा के लिए बलराम, श्रीकृष्ण और देवी सुभद्रा के लिए तीन अलग-अलग रथ निर्मित किए जाते हैं। रथयात्रा में सबसे आगे बलरामजी का रथ, उसके बाद बीच में देवी सुभद्रा का रथ और सबसे पीछे भगवान जगन्नाथ श्रीकृष्ण का रथ होता है। इसे उनके रंग और ऊंचाई से पहचाना जाता है।

⭕ बलरामजी के रथ को ‘तालध्वज’ कहते हैं, जिसका रंग लाल और हरा होता है। देवी सुभद्रा के रथ को ‘दर्पदलन’ या ‘पद्म रथ’ कहा जाता है, जो काले या नीले और लाल रंग का होता है, जबकि भगवान जगन्नाथ के रथ को ‘ नंदीघोष’ या ‘गरुड़ध्वज’ कहते हैं। इसका रंग लाल और पीला होता है।

⭕ भगवान जगन्नाथ का नंदीघोष रथ 45.6 फीट ऊंचा, बलरामजी का तालध्वज रथ 45 फीट ऊंचा और देवी सुभद्रा का दर्पदलन रथ 44.6 फीट ऊंचा होता है।

⭕ आषाढ़ माह की शुक्लपक्ष की द्वितीया तिथि को रथयात्रा आरम्भ होती है। ढोल, नगाड़ों, तुरही और शंखध्वनि के बीच भक्तगण इन रथों को खींचते हैं। कहते हैं, जिन्हें रथ को खींचने का अवसर प्राप्त होता है, वह महाभाग्यवान माना जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार, रथ खींचने वाले को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

⭕ वास्तव में रथयात्रा एक सामुदायिक पर्व है। इस अवसर पर घरों में कोई भी पूजा नहीं होती है और न ही किसी प्रकार का उपवास रखा जाता है। एक अहम बात यह कि रथयात्रा के दौरान यहां किसी प्रकार का जातिभेद देखने को नहीं मिलता है।

⭕ समुद्र किनारे बसे पुरी नगर में होने वाली जगन्नाथ रथयात्रा उत्सव के समय आस्था और विश्वास का जो भव्य वैभव और विराट प्रदर्शन देखने को मिलता है, वह दुनिया में और कहीं दुर्लभ है।

To English Wish4me

✨ jagannaath rathayaatra bhaarat mein manae jaane vaale dhaarmik mahaamahotsavon mein sabase pramukh tatha mahattvapoorn maanee jaatee hai. yah rathayaatra na keval bhaarat balki videshon se aane vaale paryatakon ke lie bhee khaasee dilachaspee aur aakarshan ka kendr banatee hai. bhagavaan shreekrshn ke avataar jagannaath kee rathayaatra ka puny sau yagyon ke baraabar maana jaata hai. saagar tat par base puree shahar mein hone vaalee jagannaath rathayaatra utsav ke samay aastha ka jo viraat vaibhav dekhane ko milata hai vah aur kaheen durlabh hai. is rathayaatra ke dauraan bhakton ko seedhe pratimaon tak pahunchane ka bahut hee sunahara avasar praapt hota hai. jagannaath rathayaatra das divaseey mahotsav hota hai. yaatra kee taiyaaree akshay trteeya ke din shreekrshn balaraam aur subhadra ke rathon ke nirmaan ke saath hee shuroo ho jaatee hai. desh-videsh se laakhon log is parv ke saakshee banane har varsh yahaan aate hain. bhaarat ke chaar pavitr dhaamon mein se ek puree ke 800 varsh puraane mukhy mandir mein yogeshvar shreekrshn jagannaath ke roop mein viraajate hain saath hee yahaan balabhadr evan subhadra bhee hain. ✨

☀pauraanik maanyata☀

pauraanik kathaon ke anusaar shreekrshn apane param bhakt raaj indradyumn ke sapane mein aaye aur unhe aadesh diya ki puree ke dariya kinaare par pade ek ped ke tane mein se ve shree krshn ka vigrah banaayen. raaja ne is kaary ke liye kaabil badhee kee talaash shuru kee. kuchh dinon baad ek rahasyamay boodha braahman aaya aur usane kaha ki prabhu ka vigrah banaane kee jimmedaaree vo lena chaahata hai. lekin usakee ek shart thee – ki vo vigrah band kamare mein banaayega aur usaka kaam khatm hone tak koee bhee kamare ka daravaaja nahin kholega nahin to vo kaam adhoora chhod kar chala jaayega. 6-7 din baad kaam karane kee aavaaz aanee band ho gayee to raaja se raha na gaya aur ye sochate hue ki braahman ko kuchh ho gaya hoga, usane daravaaja khol diya par andar to sirf bhagavaan ka adhoora vigrah hee mila aur boodha braahman gaayab ho chuka tha. tab raaja ko ehasaas hua ki braahman aur koee nahin balki devon ka vaastukaar vishvakarma tha. raaja ko aaghaat ho gaya kyonki vigrah ke haath aur pair nahin the aur vah pachhataava karane laga ki usane daravaaja kyon khola par tabhee vahaan par braahman ke roop mein naarad muni padhaare aur unhonne raaja se kaha ki bhagavaan isee svaroop mein avatarit hona chaahate the aur daravaaja kholane ka vichaar svayan shree krshn ne raaja ke dimaag mein daala tha. isaliye use aaghaat mahasoos karane ka koee kaaran nahin hai aur vah nishchint ho jaaye kyonki sab shree krshn kee ichchha hee hai. 🙏 🙏 🙏 🙏

➡bhagavaan jagannaath kee rathayaatra se judee ye khaas aur rochak baaten ⬅

⭕ puree sthit jagannaath mandir bhaarat ke chaar pavitr dhaamon mein se ek hai. vartamaan mandir 800 varsh se adhik praacheen hai, jisamen bhagavaan shreekrshn, jagannaath roop mein viraajit hai. saath hee yahaan unake bade bhaee balaraam (balabhadr ya baladev) aur unakee bahan devee subhadra kee pooja kee jaatee hai.

⭕ puree rathayaatra ke lie balaraam, shreekrshn aur devee subhadra ke lie teen alag-alag rath nirmit kie jaate hain. rathayaatra mein sabase aage balaraamajee ka rath, usake baad beech mein devee subhadra ka rath aur sabase peechhe bhagavaan jagannaath shreekrshn ka rath hota hai. ise unake rang aur oonchaee se pahachaana jaata hai.

⭕ balaraamajee ke rath ko taaladhvaj kahate hain, jisaka rang laal aur hara hota hai. devee subhadra ke rath ko darpadalan ya ‘padm rath’ kaha jaata hai, jo kaale ya neele aur laal rang ka hota hai, jabaki bhagavaan jagannaath ke rath ko nandeeghosh ya garudadhvaj kahate hain. isaka rang laal aur peela hota hai.

⭕ bhagavaan jagannaath ka nandeeghosh rath 45.6 pheet ooncha, balaraamajee ka taaladhvaj rath 45 pheet ooncha aur devee subhadra ka darpadalan rath 44.6 pheet ooncha hota hai.

⭕ aashaadh maah kee shuklapaksh kee dviteeya tithi ko rathayaatra aarambh hotee hai. dhol, nagaadon, turahee aur shankhadhvani ke beech bhaktagan in rathon ko kheenchate hain. kahate hain, jinhen rath ko kheenchane ka avasar praapt hota hai, vah mahaabhaagyavaan maana jaata hai. pauraanik maanyata ke anusaar, rath kheenchane vaale ko moksh kee praapti hotee hai.

⭕ vaastav mein rathayaatra ek saamudaayik parv hai. is avasar par gharon mein koee bhee pooja nahin hotee hai aur na hee kisee prakaar ka upavaas rakha jaata hai. ek aham baat yah ki rathayaatra ke dauraan yahaan kisee prakaar ka jaatibhed dekhane ko nahin milata hai.

⭕ samudr kinaare base puree nagar mein hone vaalee jagannaath rathayaatra utsav ke samay aastha aur vishvaas ka jo bhavy vaibhav aur viraat pradarshan dekhane ko milata hai, vah duniya mein aur kaheen durlabh hai.

Comments

comments