Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » बंद मुट्ठी – खुली मुट्ठी(Closed fist – Open Fist)

बंद मुट्ठी – खुली मुट्ठी(Closed fist – Open Fist)

band-mutthee-khulee-mutthee

band-mutthee-khulee-mutthee

Closed fist - Open Fist

Closed fist – Open Fist

एक आदमी के दो पुत्र थे राम और श्याम। दोनों थे तो सगे भाई पर एक दुसरे के बिलकुल विपरीत , जहाँ राम बहुत कंजूस था वहीँ श्याम को फिजूलखर्ची की आदत थी। दोनों की पत्नियां भी उनकी इस आदत से परेशान थीं।
घरवालों ने दोनों को समझाने के बहुत प्रयास किये पर ना राम अपनी कंजूसी छोड़ता और ना ही श्याम अपनी फिजूलखर्ची से बाज आता।

एक बार गाँव के करीब ही एक सिद्ध महात्मा का आगमन हुआ। वृद्ध पिता ने सोचा क्यों न उन्ही से इस समस्या का समाधान पूछा जाए और अगले ही दिन वे महात्मा जी के पास पहुंचे।

महात्मा जी ने ध्यानपूर्वक उनकी बातें सुनी और अगले दिन दोनों पुत्रों को लेकर आने को कहा।

पिताजी तय समय पर पुत्रों को लेकर पहुँच गए।

महत्मा जी ने पुत्रों के सामने अपनी बंद मुट्ठीयां घुमाते हुए कहा, ” बातओ यदि मेरा हाथ हमेशा के लिए ऐसा ही हो जाए तो कैसा लगेगा ?”

पुत्र बोले , “ऐसे में तो ऐसा लगेगा जैसे कि आपको कोढ़ हो। “

“अच्छा अगर मेरे हाथ हमेशा के लिए ऐसे हो जाएं तो कैसा लगेगा ?”, महत्मा जी ने अपनी फैली हथेलियाँ दिखाते हुए पुछा।

“जी , तब भी यही लगेगा कि आपको कोढ़ है। “,पुत्र बोले।

तब महात्मा जी गंभीरता से बोले , ” पुत्रों यही तो मैं तुम्हे समझाना चाहता हूँ , हमेशा अपनी मुट्ठी बंद रखना यानि कंजूसी दिखाना या हमेशा अपनी हथेली खुली रखना यानि फिजूलखर्ची करना एक तरह का कोढ़ ही तो है।हमेशा मुट्ठी बंद रखने वाला धनवान होते हुए भी निर्धन ही रहता है और हमेशा मुट्ठी खुली रखने वाला चाहे जितना भी धनवान हो उसे निर्धन बनते समय नहीं लगता।  सही व्यवहार है कि कभी मुट्ठी बंद रहे तो कभी खुली तभी जीवन का संतुलन बना रहता है। “

पुत्र महात्मा जी की बात समझ चुके थे। अब उन्होंने मन ही मन सोच-समझ कर ही खर्च करने का निश्चय किया।

wish4me to English

ek aadamee ke do putr the raam aur shyaam. donon the to sage bhaee par ek dusare ke bilakul vipareet , jahaan raam bahut kanjoos tha vaheen shyaam ko phijoolakharchee kee aadat thee. donon kee patniyaan bhee unakee is aadat se pareshaan theen.
gharavaalon ne donon ko samajhaane ke bahut prayaas kiye par na raam apanee kanjoosee chhodata aur na hee shyaam apanee phijoolakharchee se baaj aata.

ek baar gaanv ke kareeb hee ek siddh mahaatma ka aagaman hua. vrddh pita ne socha kyon na unhee se is samasya ka samaadhaan poochha jae aur agale hee din ve mahaatma jee ke paas pahunche.

mahaatma jee ne dhyaanapoorvak unakee baaten sunee aur agale din donon putron ko lekar aane ko kaha.

pitaajee tay samay par putron ko lekar pahunch gae.

mahatma jee ne putron ke saamane apanee band muttheeyaan ghumaate hue kaha, ” baato yadi mera haath hamesha ke lie aisa hee ho jae to kaisa lagega ?”

putr bole , “aise mein to aisa lagega jaise ki aapako kodh ho. “

“achchha agar mere haath hamesha ke lie aise ho jaen to kaisa lagega ?”, mahatma jee ne apanee phailee hatheliyaan dikhaate hue puchha.

“jee , tab bhee yahee lagega ki aapako kodh hai. “,putr bole.

tab mahaatma jee gambheerata se bole , ” putron yahee to main tumhe samajhaana chaahata hoon , hamesha apanee mutthee band rakhana yaani kanjoosee dikhaana ya hamesha apanee hathelee khulee rakhana yaani phijoolakharchee karana ek tarah ka kodh hee to hai.hamesha mutthee band rakhane vaala dhanavaan hote hue bhee nirdhan hee rahata hai aur hamesha mutthee khulee rakhane vaala chaahe jitana bhee dhanavaan ho use nirdhan banate samay nahin lagata. sahee vyavahaar hai ki kabhee mutthee band rahe to kabhee khulee tabhee jeevan ka santulan bana rahata hai. “

putr mahaatma jee kee baat samajh chuke the. ab unhonne man hee man soch-samajh kar hee kharch karane ka nishchay kiya

Comments

comments