Sunday , 18 February 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » बेटी ह तो कल (beṭee hai to kal hai)

बेटी ह तो कल (beṭee hai to kal hai)

be%E1%B9%ADee-hai-to-kal-hai

be%E1%B9%ADee-hai-to-kal-hai

betee hai to kal

betee hai to kal

क्रपया पुरी पोस्ट पढने का कस्ट करे

गीता नामक एक युवती का विवाह हुआ और वह अपने पति और सास के साथ अपने ससुराल में रहने लगी। कुछ ही दिनों बाद गीता को आभास होने लगा कि उसकी सास के साथ पटरी नहीं बैठ रही है। सास पुराने ख़यालों की थी और बहू नए विचारों वाली।
गीता और उसकी सास का आये दिन झगडा होने लगा।
दिन बीते, महीने बीते. साल भी बीत गया. न तो सास टीका-टिप्पणी करना छोड़ती और न गीता जवाब देना। हालात बद से बदतर होने लगे। गीता को अब अपनी सास से पूरी तरह नफरत हो चुकी थी. गीता के लिए उस समय स्थिति और बुरी हो जाती जब उसे भारतीय परम्पराओं के अनुसार दूसरों के सामने अपनी सास को सम्मान देना पड़ता। अब वह किसी भी तरह सास से छुटकारा पाने की सोचने लगी.
एक दिन जब गीता का अपनी सास से झगडा हुआ और पति भी अपनी माँ का पक्ष लेने लगा तो वह नाराज़ होकर मायके चली आई।
गीता के पिता आयुर्वेद के डॉक्टर थे. उसने रो-रो कर अपनी व्यथा पिता को सुनाई और बोली – “आप मुझे कोई जहरीली दवा दे दीजिये जो मैं जाकर उस बुढ़िया को पिला दूँ नहीं तो मैं अब ससुराल नहीं जाऊँगी…”
बेटी का दुःख समझते हुए पिता ने गीता के सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए कहा – “बेटी, अगर तुम अपनी सास को ज़हर खिला कर मार दोगी तो तुम्हें पुलिस पकड़ ले जाएगी और साथ ही मुझे भी क्योंकि वो ज़हर मैं तुम्हें दूंगा. इसलिए ऐसा करना ठीक नहीं होगा.”
लेकिन गीता जिद पर अड़ गई – “आपको मुझे ज़हर देना ही होगा …. अब मैं किसी भी कीमत पर उसका मुँह देखना नहीं चाहती !”
कुछ सोचकर पिता बोले – “ठीक है जैसी तुम्हारी मर्जी। लेकिन मैं तुम्हें जेल जाते हुए भी नहीं देख सकता इसलिए जैसे मैं कहूँ वैसे तुम्हें करना होगा ! मंजूर हो तो बोलो ?”
“क्या करना होगा ?”, गीता ने पूछा.
पिता ने एक पुडिया में ज़हर का पाउडर बाँधकर गीता के हाथ में देते हुए कहा – “तुम्हें इस पुडिया में से सिर्फ एक चुटकी ज़हर रोज़ अपनी सास के भोजन में मिलाना है।
कम मात्रा होने से वह एकदम से नहीं मरेगी बल्कि धीरे-धीरे आंतरिक रूप से कमजोर होकर 5 से 6 महीनों में मर जाएगी. लोग समझेंगे कि वह स्वाभाविक मौत मर गई.”
पिता ने आगे कहा -“लेकिन तुम्हें बेहद सावधान रहना होगा ताकि तुम्हारे पति को बिलकुल भी शक न होने पाए वरना हम दोनों को जेल जाना पड़ेगा ! इसके लिए तुम आज के बाद अपनी सास से बिलकुल भी झगडा नहीं करोगी बल्कि उसकी सेवा करोगी।
यदि वह तुम पर कोई टीका टिप्पणी करती है तो तुम चुपचाप सुन लोगी, बिलकुल भी प्रत्युत्तर नहीं दोगी ! बोलो कर पाओगी ये सब ?”
गीता ने सोचा, छ: महीनों की ही तो बात है, फिर तो छुटकारा मिल ही जाएगा. उसने पिता की बात मान ली और ज़हर की पुडिया लेकर ससुराल चली आई.
ससुराल आते ही अगले ही दिन से गीता ने सास के भोजन में एक चुटकी ज़हर रोजाना मिलाना शुरू कर दिया।
साथ ही उसके प्रति अपना बर्ताव भी बदल लिया. अब वह सास के किसी भी ताने का जवाब नहीं देती बल्कि क्रोध को पीकर मुस्कुराते हुए सुन लेती।
रोज़ उसके पैर दबाती और उसकी हर बात का ख़याल रखती।
सास से पूछ-पूछ कर उसकी पसंद का खाना बनाती, उसकी हर आज्ञा का पालन करती।
कुछ हफ्ते बीतते बीतते सास के स्वभाव में भी परिवर्तन आना शुरू हो गया. बहू की ओर से अपने तानों का प्रत्युत्तर न पाकर उसके ताने अब कम हो चले थे बल्कि वह कभी कभी बहू की सेवा के बदले आशीष भी देने लगी थी।
धीरे-धीरे चार महीने बीत गए. गीता नियमित रूप से सास को रोज़ एक चुटकी ज़हर देती आ रही थी।
किन्तु उस घर का माहौल अब एकदम से बदल चुका था. सास बहू का झगडा पुरानी बात हो चुकी थी. पहले जो सास गीता को गालियाँ देते नहीं थकती थी, अब वही आस-पड़ोस वालों के आगे गीता की तारीफों के पुल बाँधने लगी थी।
बहू को साथ बिठाकर खाना खिलाती और सोने से पहले भी जब तक बहू से चार प्यार भरी बातें न कर ले, उसे नींद नही आती थी।
छठा महीना आते आते गीता को लगने लगा कि उसकी सास उसे बिलकुल अपनी बेटी की तरह मानने लगी हैं। उसे भी अपनी सास में माँ की छवि नज़र आने लगी थी।
जब वह सोचती कि उसके दिए ज़हर से उसकी सास कुछ ही दिनों में मर जाएगी तो वह परेशान हो जाती थी।
इसी ऊहापोह में एक दिन वह अपने पिता के घर दोबारा जा पहुंची और बोली – “पिताजी, मुझे उस ज़हर के असर को ख़त्म करने की दवा दीजिये क्योंकि अब मैं अपनी सास को मारना नहीं चाहती … !
वो बहुत अच्छी हैं और अब मैं उन्हें अपनी माँ की तरह चाहने लगी हूँ!”
पिता ठठाकर हँस पड़े और बोले – “ज़हर ? कैसा ज़हर ? मैंने तो तुम्हें ज़हर के नाम पर हाजमे का चूर्ण दिया था … हा हा हा !!!”
“बेटी को सही रास्ता दिखाये,
माँ बाप का पूर्ण फर्ज अदा करे”

कुछ मांबाप औलाद के मोह मे
बेटी के बसे बसाये घर को उजाड दैते है
बेटी ससुराल मे दूखी है तो
दूख की वजह तलासे ना की
कैवल बेटी की माने हो सकता है
कल कुछ गलत हो और जिमेवार मांबाप हो

बेटी है तो कल है!!

wish4me to English

 

Krapayaa puree posṭ paḍhane kaa kasṭ kare

geetaa naamak ek yuvatee kaa vivaah huaa aur vah apane pati aur saas ke saath apane sasuraal men rahane lagee. Kuchh hee dinon baad geetaa ko aabhaas hone lagaa ki usakee saas ke saath paṭaree naheen baiṭh rahee hai. Saas puraane khayaalon kee thee aur bahoo na_e vichaaron vaalee. Geetaa aur usakee saas kaa aaye din jhagaḍaa hone lagaa. Din beete, maheene beete. Saal bhee beet gayaa. N to saas ṭeekaa-ṭippaṇaee karanaa chhodtee aur n geetaa javaab denaa. Haalaat bad se badatar hone lage. Geetaa ko ab apanee saas se pooree tarah nafarat ho chukee thee. Geetaa ke lie us samay sthiti aur buree ho jaatee jab use bhaarateey paramparaa_on ke anusaar doosaron ke saamane apanee saas ko sammaan denaa padtaa. Ab vah kisee bhee tarah saas se chhuṭakaaraa paane kee sochane lagee. Ek din jab geetaa kaa apanee saas se jhagaḍaa huaa aur pati bhee apanee maan kaa pakṣ lene lagaa to vah naaraaza hokar maayake chalee aaii. Geetaa ke pitaa aayurved ke ḍaŏkṭar the. Usane ro-ro kar apanee vyathaa pitaa ko sunaa_ii aur bolee – “aap mujhe koii jahareelee davaa de deejiye jo main jaakar us buḍhxiyaa ko pilaa doon naheen to main ab sasuraal naheen jaa_oongee…”
beṭee kaa duahkh samajhate hue pitaa ne geetaa ke sir par pyaar se haath ferate hue kahaa – “beṭee, agar tum apanee saas ko zahar khilaa kar maar dogee to tumhen pulis pakad le jaa_egee aur saath hee mujhe bhee kyonki vo zahar main tumhen doongaa. Isalie aisaa karanaa ṭheek naheen hogaa.”
lekin geetaa jid par ad ga_ii – “aapako mujhe zahar denaa hee hogaa …. Ab main kisee bhee keemat par usakaa munh dekhanaa naheen chaahatee !”
kuchh sochakar pitaa bole – “ṭheek hai jaisee tumhaaree marjee. Lekin main tumhen jel jaate hue bhee naheen dekh sakataa isalie jaise main kahoon vaise tumhen karanaa hogaa ! Mnjoor ho to bolo ?”
“kyaa karanaa hogaa ?”, geetaa ne poochhaa. Pitaa ne ek puḍaiyaa men zahar kaa paa_uḍaar baandhakar geetaa ke haath men dete hue kahaa – “tumhen is puḍaiyaa men se sirf ek chuṭakee zahar roza apanee saas ke bhojan men milaanaa hai. Kam maatraa hone se vah ekadam se naheen maregee balki dheere-dheere aantarik roop se kamajor hokar 5 se 6 maheenon men mar jaa_egee. Log samajhenge ki vah svaabhaavik maut mar ga_ii.”
pitaa ne aage kahaa -“lekin tumhen behad saavadhaan rahanaa hogaa taaki tumhaare pati ko bilakul bhee shak n hone paa_e varanaa ham donon ko jel jaanaa padegaa ! Isake lie tum aaj ke baad apanee saas se bilakul bhee jhagaḍaa naheen karogee balki usakee sevaa karogee. Yadi vah tum par koii ṭeekaa ṭippaṇaee karatee hai to tum chupachaap sun logee, bilakul bhee pratyuttar naheen dogee ! Bolo kar paa_ogee ye sab ?”
geetaa ne sochaa, chhah maheenon kee hee to baat hai, fir to chhuṭakaaraa mil hee jaa_egaa. Usane pitaa kee baat maan lee aur zahar kee puḍaiyaa lekar sasuraal chalee aaii. Sasuraal aate hee agale hee din se geetaa ne saas ke bhojan men ek chuṭakee zahar rojaanaa milaanaa shuroo kar diyaa. Saath hee usake prati apanaa bartaav bhee badal liyaa. Ab vah saas ke kisee bhee taane kaa javaab naheen detee balki krodh ko peekar muskuraate hue sun letee. Roza usake pair dabaatee aur usakee har baat kaa khayaal rakhatee. Saas se poochh-poochh kar usakee pasnd kaa khaanaa banaatee, usakee har aagyaa kaa paalan karatee. Kuchh hafte beetate beetate saas ke svabhaav men bhee parivartan aanaa shuroo ho gayaa. Bahoo kee or se apane taanon kaa pratyuttar n paakar usake taane ab kam ho chale the balki vah kabhee kabhee bahoo kee sevaa ke badale aasheeṣ bhee dene lagee thee. Dheere-dheere chaar maheene beet ga_e. Geetaa niyamit roop se saas ko roza ek chuṭakee zahar detee aa rahee thee. Kintu us ghar kaa maahaul ab ekadam se badal chukaa thaa. Saas bahoo kaa jhagaḍaa puraanee baat ho chukee thee. Pahale jo saas geetaa ko gaaliyaan dete naheen thakatee thee, ab vahee aas-pados vaalon ke aage geetaa kee taareefon ke pul baandhane lagee thee. Bahoo ko saath biṭhaakar khaanaa khilaatee aur sone se pahale bhee jab tak bahoo se chaar pyaar bharee baaten n kar le, use neend nahee aatee thee. Chhaṭhaa maheenaa aate aate geetaa ko lagane lagaa ki usakee saas use bilakul apanee beṭee kee tarah maanane lagee hain. Use bhee apanee saas men maan kee chhavi nazar aane lagee thee. Jab vah sochatee ki usake die zahar se usakee saas kuchh hee dinon men mar jaa_egee to vah pareshaan ho jaatee thee. Isee oohaapoh men ek din vah apane pitaa ke ghar dobaaraa jaa pahunchee aur bolee – “pitaajee, mujhe us zahar ke asar ko khatm karane kee davaa deejiye kyonki ab main apanee saas ko maaranaa naheen chaahatee … ! Vo bahut achchhee hain aur ab main unhen apanee maan kee tarah chaahane lagee hoon!”
pitaa ṭhaṭhaakar hns pade aur bole – “zahar ? Kaisaa zahar ? Mainne to tumhen zahar ke naam par haajame kaa choorṇa diyaa thaa … haa haa haa !!!”
“beṭee ko sahee raastaa dikhaaye,
maan baap kaa poorṇa farj adaa kare”

kuchh maanbaap aulaad ke moh me
beṭee ke base basaaye ghar ko ujaaḍa daite hai
beṭee sasuraal me dookhee hai to
dookh kee vajah talaase naa kee
kaival beṭee kee maane ho sakataa hai
kal kuchh galat ho aur jimevaar maanbaap ho

beṭee hai to kal hai!!

Comments

comments