Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » बेटिया क्यों परायी हैं

बेटिया क्यों परायी हैं

betiya-kyo-prai-hai

betiya-kyo-prai-hai

Betiya Kyo Prai Hai Bhajan

मुझे अपनी माँ से गिला, मिला ये ही सिला
बेटिया क्यों परायी हैं, मेरी माँ

खेली कूदी मैं जिस आँगन में,
वो भी अपना पराया सा लागे ।
ऐसा दस्तूर क्यों है माँ,
जोर किसका चला इसके आगे ।
एक को घर दिया, एक को वार दिया,
तेरी कैसी खुदाई है ॥
मुझे माँ से गिला…

जो भी माँगा मैंने बाबुल से,
दिया हस के मुझे बाबुल ने ।
प्यार इतना दिया है मुझको,
क्या बयान मैं करू अपने मुख से ।
जिस घर में पली, उस घर से ही माँ,
यह कैसी बिदाई है ॥
मुझे माँ से गिला…

अच्छा घर सुन्दर घर देखा माँ ने,
क्षण में कर दिया उनके हवाले ।
जिंदगी भर का यह है बंधन,
कह के समझाते हैं घर वाले ।
देते दिल से दुया, खुश रहना सदा,
कैसी प्रीत निभायी है ॥
मुझे माँ से गिला…


 

mujhe apanee maan se gila, mila ye hee sila
betiya kyon paraayee hain, meree maan

khelee koodee main jis aangan mein,
vo bhee apana paraaya sa laage.
aisa dastoor kyon hai maan,
jor kisaka chala isake aage.
ek ko ghar diya, ek ko vaar diya,
teree kaisee khudaee hai.
mujhe maan se gila …

jo bhee maanga mainne baabul se,
diya has ke mujhe baabul ne.
pyaar itana diya hai mujhako,
kya bayaan main karoo apane mukh se.
jis ghar mein palee, us ghar se hee maan,
yah kaisee bidaee hai.
mujhe maan se gila …

achchha ghar sundar ghar dekha maan ne,
kshan mein kar diya unake havaale.
jindagee bhar ka yah hai bandhan,
kah ke samajhaate hain ghar vaale.
dete dil se duya, khush rahana sada,
kaisee preet nibhaayee hai.
mujhe maan se gila .

Comments

comments