Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » भगवान शिव का ये मंदिर 5वीं शताब्दी का है, खुदाई में ऐसे और मंदिर मिलने की संभावना है

भगवान शिव का ये मंदिर 5वीं शताब्दी का है, खुदाई में ऐसे और मंदिर मिलने की संभावना है

bhagavaan-shiv-ka-ye-mandir-5veen-shataabdee-ka-hai-khudaee-mein-aise-aur-mandir-milane-kee-sambhaavana-hai

bhagavaan-shiv-ka-ye-mandir-5veen-shataabdee-ka-hai-khudaee-mein-aise-aur-mandir-milane-kee-sambhaavana-hai

shiv-bhagvanकहते हैं कि शिव ही सत्य और शक्ति हैं. बिना इनके दुनिया की कल्पना नहीं की जा सकती है. वैसे तो भगवान शिव की पूजा सदियों से होती आ रही है और वर्तमान में भी हो रही है. भगवान शिव अपने भक्तों का ध्यान रखते हैं, उनके सारे कष्टों का निवारण भी करते हैं. जो लोग भगवान शिव के अस्तित्व पर सवाल उठाते हैं, उनके लिए ये साक्ष्य एक तमाचा ही है.

 

दरअसल, छत्तीसगढ़ के बलौदाबाज़ार से करीब 15 किमी दूर ग्राम पंचायत देवरी में पुरातत्व विभाग द्वारा की जा रही खुदाई में 5वीं सदी से लेकर 12वीं सदी तक की कई ऐतिहासिक वस्तुएं मिली हैं, जो भगवान शिव का अस्तित्व दर्शाती हैं. आइए, इस गांव के बारे में बताते हैं.

 

देवरी नाम के इस गांव की कुल
आबादी ढाई हजार है. इस गांव की मिट्टी ने अपने अंदर सैकड़ों वर्षों के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक साक्ष्यों को छिपा रखा था, जिसे अब पुरातत्व विभाग के लोग खोद-खोद कर निकाल रहे हैं.

खुदाई के दौरान कई ऐसी चीज़ें मिली हैं, जिनसे इतिहास को समझना सही होगा.

एक अनुमान के अनुसार, गांव के दक्षिणी-पश्चिमी हिस्से में अधिष्ठात्री देवी मां महामाया का निवास स्थान है, जो आस-पास के स्थान से कुछ ऊंचा है. इसी के पास से वर्षों से कई प्रकार की प्राचीन प्रतिमाएं प्राप्त होती रही हैं.
इतिहास गवाह है कि इस धरती पर जितने भगवान हुए हैं, सभी सच हैं. वे अपने भक्तों से कई रूपों में मिलने आते हैं. हमें जब भी उनकी ज़रुरत होती है, वे साक्षात आते हैं. हमें गर्व है कि हम हिन्दुस्तान की इस पावन धरती पर रह रहे हैं.


 

kahate hain ki shiv hee saty aur shakti hain. bina inake duniya kee kalpana nahin kee ja sakatee hai. vaise to bhagavaan shiv kee pooja sadiyon se hotee aa rahee hai aur vartamaan mein bhee ho rahee hai. bhagavaan shiv apane bhakton ka dhyaan rakhate hain, unake saare kashton ka nivaaran bhee karate hain. jo log bhagavaan shiv ke astitv par savaal uthaate hain, unake lie ye saakshy ek tamaacha hee hai.

darasal, chhatteesagadh ke balaudaabaazaar se kareeb 15 kimee door graam panchaayat devaree mein puraatatv vibhaag dvaara kee ja rahee khudaee mein 5veen sadee se lekar 12veen sadee tak kee kaee aitihaasik vastuen milee hain, jo bhagavaan shiv ka astitv darshaatee hain. aaie, is gaanv ke baare mein bataate hain.

devaree naam ke is gaanv kee kul
aabaadee dhaee hajaar hai. is gaanv kee mittee ne apane andar saikadon varshon ke aitihaasik aur saanskrtik saakshyon ko chhipa rakha tha, jise ab puraatatv vibhaag ke log khod-khod kar nikaal rahe hain.

khudaee ke dauraan kaee aisee cheezen milee hain, jinase itihaas ko samajhana sahee hoga.

ek anumaan ke anusaar, gaanv ke dakshinee-pashchimee hisse mein adhishthaatree devee maan mahaamaaya ka nivaas sthaan hai, jo aas-paas ke sthaan se kuchh ooncha hai. isee ke paas se varshon se kaee prakaar kee praacheen pratimaen praapt hotee rahee hain.
itihaas gavaah hai ki is dharatee par jitane bhagavaan hue hain, sabhee sach hain. ve apane bhakton se kaee roopon mein milane aate hain. hamen jab bhee unakee zarurat hotee hai, ve saakshaat aate hain. hamen garv hai ki ham hindustaan kee is paavan dharatee par rah rahe hain.

Comments

comments