Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » भक्त का अद्भुत अवदान

भक्त का अद्भुत अवदान

bhakt-ka-adbhut-avadaan

bhakt-ka-adbhut-avadaan

bhakt ka adbhut avadaan

bhakt ka adbhut avadaan

कीच से जैसे कमल उत्पन्न होताहै, वैसे ही असुर – जाति में भी कुछ भक्त उत्पन्न हो जाते हैं । भक्तराज प्रह्लाद का नाम प्रसिद्ध है । गयासुर भी इसी कोटी का भक्त था । बचपन से ही गय का हृदय भगवान विष्णु के प्रेम में ओतप्रोत रहता था । उसके मुख से प्रतिक्षण भगवान के नाम का उच्चारण होता रहता था ।

गयासुर बहुत विशाल था । उसने कोलाहल पर्वत पर घोर तप किया । हजारों वर्ष तक उसने सांस रोक ली जिससे सारा संसार क्षुब्ध हो गया । देवताओं ने ब्रह्मा से प्रार्थना की कि ‘आप गयासुर से हमारी रक्षा करें ।’ ब्रह्मा देवताओं के साथ भगवान शंकर के पास पहुंचे । पुन: सभी भगवान शंकर के साथ विष्णु के पास पहुंचे । भगवान विष्णु ने कहा – ‘आप सब देवता गयासुर के पास चलें, मैं भी आ रहा हूं ।’

गयासुर के पास पहुंचकर भगवान विष्णु ने पूछा – ‘तुम किसलिए तप कर रहे हो ? हम सभी देवता तुमसे संतुष्ट हैं, इसलिए तुम्हारे पास आये हुए हैं । वर मांगो ।’

गयासुर ने कहा – ‘मेरी इच्छा है कि मैं सभी देव, द्विज, यज्ञ, तीर्थ, ऋषि, मंत्र और योगियों से बढ़कर पवित्र हो जाऊं ।’ देवताओं ने प्रसन्नतापूर्वक गयासुर को वरदान दे दिया । फिर वे प्रेम से उसे देखकर और उसका स्पर्श कर अपने – अपने लोकों में चले गये । इस तरह भक्तराज गय ने अपने शरीर को पवित्र बनाकर प्राय: सभी पापियों का उद्धार कर दिया । जो उसे देखता और जो उसका स्पर्श करता उसका पाप – ताप नष्ट हो जाता । इस तरह नरक का दरवाजा ही बंद हो गया ।

भगवान विष्णु ने अपने भक्त के पवित्र शरीर का उपयोग सदा के लिए करना चाहा । किसी का शरीर तो अमर रह नहीं सकता । गय के उस पवित्र शरीर के पातके बाद प्राणियों को उसके शरीर से वह लाभ नहीं मिलता, अत: भगवान ने ब्रह्मा को भेजकर उसके शरीर को मंगवा लिया । गयासुर अतिथि के रूप में आएं हुए ब्रह्मा को पाकर बहुत प्रसन्न हुआ और उसने अपने जन्म और तपस्या को सफल माना । ब्रह्मा ने कहा – ‘मुझे यज्ञ करना है । इसके लिए मैंने सारे तीर्थों को ढूंढ़ डाला, परंतु मुझे ऐसा कोई तीर्थ नहीं प्राप्त हुआ जो तुम्हारे शरीर से बढ़कर पवित्र हो, अत: यज्ञ के लिए तुम अपना शरीर दे दो ।’ यह सुनकर गयासुर बहुत प्रसन्न हुआ और वह कोलाहल परिवत पर लेट गया ।

ब्रह्मा यज्ञ की सामग्री के साथ वहां पधारे । प्राय: सभी देवता और ऋषि भी वहां उपस्थित हुए । गयासुर के शरीर पर बहुत बड़ा यज्ञ हुआ । ब्रह्मा ने पूर्णाहुति देकर अवभृथ – स्नान किया । यज्ञ का यूप (स्तंभ) भी गाड़ा गया ।

भक्तराज गयासुर चाहते थे कि उसके शरीर पर सभी देवताओं का वास हो । भगवान विष्णु का निवास गयासुर को अधिक अभीष्ट था, इसलिए उसका शरीर हिलने लगा । जब सभी देवता उस पर बस गये और भगवान विष्णु गदाधर के रूप में वहां स्थित हो गये, तब भक्तराज गयासुर ने हिलना बंद कर दिया । तब से गयासुर सबका उद्धार करता आ रहा है । यह एक भक्त का विश्व के कल्याण के लिए अद्भुत अवदान है ।

wish4me to English

keech se jaise kamal utpann hotaahai, vaise hee asur – jaati mein bhee kuchh bhakt utpann ho jaate hain . bhaktaraaj prahlaad ka naam prasiddh hai . gayaasur bhee isee kotee ka bhakt tha . bachapan se hee gay ka hrday bhagavaan vishnu ke prem mein otaprot rahata tha . usake mukh se pratikshan bhagavaan ke naam ka uchchaaran hota rahata tha .

gayaasur bahut vishaal tha . usane kolaahal parvat par ghor tap kiya . hajaaron varsh tak usane saans rok lee jisase saara sansaar kshubdh ho gaya . devataon ne brahma se praarthana kee ki ‘aap gayaasur se hamaaree raksha karen .’ brahma devataon ke saath bhagavaan shankar ke paas pahunche . pun: sabhee bhagavaan shankar ke saath vishnu ke paas pahunche . bhagavaan vishnu ne kaha – ‘aap sab devata gayaasur ke paas chalen, main bhee aa raha hoon .’

gayaasur ke paas pahunchakar bhagavaan vishnu ne poochha – ‘tum kisalie tap kar rahe ho ? ham sabhee devata tumase santusht hain, isalie tumhaare paas aaye hue hain . var maango .’

gayaasur ne kaha – ‘meree ichchha hai ki main sabhee dev, dvij, yagy, teerth, rshi, mantr aur yogiyon se badhakar pavitr ho jaoon .’ devataon ne prasannataapoorvak gayaasur ko varadaan de diya . phir ve prem se use dekhakar aur usaka sparsh kar apane – apane lokon mein chale gaye . is tarah bhaktaraaj gay ne apane shareer ko pavitr banaakar praay: sabhee paapiyon ka uddhaar kar diya . jo use dekhata aur jo usaka sparsh karata usaka paap – taap nasht ho jaata . is tarah narak ka daravaaja hee band ho gaya .

bhagavaan vishnu ne apane bhakt ke pavitr shareer ka upayog sada ke lie karana chaaha . kisee ka shareer to amar rah nahin sakata . gay ke us pavitr shareer ke paatake baad praaniyon ko usake shareer se vah laabh nahin milata, at: bhagavaan ne brahma ko bhejakar usake shareer ko mangava liya . gayaasur atithi ke roop mein aaen hue brahma ko paakar bahut prasann hua aur usane apane janm aur tapasya ko saphal maana . brahma ne kaha – ‘mujhe yagy karana hai . isake lie mainne saare teerthon ko dhoondh daala, parantu mujhe aisa koee teerth nahin praapt hua jo tumhaare shareer se badhakar pavitr ho, at: yagy ke lie tum apana shareer de do .’ yah sunakar gayaasur bahut prasann hua aur vah kolaahal parivat par let gaya .

brahma yagy kee saamagree ke saath vahaan padhaare . praay: sabhee devata aur rshi bhee vahaan upasthit hue . gayaasur ke shareer par bahut bada yagy hua . brahma ne poornaahuti dekar avabhrth – snaan kiya . yagy ka yoop (stambh) bhee gaada gaya .

bhaktaraaj gayaasur chaahate the ki usake shareer par sabhee devataon ka vaas ho . bhagavaan vishnu ka nivaas gayaasur ko adhik abheesht tha, isalie usaka shareer hilane laga . jab sabhee devata us par bas gaye aur bhagavaan vishnu gadaadhar ke roop mein vahaan sthit ho gaye, tab bhaktaraaj gayaasur ne hilana band kar diya . tab se gayaasur sabaka uddhaar karata aa raha hai . yah ek bhakt ka vishv ke kalyaan ke lie adbhut avadaan hai .

Comments

comments