Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » भक्ति की अद्भुत पराकाष्ठा की मिसाल भगवान हनुमान

भक्ति की अद्भुत पराकाष्ठा की मिसाल भगवान हनुमान

bhakti-ka-adbhut-prakashta

bhakti-ka-adbhut-prakashta

bhakti ka adbhut prakashta story

लंका मे रावण को परास्त करने के बाद श्रीराम माता सीता लक्ष्मण और हनुमान के साथ अयोध्या लौट चुके थे। प्रभु राम के आने की खुशी में पूरे अयोध्या में हर्षोल्लास का माहौल था। राजमहल में राज्याभिषेक की तैयारियां चल रही थी। राज्याभिषेक के बाद जब लोगों को उपहार बांटे जा रहे थे तभी माता सीता ने हनुमान जी से प्रसन्न होकर उन्हें हीरों का एक हार दिया और बाकी सेवकों को भी उन्होंने भेंट स्वरुप मोतियों से जड़े रत्न दिए। जब हनुमान जी ने हार को अपने हाथ में लिया तब उन्होंने प्रत्येक हीरे को माला से अलग कर दिया और उन्हें चबा-चबाकर जमीन पर फेंकने लगे। यह देख माता सीता को क्रोध आ गया और वे बोलीं-“ अरे हनुमान! ये आप क्या कर रहे हैं , आपने इतना मूल्यवान हार तोड़कर नष्ट कर दिया।” यह सुनकर अश्रुपूरित नेत्रों से हनुमान जी बोले- “माते! मैं तो केवल इन रत्नों को खोलकर यह देखना चाहता था कि इनमे मेरे आराध्य प्रभु श्रीराम और माँ सीता बसते हैं अथवा नहीं! आप दोनों के बिना इन पत्थरों का मेरे लिए क्या मोल? जिस वस्तु में मेरे आराध्य की छवि ना दिखाई दें वो वस्तु मेरें किसी काम की नहीं है। बाकी सेवक यह सारी घटना देख रहे थे, वे तुरंत ही हनुमान जी के पास आकर बोले- क्या आपके संपूर्ण शरीर में भी श्रीराम बसते है। इतना कहते ही हनुमान जी ने अपनी छाती चीर दी और सभी लोगों को उनके हृदय में भगवान राम और माता सीता की छवि दिखाई दी। भक्ति की इस पराकाष्ठा को देखकर भगवान राम ने हनुमान जी को गले से लगा लिया। संपूर्ण सभा भावविभोर हो उठी।

“भाग्यवान हनुमान सा जग में दूजा नाई’
राम सिया की युगल छवि, जाके अंतर माही।”


 

lanka me raavan ko paraast karane ke baad shreeraam maata seeta lakshman aur hanumaan ke saath ayodhya laut chuke the. prabhu raam ke aane kee khushee mein poore ayodhya mein harshollaas ka maahaul tha. raajamahal mein raajyaabhishek kee taiyaariyaan chal rahee thee. raajyaabhishek ke baad jab logon ko upahaar baante ja rahe the tabhee maata seeta ne hanumaan jee se prasann hokar unhen heeron ka ek haar diya aur baakee sevakon ko bhee unhonne bhent svarup motiyon se jade ratn die. jab hanumaan jee ne haar ko apane haath mein liya tab unhonne pratyek heere ko maala se alag kar diya aur unhen chaba-chabaakar jameen par phenkane lage. yah dekh maata seeta ko krodh aa gaya aur ve boleen- “hanumaan are! ye aap kya kar rahe hain, aapane itana moolyavaan haar todakar nasht kar diya. “yah sunakar ashrupoorit netron se hanumaan jee bole-” maate! main to keval in ratnon ko kholakar yah dekhana chaahata tha ki iname mere aaraadhy prabhu shreeraam aur maan seeta basate hain athava nahin! aap donon ke bina in pattharon ka mere lie kya mol? jis vastu mein mere aaraadhy kee chhavi na dikhaee den vo vastu meren kisee kaam kee nahin hai. baakee sevak yah saaree ghatana dekh rahe the, ve turant hee hanumaan jee ke paas aakar bole- kya aapake sampoorn shareer mein bhee shreeraam basate hai. itana kahate hee hanumaan jee ne apanee chhaatee cheer dee aur sabhee logon ko unake hrday mein bhagavaan raam aur maata seeta kee chhavi dikhaee dee. bhakti kee is paraakaashtha ko dekhakar bhagavaan raam ne hanumaan jee ko gale se laga liya. sampoorn sabha bhaavavibhor ho uthee.

Comments

comments