Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » भक्ति की शक्ति

भक्ति की शक्ति

bhakti-kee-shakti

bhakti-kee-shakti

81
एक बार तुलसीदास जी वृन्दावन आये वहॉ पर वह नित्य ही कृष्ण स्वरूप श्री नाथजी के दर्शन को जाते थे उस मंदिर में एक महंत थे जिनका नाम परशुराम था एक दिन जब नित्य कि तरह तुलसी बाबा दर्शन करने पहुँचे तो उनहोंने देखा कि
बंशी लकुट काछनी काछे
मुकुट माथ माला उर आछे
प्रभु के एक हाथ में बंशी है और एक हाथ में लकुटि है प्रभु ने धोती काछ रखी है माथे पर सुन्दर मुकुट है और गले में माला है
तुलसी बाबा दर्शन कर ही रह थे कि महंत बोले
अपने अपने इष्टके, नमन करै सब कोय|
परशुराम बिन इष्टके, नवै सो मूरख होय
महंत जी बोले कि हर कोई अपने इष्ट को वंदन करता है और आप के इष्ट तो राम हैं ये तो मेरे इष्ट हैं और जो दूसरे के इष्ट को नमन करता है वो मूरख कहलाता है
इतना सुनते ही पहले तो बाबा हँसे फिर मन में सीताराम को याद करक बोले
कहा कहो छबि आजुकी, भले बने हो नाथ
तुलसी मस्तक तब नवै, धरौ धनुष शर हाथ
बाबा बोले प्रभु आज की छबि का क्या वर्णन किया जाए प्रभु आप कितने सुन्दर हो लेकिन अब ये तुलसी मस्तक जब झुकेगा जब आप धनुश बाण हाथ मे लोगे
अब जैसे ही इतना बोला तो क्या हुआ
मुरली लकुट दुरायके, धरयो धनुष शर हाथ
तुलसी लखि रूचि दासकी, नाथ भये रघुनाथ
जैसे ही तुलसी दास ने कहा तो प्रभु कि मुरली लकुटी गायब हो गयी जो श्री नाथ कि प्रतिमा थी वो श्री राम की प्रतिमा हो गयी और हाथ में धनुष बाण आ गये चारो तरफ तुलसीदास जी की जय जय कार होने लगी तुलसी बाबा ने प्रसन्न मन से प्रभु को शीश नवाया
अब बात ये आती है कि ऐसा हुआ कैसे और अब क्यों नही होता तो इसका सीधा सा प्रमाण रामचरित मानस में देखने को मिलता है जब प्रभु श्री राम कहते है
निर्मल मन जन सो मोहि पावा
मोहि कपट छल छिद्र न भावा
मुझे कपट,छल,निन्दयी नहीं बल्कि निर्मल और शुद्ध ह्रदय वाले लोग भाते है इसलिये निर्मल ह्रदय से प्रभु को भजिये और सबको प्यार करिये किसी से द्वेश मत रखिये क्योंकि
रामहि केवल प्रेम पियारा
जान लेहु जेहि जान निहारा
जय रघुनन्दन जय घनश्याम
श्री राम जय राम जय जय राम


ek baar tulasee daas jee vrndaavan aaye vaho par vah nity hee krshn svaroop shree naath jee ke darshan ko jaate the us mandir mein ek mahant the jinaka naam parashuraam tha ek din jab nity ki tarah tulasee baaba darshan karane pahunche to unahonne dekha ki
banshee lakut kaachhanee kaachhe
mukut maath maala ur aachhe
prabhu ke ek haath mein banshee hai aur ek haath mein lakuti hai prabhu ne dhotee kaachh rakhee hai maathe par sundar mukut hai aur gale mein maala hai
tulasee baaba darshan kar hee rah the ki mahant bole
apane apane ishtake, naman karai sab koy|
parashuraam bin ishtake, navai so moorakh hoy
mahant jee bole ki har koee apane isht ko vandan karata hai aur aap ke isht to raam hain ye to mere isht hain aur jo doosare ke isht ko naman karata hai vo moorakh kahalaata hai
itana sunate hee pahale to baaba hanse phir man mein seetaaraam ko yaad karak bole
kaha kaho chhabi aajukee, bhale bane ho naath
tulasee mastak tab navai, dharau dhanush shar haath
baaba bole prabhu aaj kee chhabi ka kya varnan kiya jae prabhu aap kitane sundar ho lekin ab ye tulasee mastak jab jhukega jab aap dhanush baan haath me loge
ab jaise hee itana bola to kya hua
muralee lakut duraayake, dharayo dhanush shar haath
tulasee lakhi roochi daasakee, naath bhaye raghunaath
jaise hee tulasee daas ne kaha to prabhu ki muralee lakutee gaayab ho gayee jo shree naath ki pratima thee vo shree raam kee pratima ho gayee aur haath mein dhanush baan aa gaye chaaro taraph tulaseedaas jee kee jay jay kaar hone lagee tulasee baaba ne prasann man se prabhu ko sheesh navaaya
ab baat ye aatee hai ki aisa hua kaise aur ab kyon nahee hota to isaka seedha sa pramaan raamacharit maanas mein dekhane ko milata hai jab prabhu shree raam kahate hai
nirmal man jan so mohi paava
mohi kapat chhal chhidr na bhaava
mujhe kapat,chhal,nindayee nahin balki nirmal aur shuddh hraday vaale log bhaate hai isaliye nirmal hraday se prabhu ko bhajiye aur sabako pyaar kariye kisee se dvesh mat rakhiye kyonki
raamahi keval prem piyaara
jaan lehu jehi jaan nihaara
jay raghunandan jay ghanashyaam
shree raam jay raam jay jay raam

Comments

comments