Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » भैंस की मौत!

भैंस की मौत!

bhase-ki-mout

bhase-ki-mout

Bhase Ki Mout

एक दार्शनिक अपने एक शिष्य के साथ कहीं से गुजर रहा था। चलते-चलते वे एक खेत के पास पहुंचे। खेत अच्छी जगह स्थित था लेकिन उसकी हालत देखकर लगता था मानो उसका मालिक उस पर जरा भी ध्यान नहीं देता है।

खैर, दोनों को प्यास लगी थी सो वे खेत के बीचो-बीच बने एक टूटे-फूटे घर के सामने पहुंचे और दरवाज़ा खटखटाया।

अन्दर से एक आदमी निकला, उसके साथ उसकी पत्नी और तीन बच्चे भी थे। सभी फटे-पुराने कपड़े पहने हुए थे।

दार्शनिक बोला, “ श्रीमान, क्या हमें पानी मिल सकता है? बड़ी प्यास लगी है!”

“ज़रूर!”, आदमी उन्हें पानी का जग थमाते हुए बोला।

“मैं देख रहा हूँ कि आपका खेत इनता बड़ा है पर इसमें कोई फसल नही बोई गयी है, और ना ही यहाँ फलों के वृक्ष दिखायी दे रहे हैं…तो आखिर आप लोगों का गुजारा कैसे चलता है?”, दार्शनिक ने प्रश्न किया।

“जी, हमारे पास एक भैंस है, वो काफी दूध देती है उसे पास के गाँव में बेच कर कुछ पैसे मिल जाते हैं और बचे हुए दूध का सेवन कर के हमारा गुजारा चल जाता है।”, आदमी ने समझाया।

दार्शनिक और शिष्य आगे बढ़ने को हुए तभी आदमी बोला, “ शाम काफी हो गयी है, आप लोग चाहें तो आज रात यहीं रुक जाएं!”

दोनों रुकने को तैयार हो गए।

आधी रात के करीब जब सभी गहरी नींद में सो रहे थे तभी दार्शनिक ने शिष्य को उठाया और बोला, “चलो हमें अभी यहाँ से चलना है, और चलने से पहले हम उस आदमी की भैंस को चट्टान से गिराकर मार डालेंगे।”

शिष्य को अपने गुरु की बात पर यकीन नहीं हो रहा था पर वो उनकी बात काट भी नहीं सकता था।

दोनों भैंस को मार कर रातों-रात गायब हो गए!

यह घटना शिष्य के जेहन में बैठ गयी और करीब 10 साल बाद जब वो एक सफल उद्यमी बन गया तो उसने सोचा क्यों न अपनी गलती का पश्चाताप करने के लिए एक बार फिर उसी आदमी से मिला जाए और उसकी आर्थिक मदद की जाए।

अपनी चमचमाती कार से वह उस खेत के सामने पहुंचा।

शिष्य को अपनी आँखों पे यकीन नहीं हो रहा था। वह उजाड़ खेत अब फलों के बागीचे में बदल चुका था… टूटे-फूटे घर की जगह एक शानदार बंगला खड़ा था और जहाँ अकेली भैंस बंधी रहती थी वहां अच्छी नस्ल की कई गाएं और भैंस अपना चारा चर रही थीं।

शिष्य ने सोचा कि शायद भैंस के मरने के बाद वो परिवार सब बेच-बाच कर कहीं चला गया होगा और वापस लौटने के लिए वो अपनी कार स्टार्ट करने लगा कि तभी उसे वो दस साल पहले वाला आदमी दिखा।

“ शायद आप मुझे पहचान नहीं पाए, सालों पहले मैं आपसे मिला था।”, शिष्य उस आदमी की तरफ बढ़ते हुए बोला।

“नहीं-नहीं, ऐसा नहीं है, मुझे अच्छी तरह याद है, आप और आपके गुरु यहाँ आये थे…कैसे भूल सकता हूँ उस दिन को; उस दिन ने तो मेरा जीवन ही बदल कर रख दिया। आप लोग तो बिना बताये चले गए पर उसी दिन ना जाने कैसे हमारी भैंस भी चट्टान से गिरकर मर गयी। कुछ दिन तो समझ ही नहीं आया कि क्या करें, पर जीने के लिए कुछ तो करना था, सो लकड़ियाँ काट कर बेचने लगा, उससे कुछ पैसे हुए तो खेत में बोवाई कर दी… सौभाग्य से फसल अच्छी निकल गयी, बेचने पर जो पैसे मिले उससे फलों के बागीचे लगवा दिए और यह काम अच्छा चल पड़ा और इस समय मैं आस-पास के हज़ार गाँव में सबसे बड़ा फल व्यापारी हूँ…सचमुच, ये सब कुछ ना होता अगर उस भैंस की मौत ना हुई होती !

“लेकिन यही काम आप पहले भी कर सकते थे?”, शिष्य ने आश्चर्य से पूछा।

आदमी बोला, “ बिलकुल कर सकता था! पर तब ज़िन्दगी बिना उतनी मेहनत के आराम से चल रही थी, कभी लगा ही नहीं कि मेरे अन्दर इतना कुछ करने की क्षमता है सो कोशिश ही नहीं की पर जब भैंस मर गयी तब हाथ-पाँव मारने पड़े और मुझ जैसा गरीब-बेहाल इंसान भी इस मुकाम तक पहुँच पाया।”

आज शिष्य अपने गुरु के उस निर्देश का असली मतलब समझ चुका था और बिना किसी पश्चाताप के वापस लौट पा रहा था।

Friends, कई बार हम परिस्थितियों के इतने आदि हो जाते हैं कि बस उसी में जीना सीख लेते हैं, फिर चाहे वो परिस्थितियां बुरी ही क्यों न हों!

हम अपनी जॉब से नफरत करते हैं पर फिर भी उसे पकड़े-पकड़े ज़िन्दगी बिता देते हैं, तो कई बार हम बस इसलिए नये business के बारे में नहीं सोचते क्योंकि हमारा मौजूदा बिजनेस दाल-रोटी भर का खर्चा निकाल देता है! पर ऐसा करने में हम कभी भी अपने full potential को नहीं कर पाते हैं और बहुत सी ऐसी चीजें करने से चूक जाते हैं जिन्हें करने की हमारे अन्दर क्षमता है और जो हमारी life को कहीं बेहतर बना सकती हैं।

सोचिये, कहीं आपकी ज़िन्दगी में भी तो कोई ऐसी भैंस नहीं जो आपको एक बेहतर ज़िन्दगी जीने से रोक रही है…कहीं ऐसा तो नहीं कि आपको लग रहा है कि आपने उस भैंस को बाँध कर रखा है जबकि असलियत में उस भैंस ने आपको बाँध रखा है! और अगर आपको लगे कि ऐसा है, तो आगे बढिए…हिम्मत करिए, अपनी रस्सी को काटिए; आजाद होइए… आपके पास खोने के लिए बहुत थोड़ा है पर पाने के लिए पूरा जहान है! जाइए उसे पाकर दिखाइए!


 

ek daarshanik apane ek shishy ke saath kaheen se gujar raha tha. chalate-chalate ve ek khet ke paas pahunche. khet achchhee jagah sthit tha lekin usakee haalat dekhakar lagata tha maano usaka maalik us par jara bhee dhyaan nahin deta hai.

khair, donon ko pyaas lagee thee so ve khet ke beecho-beech bane ek toote-phoote ghar ke saamane pahunche aur daravaaza khatakhataaya.

andar se ek aadamee nikala, usake saath usakee patnee aur teen bachche bhee the. sabhee phate-puraane kapade pahane hue the.

daarshanik bola, “shreemaan, kya hamen paanee mil sakata hai? badee pyaas lagee hai! ”

“zaroor!”, aadamee unhen paanee ka jag thamaate hue bola.

“main dekh raha hoon ki aapaka khet inata bada hai par isamen koee phasal nahee boee gayee hai, aur na hee yahaan phalon ke vrksh dikhaayee de rahe hain … to aakhir aap logon ka gujaara kaise chalata hai?”, daarshanik ne prashn kiya.

“jee, hamaare paas ek bhains hai, vo kaaphee doodh detee hai use paas ke gaanv mein bech kar kuchh paise mil jaate hain aur bache hue doodh ka sevan kar ke hamaara gujaara chal jaata hai.”, aadamee ne samajhaaya.

daarshanik aur shishy aage badhane ko hue tabhee aadamee bola, “shaam kaaphee ho gayee hai, aap log chaahen to aaj raat yaheen ruk jaen!”

donon rukane ko taiyaar ho gae.

aadhee raat ke kareeb jab sabhee gaharee neend mein so rahe the tabhee daarshanik ne shishy ko uthaaya aur bola, “chalo hamen abhee yahaan se chalana hai, aur chalane se pahale ham us aadamee kee bhains ko chattaan se giraakar maar daalenge.”

shishy ko apane guru kee baat par yakeen nahin ho raha tha par vo unakee baat kaat bhee nahin sakata tha.

donon bhains ko maar kar raaton-raat gaayab ho gae!

yah ghatana shishy ke jehan mein baith gayee aur kareeb 10 saal baad jab vo ek saphal udyamee ban gaya to usane socha kyon na apanee galatee ka pashchaataap karane ke lie ek baar phir usee aadamee se mila jae aur usakee aarthik madad kee jae.

apanee chamachamaatee kaar se vah us khet ke saamane pahuncha.

shishy ko apanee aankhon pe yakeen nahin ho raha tha. vah ujaad khet ab phalon ke baageeche mein badal chuka tha … toote-phoote ghar kee jagah ek shaanadaar bangala khada tha aur jahaan akelee bhains bandhee rahatee thee vahaan achchhee nasl kee kaee gaen aur bhains apana chaara char rahee theen.

shishy ne socha ki shaayad bhains ke marane ke baad vo parivaar sab bech-baach kar kaheen chala gaya hoga aur vaapas lautane ke lie vo apanee kaar staart karane laga ki tabhee use vo das saal pahale vaala aadamee dikha.

“shaayad aap mujhe pahachaan nahin pae, saalon pahale main aapase mila tha.”, shishy us aadamee kee taraph badhate hue bola.

“nahin-nahin, aisa nahin hai, mujhe achchhee tarah yaad hai, aap aur aapake guru yahaan aaye the … kaise bhool sakata hoon us din ko; us din ne to mera jeevan hee badal kar rakh diya. aap log to bina bataaye chale gae par usee din na jaane kaise hamaaree bhains bhee chattaan se girakar mar gayee. kuchh din to samajh hee nahin aaya ki kya karen, par jeene ke lie kuchh to karana tha, so lakadiyaan kaat kar bechane laga, usase kuchh paise hue to khet mein bovaee kar dee … saubhaagy se phasal achchhee nikal gayee, bechane par jo paise mile usase phalon ke baageeche lagava die aur yah kaam achchha chal pada aur is samay main aas-paas ke hazaar gaanv mein sabase bada phal vyaapaaree hoon … sachamuch, ye sab kuchh na hota agar us bhains kee maut na huee hotee!

“lekin yahee kaam aap pahale bhee kar sakate the?”, shishy ne aashchary se poochha.

aadamee bola, “bilakul kar sakata tha! par tab zindagee bina utanee mehanat ke aaraam se chal rahee thee, kabhee laga hee nahin ki mere andar itana kuchh karane kee kshamata hai so koshish hee nahin kee par jab bhains mar gayee tab haath-paanv maarane pade aur mujh jaisa gareeb-behaal insaan bhee is mukaam tak pahunch paaya. ”

aaj shishy apane guru ke us nirdesh ka asalee matalab samajh chuka tha aur bina kisee pashchaataap ke vaapas laut pa raha tha.

doston, kaee baar ham paristhitiyon ke itane aadi ho jaate hain ki bas usee mein jeena seekh lete hain, phir chaahe vo paristhitiyaan buree hee kyon na hon!

ham apanee job se napharat karate hain par phir bhee use pakade-pakade zindagee bita dete hain, to kaee baar ham bas isalie naye vyavasaay ke baare mein nahin sochate kyonki hamaara maujooda bijanes daal-rotee bhar ka kharcha nikaal deta hai! par aisa karane mein ham kabhee bhee apane pooree kshamata ko nahin kar paate hain aur bahut see aisee cheejen karane se chook jaate hain jinhen karane kee hamaare andar kshamata hai aur jo hamaaree jeevan ko kaheen behatar bana sakatee hain.

sochiye, kaheen aapakee zindagee mein bhee to koee aisee bhains nahin jo aapako ek behatar zindagee jeene se rok rahee hai … kaheen aisa to nahin ki aapako lag raha hai ki aapane us bhains ko baandh kar rakha hai jabaki asaliyat mein us bhains ne aapako baandh rakha hai! aur agar aapako lage ki aisa hai, to aage badhie … himmat karie, apanee rassee ko kaatie; aajaad hoie … aapake paas khone ke lie bahut thoda hai par paane ke lie poora jahaan hai! jaie use paakar dikhaie!

Comments

comments