Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग

bhimashankar-jyotirlinga

bhimashankar-jyotirlinga

bhimashankar-jyotirlinga

bhimashankar-jyotirlinga

शिव पुराण के अनुसार भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग (Bhimashankar Jyotirling in Pune)

असम प्रान्त के कामरूप जनपद में ब्रह्मरूप पहाड़ी पर स्थित है। इस शिवलिंग को लेकर कई मतभेद हैं। वर्तमान में यह महाराष्ट्र में स्थित है। कहते हैं जो भी मनुष्य प्रतिदिन प्रातः काल उठकर इस ज्योतिर्लिंग से सम्बन्धित श्लोकों का पाठ करता हुआ शिवलिंग का ध्यान करता है, उसके सात जन्मों तक के पाप नष्ट हो जाते हैं।

ज्योतिर्लिंग की कथा (Story of Bhimashankar Jyotirling in Hindi)

शिव पुराण के अनुसार पूर्व काल में रावण के भाई महाबली कुम्भकर्ण का पुत्र भीम नामक एक महा बलशाली और पराक्रमी राक्षस था। वह अत्याचारी धर्म का नाश करता था और लोगों को सताता था। अपनी माता से पिता के बारे में सुनकर भीम ने देवताओं को सबक सिखाने का सोचा। तब भीम ने अपनी शक्ति को और अधिक बढ़ाने के लिए घोर तपस्या किया और ब्रह्माजी से अतुलनीय बल प्राप्त किया। उसके बाद अपने अतुलनीय बल का घमंड लेकर भीम देवताओं से युद्ध करने लगा। कई देवताओं को हराने के बाद उसने सम्पूर्ण पृथ्वी को जीतने का अभियान चलाया।

ज्योतिर्लिंगों की कथा (Story of 12 Jyotirling in Hindi)

इसी दौरान उसने कामरूप देश के राजा और भगवान शिव के परम भक्त सुदक्षिण पर आक्रमण किया। सुदक्षिण को युद्ध में हराकर भीम ने कारागार में डाल दिया। कारागार में भी सुदक्षिण नित्य भगवान शिव की पूजा करता था। उससे प्रभावित होकर कारागार में बंद अन्य कैदी भी भोलेनाथ के भक्त हो गए और उनकी पूजा करने लगे। किसी ने राक्षस को बताया कि सुदक्षिण पार्थिव पूजन करके तुम्हारे लिए अनुष्ठान कर रहा है। उसी समय राक्षस ने सुदक्षिण को मारने का निर्णय लिया। जेल पहुंचकर जैसे ही राक्षस ने राजा पर तलवार चलाई वहां भगवान शिव प्रकट हो गए। भगवान शिव ने युद्ध में राक्षस को मार डाला। उसी समय ऋषि मुनियों ने भगवान शिव की स्तुति की और उनसे कहा कि भूतभावन शिव! यह क्षेत्र बहुत ही निन्दित माना जाता है इसलिए लोककल्याण की भावना से आप सदा के लिए यहीं निवास करें। भोलेनाथ ने उनके आग्रह को स्वीकार किया और ज्योतिर्लिंग के रूप में वही विराजमान हो गए।

wish4me to English

shiv puraan bheemaashankar jyotirling ke anusaar (pune mein bheemaashankar jyotirling)

kaamaroop mein asam ke praant kee ek pahaadee jile brahmarup par sthit hai. vahaan shivaling ke beech kaee matabhed hain. yah vartamaan mein mahaaraashtr mein sthit hai. unhonne yah bhee kahana hai ki yah shivaling ka dhyaan karane ke lie har subah paane ke lie samay hai is jyotirling se sambandhit chhand ka paath kiya gaya tha, usake saat janmon ke paap nasht karane ke lie.

jyotir kahaanee (hindee mein bheemaashankar jyotirling kee kahaanee)

maha shiv puraan ke anusaar ek majaboot aur shaktishaalee raakshas raavan ke bhaee ateet mein shaktishaalee bheema kumbhakarn ka putr bhee kaha jaata tha. yah dharm ka ghor vinaash tha aur logon ko sataata tha. suno, bil devataon apanee maan ke baare mein apane pita se ek sabak sikhaane ke lie socha. bheema to kram mein unakee taakat aur adamy bal badhaane ke lie aur brahmaajee se praapt karane ke lie aur adhik gambheer tapasya ho. usake baad vah ladaee karane ke lie devataon bheem ke saath apane atulaneey bal ghamand ke baare mein tha. kaee devataon jo saaree prthvee ko jeetane ke lie abhiyaan chalaaya ko haraane ke baad.

jyotirlingon kahaanee (hindee mein 12 jyotirling kee kahaanee)

usee samay, vah bhagavaan shiv aur desh ke kaamaroop sudaksin prabal bhakton ke raaja par hamala kiya. sudaksin yuddh bheem jel mein daal mein hara diya. vahaan bhee tha bhagavaan shiv kee pooja jel mein hamesha sudaksin. any kaidiyon ya jel se prerit hokar bhee bholenaath ka bhakt mein band ho gaya hai aur unhen pooja karane lage. kisee ne vishaal kee pooja karane ke lie aapake shareer ke lie sudaksin rasm hai ki bataaya. isee samay, vishaal sudaksin maarane ka phaisala kiya. ke roop mein bhagavaan shiv kie raaja par talavaar jel mein pahunche vishaal khulaasa kiya gaya hai. bhagavaan shiv kee ladaee mein vishaal ko maar daala. isee samay, bhagavaan shiv ke rshi muni ke samaan prashansa aur kaha ki bhutabhavan shiv se poochha! is kshetr mein bahut yahaan rahane ke lie itana hai ki aap hamesha kalyaan mahasoos kee ninda kee jaanee karane ke lie jaana jaata hai. bholenaath unake anurodh ko sveekaar kar liya hai, aur jyotir roop mein viraajamaan kiya gaya tha.

Comments

comments