Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » मां गंगा का धरती पर जन्‍म (Birth of maa Ganga on the Earth)

मां गंगा का धरती पर जन्‍म (Birth of maa Ganga on the Earth)

birth-of-maa-ganga-on-the-earth

birth-of-maa-ganga-on-the-earth

Birth of maa Ganga on the Earth

Birth of maa Ganga on the Earth

शास्‍त्रों के अनुसार माना गया है कि महाराजा भगीरथ ने अपने पूर्वजों का उद्धार करने के लिए कठोर तप किया था और धरती के पाप कम करने के लिए मां गंगा को धरती पर लेकर आए थे. मां के जन्‍म की कथा बहुत ही प्रसिद्ध और पावन है. इसे सुनने से भी मां का आशीर्वाद भक्‍तों पर बना रहता है.

गंगा दशहरा व्रत कथा
एक बार महाराज सगर ने व्यापक यज्ञ किया. उस यज्ञ की रक्षा का भार उनके पौत्र अंशुमान ने संभाला. इंद्र ने सगर के यज्ञीय अश्व का अपहरण कर लिया. यह यज्ञ के लिए विघ्न था. परिणाम स्‍वरूप अंशुमान ने सगर की साठ हजार प्रजा लेकर अश्व को खोजना शुरू कर दिया. सारा भूमंडल खोज लिया पर अश्व नहीं मिला.

फिर अश्व को पाताल लोक में खोजने के लिए पृथ्वी को खोदा गया. खुदाई पर उन्होंने देखा कि साक्षात्‌ भगवान ‘महर्षि कपिल’ के रूप में तपस्या कर रहे हैं. उन्हीं के पास महाराज सगर का अश्व घास चर रहा है. प्रजा उन्हें देखकर ‘चोर-चोर’ चिल्लाने लगी और इस तरह महर्षि कपिल की समाधि टूट गई. महर्षि ने अपने आग्नेय नेत्र खोले और सारी प्रजा भस्म हो गई. इन मृत लोगों के उद्धार के लिए ही महाराज दिलीप के पुत्र भगीरथ ने कठोर तप किया था.

भगीरथ के तप से प्रसन्न होकर ब्रह्मा ने उनसे वर मांगने को कहा तो भगीरथ ने ‘गंगा’ की मांग की. इस पर ब्रह्मा ने कहा- ‘राजन! तुम गंगा का पृथ्वी पर अवतरण तो चाहते हो? परंतु क्या तुमने पृथ्वी से पूछा है कि वह गंगा के भार तथा वेग को संभाल पाएगी? मेरा विचार है कि गंगा के वेग को संभालने की शक्ति केवल भगवान शंकर में है. इसलिए उचित यह होगा कि गंगा का भार एवं वेग संभालने के लिए भगवान शिव का अनुग्रह प्राप्त कर लिया जाए.’

महाराज भगीरथ ने वैसे ही किया. उनकी कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रह्माजी ने गंगा की धारा को अपने कमंडल से छोड़ा. तब भगवान शिव ने गंगा की धारा को अपनी जटाओं में समेटकर जटाएं बांध लीं. इसका परिणाम यह हुआ कि गंगा को जटाओं से बाहर निकलने का पथ नहीं मिल सका. महाराज भगीरथ ने भगवान शिव की आराधना में घोर तप शुरू किया. तब कहीं भगवान शिव ने गंगा की धारा को मुक्त करने का वरदान दिया. इस प्रकार शिवजी की जटाओं से छूट कर गंगाजी हिमालय की घाटियों में कल-कल निनाद करके मैदान की ओर मुड़ी.

इस प्रकार भगीरथ पृथ्वी पर गंगा का वरण करके बड़े भाग्यशाली हुए. उन्होंने जनमानस को अपने पुण्य से उपकृत कर दिया. युगों-युगों तक बहने वाली गंगा की धारा महाराज भगीरथ की कष्टमयी साधना की गाथा कहती है. गंगा प्राणीमात्र को जीवनदान ही नहीं देती, मुक्ति भी देती है. इसी कारण भारत तथा विदेशों तक में गंगा की महिमा गाई जाती है.

wish4me to English

shaas‍tron ke anusaar maana gaya hai ki mahaaraaja bhageerath ne apane poorvajon ka uddhaar karane ke lie kathor tap kiya tha aur dharatee ke paap kam karane ke lie maan ganga ko dharatee par lekar aae the. maan ke jan‍ma kee katha bahut hee prasiddh aur paavan hai. ise sunane se bhee maan ka aasheervaad bhak‍ton par bana rahata hai.

ganga dashahara vrat katha
ek baar mahaaraaj sagar ne vyaapak yagy kiya. us yagy kee raksha ka bhaar unake pautr anshumaan ne sambhaala. indr ne sagar ke yagyeey ashv ka apaharan kar liya. yah yagy ke lie vighn tha. parinaam s‍varoop anshumaan ne sagar kee saath hajaar praja lekar ashv ko khojana shuroo kar diya. saara bhoomandal khoj liya par ashv nahin mila.

phir ashv ko paataal lok mein khojane ke lie prthvee ko khoda gaya. khudaee par unhonne dekha ki saakshaat‌ bhagavaan maharshi kapil ke roop mein tapasya kar rahe hain. unheen ke paas mahaaraaj sagar ka ashv ghaas char raha hai. praja unhen dekhakar chor-chor chillaane lagee aur is tarah maharshi kapil kee samaadhi toot gaee. maharshi ne apane aagney netr khole aur saaree praja bhasm ho gaee. in mrt logon ke uddhaar ke lie hee mahaaraaj dileep ke putr bhageerath ne kathor tap kiya tha.

bhageerath ke tap se prasann hokar brahma ne unase var maangane ko kaha to bhageerath ne ganga kee maang kee. is par brahma ne kaha- raajan! tum ganga ka prthvee par avataran to chaahate ho? parantu kya tumane prthvee se poochha hai ki vah ganga ke bhaar tatha veg ko sambhaal paegee? mera vichaar hai ki ganga ke veg ko sambhaalane kee shakti keval bhagavaan shankar mein hai. isalie uchit yah hoga ki ganga ka bhaar evan veg sambhaalane ke lie bhagavaan shiv ka anugrah praapt kar liya jae.

mahaaraaj bhageerath ne vaise hee kiya. unakee kathor tapasya se prasann hokar brahmaajee ne ganga kee dhaara ko apane kamandal se chhoda. tab bhagavaan shiv ne ganga kee dhaara ko apanee jataon mein sametakar jataen baandh leen. isaka parinaam yah hua ki ganga ko jataon se baahar nikalane ka path nahin mil saka. mahaaraaj bhageerath ne bhagavaan shiv kee aaraadhana mein ghor tap shuroo kiya. tab kaheen bhagavaan shiv ne ganga kee dhaara ko mukt karane ka varadaan diya. is prakaar shivajee kee jataon se chhoot kar gangaajee himaalay kee ghaatiyon mein kal-kal ninaad karake maidaan kee or mudee.

is prakaar bhageerath prthvee par ganga ka varan karake bade bhaagyashaalee hue. unhonne janamaanas ko apane puny se upakrt kar diya. yugon-yugon tak bahane vaalee ganga kee dhaara mahaaraaj bhageerath kee kashtamayee saadhana kee gaatha kahatee hai. ganga praaneemaatr ko jeevanadaan hee nahin detee, mukti bhee detee hai. isee kaaran bhaarat tatha videshon tak mein ganga kee mahima gaee jaatee hai

Comments

comments