Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » अंजनी पुत्र हनुमानजी की जन्‍मकथा के बारे में (Birth story of Hanuman jee)

अंजनी पुत्र हनुमानजी की जन्‍मकथा के बारे में (Birth story of Hanuman jee)

birth-story-of-hanuman-jee

birth-story-of-hanuman-jee

Birth story of Hanuman jee

Birth story of Hanuman jee

पुराणों में कथा है कि केसरी और अंजना के विवाह के बाद वह संतान सुख से वंचित थे. अंजना अपनी इस पीड़ा को लेकर मतंग ऋषि के पास गईं, तब मंतग ऋषि ने उनसे कहा- पप्पा (कई लोग इसे पंपा सरोवर भी कहते हैं) सरोवर के पूर्व में नरसिंह आश्रम है, उसकी दक्षिण दिशा में नारायण पर्वत पर स्वामी तीर्थ है वहां जाकर उसमें स्नान करके, बारह वर्ष तक तप और उपवास करने पर तुम्हें पुत्र सुख की प्राप्ति होगी.

अंजना ने मतंग ऋषि और अपने पति केसरी से आज्ञा लेकर तप किया और बारह वर्ष तक केवल वायु पर ही जीवित रहीं. एक बार अंजना ने ‘शुचिस्नान’ करके सुंदर वस्त्राभूषण धारण किए. तब वायु देवता ने अंजना की तपस्या से प्रसन्न होकर उनके कर्णरन्ध्र में प्रवेश कर उसे वरदान दिया कि तेरे यहां सूर्य, अग्नि और सुवर्ण के समान तेजस्वी, वेद-वेदांगों का मर्मज्ञ, विश्वन्द्य महाबली पुत्र होगा.

 

wish4me to English

puraanon mein katha hai ki kesaree aur anjana ke vivaah ke baad vah santaan sukh se vanchit the. anjana apanee is peeda ko lekar matang rshi ke paas gaeen, tab mantag rshi ne unase kaha- pappa (kaee log ise pampa sarovar bhee kahate hain) sarovar ke poorv mein narasinh aashram hai, usakee dakshin disha mein naaraayan parvat par svaamee teerth hai vahaan jaakar usamen snaan karake, baarah varsh tak tap aur upavaas karane par tumhen putr sukh kee praapti hogee.

anjana ne matang rshi aur apane pati kesaree se aagya lekar tap kiya aur baarah varsh tak keval vaayu par hee jeevit raheen. ek baar anjana ne shuchisnaan karake sundar vastraabhooshan dhaaran kie. tab vaayu devata ne anjana kee tapasya se prasann hokar unake karnarandhr mein pravesh kar use varadaan diya ki tere yahaan soory, agni aur suvarn ke samaan tejasvee, ved-vedaangon ka marmagy, vishvandy mahaabalee putr hoga.

 

Comments

comments