Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » ब्लैक बेल्ट (Story of a martial artist)

ब्लैक बेल्ट (Story of a martial artist)

black-belt-story-of-a-martial-artist

black-belt-story-of-a-martial-artist

Black-belt

Black-belt

एक नौजवान मार्शल आर्टिस्ट को सालों की मेहनत के बाद ब्लैक बेल्ट देने के लिए चयनित किया गया . ये बेल्ट एक समारोह में मास्टर सेन्सेइ द्वारा दी जानी थी .समारोह वाले दिन नवयुवक मास्टर सेन्सेइ के समक्ष ब्लैक – बेल्ट प्राप्त करने पहुंचा .

“ बेल्ट देने से पहले , तुम्हे एक और परीक्षा देनी होगी ,” सेन्सेइ बोले .

“मैं तैयार हूँ ,” नवयुवक बोला ; उसे लगा की शायद उसे किसी से मुकाबला करना होगा .

लेकिन सेंसेई के दिमाग में तो कुछ और ही चल रहा था . उन्होंने पूछा , “ तुम्हे इस प्रश्न का उत्तर देना होगा : ब्लैक बेल्ट हांसिल करने का असली मतलब क्या है ?”

“ मेरी यात्रा का अंत ,” नवयुवक बोला . “मेरे कठोर परिश्रम का इनाम .”

सेंसेई इस उत्तर से संतुष्ट नहीं हुए और बोले ; “ तुम अभी ब्लैक बेल्ट पाने के काबिल नहीं बने हो . एक साल बाद आना .”

एक साल बाद नवयुवक एक बार फिर ब्लैक बेल्ट लेने के लिए पहुंचा , सेंसेई ने दुबारा वही प्रश्न किया , “ब्लैक बेल्ट हांसिल करने का असली मतलब क्या है ?”

“ यह इस कला में सबसे बड़ी उपलब्धि पाने का प्रतीक है ,” नवयुवक बोला

सेंसेई संतुष्ट नहीं हुए और कुछ देर इंतज़ार किया की वो कुछ और भी बोले पर युवक शांत ही रहा .

“ तुम अभी भी बेल्ट पाने के हकदार नहीं बन पाए हो , जाओ अगले साल फिर आना .” , और ऐसा कहते हुए सेंसेई ने युवक को वापस भेज दिया .

एक साल बाद फिर वह युवक सेंसेई के सामने क्ल्हादा था . सेंसेई ने पुनः वही प्रश्न किया ,

“ब्लैक बेल्ट हांसिल करने का असली मतलब क्या है ?”

“ ब्लैक बेल्ट आरम्भ है एक कभी न ख़त्म होने वाली यात्रा का जिसमे अनुशाशन है ,कठोर परिश्रम है , और हमेशा सर्वोत्तम मापदंड छूने की लालसा है .” नवयुवक ने पूरे आत्म -विश्वास के साथ उत्तर दिया .

“सेंसेई उत्तर सुन कर प्रसन्न हुए और बोले , “ बिलकुल सही . अब तुम ब्लैक -बेल्ट पाने के लायक बने हो . लो इस सम्मान को ग्रहण करो और अपने कार्य में लग जाओ .”,

Friends, कई बार किसी बड़ी उपलब्धि को हांसिल करने के बाद हम थोड़े निश्चिंत हो जाते हैं , शायद यही वजह है की शिखर पर पहुंचना शिखर पर बने रहने से आसान होता है. हमें चाहिए की हम अपनी उपलब्धि के मुताबिक और भी कड़ी मेहनत करें और अपने सम्मान की प्रतिष्ठा बनाये रखें.

Wish4me to English

Ek naujavaan maarshal aarṭisṭ ko saalon kee mehanat ke baad blaik belṭ dene ke lie chayanit kiyaa gayaa . Ye belṭ ek samaaroh men maasṭar sensei dvaaraa dee jaanee thee . Samaaroh vaale din navayuvak maasṭar sensei ke samakṣ blaik – belṭ praapt karane pahunchaa .

“ belṭ dene se pahale , tumhe ek aur pareekṣaa denee hogee ,” sensei bole .

“main taiyaar hoon ,” navayuvak bolaa ; use lagaa kee shaayad use kisee se mukaabalaa karanaa hogaa . Lekin senseii ke dimaag men to kuchh aur hee chal rahaa thaa . Unhonne poochhaa , “ tumhe is prashn kaa uttar denaa hogaa ah blaik belṭ haansil karane kaa asalee matalab kyaa hai ?”

“ meree yaatraa kaa ant ,” navayuvak bolaa . “mere kaṭhor parishram kaa inaam .”

senseii is uttar se sntuṣṭ naheen hue aur bole ; “ tum abhee blaik belṭ paane ke kaabil naheen bane ho . Ek saal baad aanaa .”

ek saal baad navayuvak ek baar fir blaik belṭ lene ke lie pahunchaa , senseii ne dubaaraa vahee prashn kiyaa , “blaik belṭ haansil karane kaa asalee matalab kyaa hai ?”

“ yah is kalaa men sabase badee upalabdhi paane kaa prateek hai ,” navayuvak bolaa

senseii sntuṣṭ naheen hue aur kuchh der intazaar kiyaa kee vo kuchh aur bhee bole par yuvak shaant hee rahaa .

“ tum abhee bhee belṭ paane ke hakadaar naheen ban paae ho , jaao agale saal fir aanaa .” , aur aisaa kahate hue senseii ne yuvak ko vaapas bhej diyaa . Ek saal baad fir vah yuvak senseii ke saamane klhaadaa thaa . Senseii ne punah vahee prashn kiyaa ,

“blaik belṭ haansil karane kaa asalee matalab kyaa hai ?”

“ blaik belṭ aarambh hai ek kabhee n khatm hone vaalee yaatraa kaa jisame anushaashan hai ,kaṭhor parishram hai , aur hameshaa sarvottam maapadnḍa chhoone kee laalasaa hai .” navayuvak ne poore aatm -vishvaas ke saath uttar diyaa .

“senseii uttar sun kar prasann hue aur bole , “ bilakul sahee . Ab tum blaik -belṭ paane ke laayak bane ho . Lo is sammaan ko grahaṇa karo aur apane kaary men lag jaao .”,

friends, ka_ii baar kisee badee upalabdhi ko haansil karane ke baad ham thode nishchint ho jaate hain , shaayad yahee vajah hai kee shikhar par pahunchanaa shikhar par bane rahane se aasaan hotaa hai. Hamen chaahie kee ham apanee upalabdhi ke mutaabik aur bhee kadee mehanat karen aur apane sammaan kee pratiṣṭhaa banaaye rakhen.

Comments

comments