Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » blog » बुद्ध का ज्ञान

बुद्ध का ज्ञान

budh-ka-gyan

budh-ka-gyan

Budh Ka Gyan

संन्यास लेने के बाद गौतम बुद्ध ने अनेक क्षेत्रों की यात्रा की। एक बार वह एक गांव में गए। वहां एक स्त्री उनके पास आई और बोली- आप तो कोई राजकुमार लगते हैं। क्या मैं जान सकती हूं कि इस युवावस्था में गेरुआ वस्त्र पहनने का क्या कारण है? बुद्ध ने विनम्रतापूर्वक उत्तर दिया कि तीन प्रश्नों के हल ढूंढने के लिए उन्होंने संन्यास लिया। यह शरीर जो युवा व आकर्षक है पर जल्दी ही यह वृद्ध होगा, फिर बीमार व अंत में मृत्यु के मुंह में चला जाएगा।
मुझे वृद्धावस्था, बीमारी व मृत्यु के कारण का ज्ञान प्राप्त करना है। उनसे प्रभावित होकर उस स्त्री ने उन्हें भोजन के लिए आमंत्रित किया। शीघ्र ही यह बात पूरे गांव
में फैल गई। गांववासी बुद्ध के पास आए व आग्रह किया कि वे इस स्त्री के घर भोजन करने न जाएं क्योंकि वह चरित्रहीन है। बुद्ध ने गांव के मुखिया से पूछा- क्या आप भी मानते हैं कि वह स्त्री चरित्रहीन है? मुखिया ने कहा कि मैं शपथ लेकर कहता हूं कि वह बुरे चरित्र वाली है। आप उसके घर न जाएं। बुद्ध ने मुखिया का दायां हाथ पकड़ा और उसे ताली बजाने को कहा।
मुखिया ने कहा- मैं एक हाथ से ताली नहीं बजा सकता क्योंकि मेरा दूसरा हाथ आपने पकड़ा हुआ है।
बुद्ध बोले- इसी प्रकार यह स्वयं चरित्रहीन कैसे हो सकती है जब तक इस गांव के पुरुष चरित्रहीन न हों। अगर गांव के सभी पुरुष अच्छे होते तो यह औरत ऐसी न होती इसलिए इसके चरित्र के लिए यहां के पुरुष जिम्मेदार हैं। यह सुनकर सभी लज्जित हो गए।

बुद्धम् सरणं गच्छामि।
धम्मम् सरणं गच्छामि। संघम् सरणं गच्छामि।


 

sannyaas lene ke baad gautam buddh ne anek kshetron kee yaatra kee. ek baar vah ek gaanv mein gae. vahaan ek stree unake paas aaee aur bolee- aap to koee raajakumaar lagate hain. kya main jaan sakatee hoon ki is yuvaavastha mein gerua vastr pahanane ka kya kaaran hai? buddh ne vinamrataapoorvak uttar diya ki teen prashnon ke hal dhoondhane ke lie unhonne sannyaas liya. yah shareer jo yuva va aakarshak hai par jaldee hee yah vrddh hoga, phir beemaar va ant mein mrtyu ke munh mein chala jaega.
mujhe vrddhaavastha, beemaaree va mrtyu ke kaaran ka gyaan praapt karana hai. unase prabhaavit hokar us stree ne unhen bhojan ke lie aamantrit kiya. sheeghr hee yah baat poore gaanv
mein phail gaee. gaanvavaasee buddh ke paas aae va aagrah kiya ki ve is stree ke ghar bhojan karane na jaen kyonki vah charitraheen hai. buddh ne gaanv ke mukhiya se poochha- kya aap bhee maanate hain ki vah stree charitraheen hai? mukhiya ne kaha ki main shapath lekar kahata hoon ki vah bure charitr vaalee hai. aap usake ghar na jaen. buddh ne mukhiya ka daayaan haath pakada aur use taalee bajaane ko kaha.
mukhiya ne kaha- main ek haath se taalee nahin baja sakata kyonki mera doosara haath aapane pakada hua hai.
buddh bole- isee prakaar yah svayan charitraheen kaise ho sakatee hai jab tak is gaanv ke purush charitraheen na hon. agar gaanv ke sabhee purush achchhe hote to yah aurat aisee na hotee isalie

Comments

comments