Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति: आठवां अध्याय (Chanakya Niti eighth chapter)

चाणक्य नीति: आठवां अध्याय (Chanakya Niti eighth chapter)

chanakya-niti-eighth-chapter-2

chanakya-niti-eighth-chapter-2

Chanakya

Chanakya

नीच वर्ग के लोग दौलत चाहते है, मध्यम वर्ग के दौलत और इज्जत, लेकिन उच्च वर्ग के लोग सम्मान चाहते है क्यों की सम्मान ही उच्च लोगो की असली दौलत है.

दीपक अँधेरे का भक्षण करता है इसीलिए काला धुआ बनाता है. इसी प्रकार हम जिस प्रकार का अन्न खाते है. माने सात्विक, राजसिक, तामसिक उसी प्रकार के विचार उत्पन्न करते है.

हे विद्वान् पुरुष ! अपनी संपत्ति केवल पात्र को ही दे और दूसरो को कभी ना दे. जो जल बादल को समुद्र देता है वह बड़ा मीठा होता है. बादल वर्षा करके वह जल पृथ्वी के सभी चल अचल जीवो को देता है और फिर उसे समुद्र को लौटा देता है.

विद्वान् लोग जो तत्त्व को जानने वाले है उन्होंने कहा है की मास खाने वाले चांडालो से हजार गुना नीच है. इसलिए ऐसे आदमी से नीच कोई नहीं.

शरीर पर मालिश करने के बाद, स्मशान में चिता का धुआ शरीर पर आने के बाद, सम्भोग करने के बाद, दाढ़ी बनाने के बाद जब तक आदमी नहा ना ले वह चांडाल रहता है.

जल अपच की दवा है. जल चैतन्य निर्माण करता है, यदि उसे भोजन पच जाने के बाद पीते है. पानी को भोजन के बाद तुरंत पीना विष पिने के समान है.

यदि ज्ञान को उपयोग में ना लाया जाए तो वह खो जाता है. आदमी यदि अज्ञानी है तो खो जाता है. सेनापति के बिना सेना खो जाती है. पति के बिना पत्नी खो जाती है.

वह आदमी अभागा है जो अपने बुढ़ापे में पत्नी की मृत्यु देखता है. वह भी अभागा है जो अपनी सम्पदा संबंधियों को सौप देता है. वह भी अभागा है जो खाने के लिए दुसरो पर निर्भर है.

wish4me to English

neech varg ke log daulat chaahate hai, madhyam varg ke daulat aur ijjat, lekin uchch varg ke log sammaan chaahate hai kyon kee sammaan hee uchch logo kee asalee daulat hai.

deepak andhere ka bhakshan karata hai iseelie kaala dhua banaata hai. isee prakaar ham jis prakaar ka ann khaate hai. maane saatvik, raajasik, taamasik usee prakaar ke vichaar utpann karate hai.

he vidvaan purush ! apanee sampatti keval paatr ko hee de aur doosaro ko kabhee na de. jo jal baadal ko samudr deta hai vah bada meetha hota hai. baadal varsha karake vah jal prthvee ke sabhee chal achal jeevo ko deta hai aur phir use samudr ko lauta deta hai.

vidvaan log jo tattv ko jaanane vaale hai unhonne kaha hai kee maas khaane vaale chaandaalo se hajaar guna neech hai. isalie aise aadamee se neech koee nahin.

shareer par maalish karane ke baad, smashaan mein chita ka dhua shareer par aane ke baad, sambhog karane ke baad, daadhee banaane ke baad jab tak aadamee naha na le vah chaandaal rahata hai.

jal apach kee dava hai. jal chaitany nirmaan karata hai, yadi use bhojan pach jaane ke baad peete hai. paanee ko bhojan ke baad turant peena vish pine ke samaan hai.

yadi gyaan ko upayog mein na laaya jae to vah kho jaata hai. aadamee yadi agyaanee hai to kho jaata hai. senaapati ke bina sena kho jaatee hai. pati ke bina patnee kho jaatee hai.

vah aadamee abhaaga hai jo apane budhaape mein patnee kee mrtyu dekhata hai. vah bhee abhaaga hai jo apanee sampada sambandhiyon ko saup deta hai. vah bhee abhaaga hai jo khaane ke lie dusaro par nirbhar hai.

Comments

comments