Monday , 29 May 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति: नवां अध्याय (Chanakya Niti eighth chapter)

चाणक्य नीति: नवां अध्याय (Chanakya Niti eighth chapter)

chanakya-niti-eighth-chapter

chanakya-niti-eighth-chapter

chaanaky

chaanaky

तात, यदि तुम जन्म मरण के चक्र से मुक्त होना चाहते हो तो जिन विषयो के पीछे तुम इन्द्रियों की संतुष्टि के लिए भागते फिरते हो उन्हें ऐसे त्याग दो जैसे तुम विष को त्याग देते हो. इन सब को छोड़कर हे तात तितिक्षा, ईमानदारी का आचरण, दया, शुचिता और सत्य इसका अमृत पियो.

वो कमीने लोग जो दूसरो की गुप्त खामियों को उजागर करते हुए फिरते है, उसी तरह नष्ट हो जाते है जिस तरह कोई साप चीटियों के टीलों में जा कर मर जाता है.
शायद किसीने ब्रह्माजी, जो इस सृष्टि के निर्माता है, को यह सलाह नहीं दी की वह …
सुवर्ण को सुगंध प्रदान करे.
गन्ने के झाड को फल प्रदान करे.
चन्दन के वृक्ष को फूल प्रदान करे.
विद्वान् को धन प्रदान करे.
राजा को लम्बी आयु प्रदान करे.
अमृत सबसे बढ़िया औषधि है.
इन्द्रिय सुख में अच्छा भोजन सर्वश्रेष्ठ सुख है.
नेत्र सभी इन्द्रियों में श्रेष्ठ है.
मस्तक शरीर के सभी भागो मे श्रेष्ठ है.
कोई संदेशवाहक आकाश में जा नहीं सकता और आकाश से कोई खबर आ नहीं सकती. वहा रहने वाले लोगो की आवाज सुनाई नहीं देती. और उनके साथ कोई संपर्क नहीं हो सकता. इसीलिए वह ब्राह्मण जो सूर्य और चन्द्र ग्रहण की भविष्य वाणी करता है, उसे विद्वान मानना चाहिए.
इन सातो को जगा दे यदि ये सो जाए…
१. विद्यार्थी २. सेवक ३. पथिक ४. भूखा आदमी ५. डरा हुआ आदमी ६. खजाने का रक्षक ७. खजांची
इन सातो को नींद से नहीं जगाना चाहिए…
१. साप २. राजा ३. बाघ ४. डंख करने वाला कीड़ा ५. छोटा बच्चा ६. दुसरो का कुत्ता ७. मुर्ख
जिन्होंने वेदों का अध्ययन पैसा कमाने के लिए किया और जो नीच काम करने वाले लोगो का दिया हुआ अन्न खाते है उनके पास कौनसी शक्ति हो सकती है. वो ऐसे भुजंगो के समान है जो दंश नहीं कर सकते.
जिसके डाटने से सामने वाले के मन में डर नहीं पैदा होता और प्रसन्न होने के बाद जो सामने वाले को कुछ देता नहीं है. वो ना किसी की रक्षा कर सकता है ना किसी को नियंत्रित कर सकता है. ऐसा आदमी भला क्या कर सकता है.
यदि नाग अपना फना खड़ा करे तो भले ही वह जहरीला ना हो तो भी उसका यह करना सामने वाले के मन में डर पैदा करने को पर्याप्त है. यहाँ यह बात कोई माइना नहीं रखती की वह जहरीला है की नहीं.
सुबह उठकर दिन भर जो दाव आप लगाने वाले है उसके बारे में सोचे. दोपहर को अपनी माँ को याद करे. रात को चोरो को ना भूले.
आपको इन्द्र के समान वैभव प्राप्त होगा यदि आप..
अपने भगवान् के गले की माला अपने हाथो से बनाये.
अपने भगवान् के लिए चन्दन अपने हाथो से घिसे.
अपने हाथो से पवित्र ग्रंथो को लिखे.
गरीबी पर धैर्य से मात करे. पुराने वस्त्रो को स्वच्छ रखे. बासी अन्न को गरम करे. अपनी कुरूपता पर अपने अच्छे व्यवहार से मात करे.
wish4me to English

taat, yadi tum janm maran ke chakr se mukt hona chaahate ho to jin vishayo ke peechhe tum indriyon kee santushti ke lie bhaagate phirate ho unhen aise tyaag do jaise tum vish ko tyaag dete ho. in sab ko chhodakar he taat titiksha, eemaanadaaree ka aacharan, daya, shuchita aur saty isaka amrt piyo.

vo kameene log jo doosaro kee gupt khaamiyon ko ujaagar karate hue phirate hai, usee tarah nasht ho jaate hai jis tarah koee saap cheetiyon ke teelon mein ja kar mar jaata hai.

shaayad kiseene brahmaajee, jo is srshti ke nirmaata hai, ko yah salaah nahin dee kee vah …
suvarn ko sugandh pradaan kare.
ganne ke jhaad ko phal pradaan kare.
chandan ke vrksh ko phool pradaan kare.
vidvaan ko dhan pradaan kare.
raaja ko lambee aayu pradaan kare.

amrt sabase badhiya aushadhi hai.
indriy sukh mein achchha bhojan sarvashreshth sukh hai.
netr sabhee indriyon mein shreshth hai.
mastak shareer ke sabhee bhaago me shreshth hai.

koee sandeshavaahak aakaash mein ja nahin sakata aur aakaash se koee khabar aa nahin sakatee. vaha rahane vaale logo kee aavaaj sunaee nahin detee. aur unake saath koee sampark nahin ho sakata. iseelie vah braahman jo soory aur chandr grahan kee bhavishy vaanee karata hai, use vidvaan maanana chaahie.

in saato ko jaga de yadi ye so jae…
1. vidyaarthee 2. sevak 3. pathik 4. bhookha aadamee 5. dara hua aadamee 6. khajaane ka rakshak 7. khajaanchee

in saato ko neend se nahin jagaana chaahie…
1. saap 2. raaja 3. baagh 4. dankh karane vaala keeda 5. chhota bachcha 6. dusaro ka kutta 7. murkh
jinhonne vedon ka adhyayan paisa kamaane ke lie kiya aur jo neech kaam karane vaale logo ka diya hua ann khaate hai unake paas kaunasee shakti ho sakatee hai. vo aise bhujango ke samaan hai jo dansh nahin kar sakate.

jisake daatane se saamane vaale ke man mein dar nahin paida hota aur prasann hone ke baad jo saamane vaale ko kuchh deta nahin hai. vo na kisee kee raksha kar sakata hai na kisee ko niyantrit kar sakata hai. aisa aadamee bhala kya kar sakata hai.

yadi naag apana phana khada kare to bhale hee vah jahareela na ho to bhee usaka yah karana saamane vaale ke man mein dar paida karane ko paryaapt hai. yahaan yah baat koee maina nahin rakhatee kee vah jahareela hai kee nahin.

subah uthakar din bhar jo daav aap lagaane vaale hai usake baare mein soche. dopahar ko apanee maan ko yaad kare. raat ko choro ko na bhoole.

aapako indr ke samaan vaibhav praapt hoga yadi aap..
apane bhagavaan ke gale kee maala apane haatho se banaaye.
apane bhagavaan ke lie chandan apane haatho se ghise.
apane haatho se pavitr grantho ko likhe.

gareebee par dhairy se maat kare. puraane vastro ko svachchh rakhe. baasee ann ko garam kare. apanee kuroopata par apane achchhe vyavahaar se maat kare.

 

Comments

comments