Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति: पांचवा अध्याय (Chanakya Niti: fifth lesson)

चाणक्य नीति: पांचवा अध्याय (Chanakya Niti: fifth lesson)

chanakya-niti-fifth-lesson

chanakya-niti-fifth-lesson

Chanakya Niti: fifth lesson

Chanakya Niti: fifth lesson

ब्राह्मणों को अग्नि की पूजा करनी चाहिए . दुसरे लोगों को ब्राह्मण की पूजा करनी चाहिए . पत्नी को  पति की पूजा करनी चाहिए तथा  दोपहर के भोजन के लिए जो अतिथि आये उसकी सभी को पूजा करनी चाहिए .

सोने की परख उसे घिस कर, काट कर, गरम कर के और पीट कर की जाती है. उसी तरह व्यक्ति का परीक्षण वह कितना त्याग करता है, उसका आचरण कैसा है, उसमे गुण कौनसे है और उसका व्यवहार कैसा है इससे होता है.
यदि आप पर मुसीबत आती नहीं है तो उससे सावधान रहे. लेकिन यदि मुसीबत आ जाती है तो किसी भी तरह उससे छुटकारा पाए.

अनेक व्यक्ति जो एक ही गर्भ से पैदा हुए है या एक ही नक्षत्र में पैदा हुए है वे एकसे नहीं रहते. उसी प्रकार जैसे बेर के झाड के सभी बेर एक से नहीं रहते.

वह व्यक्ति जिसके हाथ स्वच्छ है कार्यालय में काम नहीं करना चाहता. जिस ने अपनी कामना को ख़तम कर दिया है, वह शारीरिक शृंगार नहीं करता, जो आधा पढ़ा हुआ व्यक्ति है वो मीठे बोल बोल नहीं सकता. जो सीधी बात करता है वह धोका नहीं दे सकता.

मूढ़ लोग बुद्धिमानो से इर्ष्या करते है. गलत मार्ग पर चलने वाली औरत पवित्र स्त्री से इर्ष्या करती है. बदसूरत औरत खुबसूरत औरत से इर्ष्या करती है.

खाली बैठने से अभ्यास का नाश होता है. दुसरो को देखभाल करने के लिए देने से पैसा नष्ट होता है. गलत ढंग से बुवाई करने वाला किसान अपने बीजो का नाश करता है. यदि सेनापति नहीं है तो सेना का नाश होता है.

अर्जित विद्या अभ्यास से सुरक्षित रहती है.
घर की इज्जत अच्छे व्यवहार से सुरक्षित रहती है.
अच्छे गुणों से इज्जतदार आदमी को मान मिलता है.
किसीभी व्यक्ति का गुस्सा उसकी आँखों में दिखता है.

धर्मं की रक्षा पैसे से होती है.
ज्ञान की रक्षा जमकर आजमाने से होती है.
राजा से रक्षा उसकी बात मानने से होती है.
घर की रक्षा एक दक्ष गृहिणी से होती है.

जो वैदिक ज्ञान की निंदा करते है, शास्र्त सम्मत जीवनशैली की मजाक उड़ाते है, शांतीपूर्ण स्वभाव के लोगो की मजाक उड़ाते है, बिना किसी आवश्यकता के दुःख को प्राप्त होते है.

दान गरीबी को ख़त्म करता है. अच्छा आचरण दुःख को मिटाता है. विवेक अज्ञान को नष्ट करता है. जानकारी भय को समाप्त करती है.

वासना के समान दुष्कर कोई रोग नहीं. मोह के समान कोई शत्रु नहीं. क्रोध के समान अग्नि नहीं. स्वरुप ज्ञान के समान कोई बोध नहीं.

व्यक्ति अकेले ही पैदा होता है. अकेले ही मरता है. अपने कर्मो के शुभ अशुभ परिणाम अकेले ही भोगता है. अकेले ही नरक में जाता है या सदगति प्राप्त करता है.

जिसने अपने स्वरुप को जान लिया उसके लिए स्वर्ग तो तिनके के समान है. एक पराक्रमी योद्धा अपने जीवन को तुच्छ मानता है. जिसने अपनी कामना को जीत लिया उसके लिए स्त्री भोग का विषय नहीं. उसके लिए सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड तुच्छ है जिसके मन में कोई आसक्ति नहीं.

जब आप सफ़र पर जाते हो तो विद्यार्जन ही आपका मित्र है. घर में पत्नी मित्र है. बीमार होने पर दवा मित्र है. अर्जित पुण्य मृत्यु के बाद एकमात्र मित्र है.

समुद्र में होने वाली वर्षा व्यर्थ है. जिसका पेट भरा हुआ है उसके लिए अन्न व्यर्थ है. पैसे वाले आदमी के लिए भेट वस्तु का कोई अर्थ नहीं. दिन के समय जलता दिया व्यर्थ है.

वर्षा के जल के समान कोई जल नहीं. खुदकी शक्ति के समान कोई शक्ति नहीं. नेत्र ज्योति के समान कोई प्रकाश नहीं. अन्न से बढ़कर कोई संपत्ति नहीं.

निर्धन को धन की कामना. पशु को वाणी की कामना. लोगो को स्वर्ग की कामना. देव लोगो को मुक्ति की कामना.
सत्य की शक्ति ही इस दुनिया को धारण करती है. सत्य की शक्ति से ही सूर्य प्रकाशमान है, हवाए चलती है, सही में सब कुछ सत्य पर आश्रित है.

लक्ष्मी जो संपत्ति की देवता है, वह चंचला है. हमारी श्वास भी चंचला है. हम कितना समय जियेंगे इसका कोई ठिकाना नहीं. हम कहा रहेंगे यह भी पक्का नहीं. कोई बात यहाँ पर पक्की है तो यह है की हमारा अर्जित पुण्य कितना है.

आदमियों में नाई सबसे धूर्त है. कौवा पक्षीयों में धूर्त है. लोमड़ी प्राणीयो में धूर्त है. औरतो में लम्पट औरत सबसे धूर्त है.

ये सब आपके पिता है…१. जिसने आपको जन्म दिया. २. जिसने आपका यज्ञोपवित संस्कार किया. ३. जिसने आपको पढाया. ४. जिसने आपको भोजन दिया. ५. जिसने आपको भयपूर्ण परिस्थितियों में बचाया.

इन सब को  आपनी माता समझें .१. राजा की पत्नी २. गुरु की पत्नी ३. मित्र की पत्नी ४. पत्नी की माँ ५. आपकी माँ.

 

wish4me to English

braahmanon ko agni kee pooja karanee chaahie . dusare logon ko braahman kee pooja karanee chaahie . patnee ko pati kee pooja karanee chaahie tatha dopahar ke bhojan ke lie jo atithi aaye usakee sabhee ko pooja karanee chaahie .

sone kee parakh use ghis kar, kaat kar, garam kar ke aur peet kar kee jaatee hai. usee tarah vyakti ka pareekshan vah kitana tyaag karata hai, usaka aacharan kaisa hai, usame gun kaunase hai aur usaka vyavahaar kaisa hai isase hota hai.
yadi aap par museebat aatee nahin hai to usase saavadhaan rahe. lekin yadi museebat aa jaatee hai to kisee bhee tarah usase chhutakaara pae.

anek vyakti jo ek hee garbh se paida hue hai ya ek hee nakshatr mein paida hue hai ve ekase nahin rahate. usee prakaar jaise ber ke jhaad ke sabhee ber ek se nahin rahate.

vah vyakti jisake haath svachchh hai kaaryaalay mein kaam nahin karana chaahata. jis ne apanee kaamana ko khatam kar diya hai, vah shaareerik shrngaar nahin karata, jo aadha padha hua vyakti hai vo meethe bol bol nahin sakata. jo seedhee baat karata hai vah dhoka nahin de sakata.

moodh log buddhimaano se irshya karate hai. galat maarg par chalane vaalee aurat pavitr stree se irshya karatee hai. badasoorat aurat khubasoorat aurat se irshya karatee hai.

khaalee baithane se abhyaas ka naash hota hai. dusaro ko dekhabhaal karane ke lie dene se paisa nasht hota hai. galat dhang se buvaee karane vaala kisaan apane beejo ka naash karata hai. yadi senaapati nahin hai to sena ka naash hota hai.

arjit vidya abhyaas se surakshit rahatee hai.
ghar kee ijjat achchhe vyavahaar se surakshit rahatee hai.
achchhe gunon se ijjatadaar aadamee ko maan milata hai.
kiseebhee vyakti ka gussa usakee aankhon mein dikhata hai.

dharman kee raksha paise se hotee hai.
gyaan kee raksha jamakar aajamaane se hotee hai.
raaja se raksha usakee baat maanane se hotee hai.
ghar kee raksha ek daksh grhinee se hotee hai.

jo vaidik gyaan kee ninda karate hai, shaasrt sammat jeevanashailee kee majaak udaate hai, shaanteepoorn svabhaav ke logo kee majaak udaate hai, bina kisee aavashyakata ke duhkh ko praapt hote hai.

daan gareebee ko khatm karata hai. achchha aacharan duhkh ko mitaata hai. vivek agyaan ko nasht karata hai. jaanakaaree bhay ko samaapt karatee hai.

vaasana ke samaan dushkar koee rog nahin. moh ke samaan koee shatru nahin. krodh ke samaan agni nahin. svarup gyaan ke samaan koee bodh nahin.

vyakti akele hee paida hota hai. akele hee marata hai. apane karmo ke shubh ashubh parinaam akele hee bhogata hai. akele hee narak mein jaata hai ya sadagati praapt karata hai.

jisane apane svarup ko jaan liya usake lie svarg to tinake ke samaan hai. ek paraakramee yoddha apane jeevan ko tuchchh maanata hai. jisane apanee kaamana ko jeet liya usake lie stree bhog ka vishay nahin. usake lie sampoorn brahmaand tuchchh hai jisake man mein koee aasakti nahin.

jab aap safar par jaate ho to vidyaarjan hee aapaka mitr hai. ghar mein patnee mitr hai. beemaar hone par dava mitr hai. arjit puny mrtyu ke baad ekamaatr mitr hai.

samudr mein hone vaalee varsha vyarth hai. jisaka pet bhara hua hai usake lie ann vyarth hai. paise vaale aadamee ke lie bhet vastu ka koee arth nahin. din ke samay jalata diya vyarth hai.

varsha ke jal ke samaan koee jal nahin. khudakee shakti ke samaan koee shakti nahin. netr jyoti ke samaan koee prakaash nahin. ann se badhakar koee sampatti nahin.

nirdhan ko dhan kee kaamana. pashu ko vaanee kee kaamana. logo ko svarg kee kaamana. dev logo ko mukti kee kaamana.
saty kee shakti hee is duniya ko dhaaran karatee hai. saty kee shakti se hee soory prakaashamaan hai, havae chalatee hai, sahee mein sab kuchh saty par aashrit hai.

lakshmee jo sampatti kee devata hai, vah chanchala hai. hamaaree shvaas bhee chanchala hai. ham kitana samay jiyenge isaka koee thikaana nahin. ham kaha rahenge yah bhee pakka nahin. koee baat yahaan par pakkee hai to yah hai kee hamaara arjit puny kitana hai.

aadamiyon mein naee sabase dhoort hai. kauva paksheeyon mein dhoort hai. lomri praaneeyo mein dhoort hai. aurato mein lampat aurat sabase dhoort hai.

ye sab aapake pita hai…1. jisane aapako janm diya. 2. jisane aapaka yagyopavit sanskaar kiya. 3. jisane aapako padhaaya. 4. jisane aapako bhojan diya. 5. jisane aapako bhayapoorn paristhitiyon mein bachaaya.

in sab ko aapanee maata samajhen .1. raaja kee patnee 2. guru kee patnee 3. mitr kee patnee 4. patnee kee maan 5. aapakee maan.

Comments

comments