Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति: सातवां ध्याय (chanakya niti:seventh chapter)

चाणक्य नीति: सातवां ध्याय (chanakya niti:seventh chapter)

chanakya-niti-seventh-chapter

chanakya-niti-seventh-chapter

chaanaky

chaanaky

एक बुद्धिमान व्यक्ति को निम्नलिखित बातें किसी को नहीं बतानी चाहिए ..
१. की उसकी दौलत खो चुकी है.
२. उसे क्रोध आ गया है.
३. उसकी पत्नी ने जो गलत व्यवहार किया.
४. लोगो ने उसे जो गालिया दी.
५. वह किस प्रकार बेइज्जत हुआ है.

जो व्यक्ति आर्थिक व्यवहार करने में, ज्ञान अर्जन करने में, खाने में और काम-धंदा करने में शर्माता नहीं है वो सुखी हो जाता है.

जो सुख और शांति का अनुभव स्वरुप ज्ञान को प्राप्त करने से होता है, वैसा अनुभव जो लोभी लोग धन के लोभ में यहाँ वहा भटकते रहते है उन्हें नहीं होता.
व्यक्ति नीचे दी हुए ३ चीजो से संतुष्ट रहे…
१. खुदकी पत्नी २. वह भोजन जो विधाता ने प्रदान किया. ३. उतना धन जितना इमानदारी से मिल गया.

लेकिन व्यक्ति को नीचे दी हुई ३ चीजो से संतुष्ट नहीं होना चाहिए…
१. अभ्यास २. भगवान् का नाम स्मरण. ३. परोपकार

इन दोनों के मध्य से कभी ना जाए..
१. दो ब्राह्मण.
२. ब्राह्मण और उसके यज्ञ में जलने वाली अग्नि.
३. पति पत्नी.
४. स्वामी और उसका चाकर.
५. हल और बैल.

अपना पैर कभी भी इनसे न छूने दे…१. अग्नि २. अध्यात्मिक गुरु ३. ब्राह्मण ४. गाय ५. एक कुमारिका ६. एक उम्र में बड़ा आदमी. ५. एक बच्चा.

हाथी से हजार गज की दुरी रखे.
घोड़े से सौ की.
सिंग वाले जानवर से दस की.
लेकिन दुष्ट जहा हो उस जगह से ही निकल जाए.

हाथी को अंकुश से नियंत्रित करे.
घोड़े को थप थपा के.
सिंग वाले जानवर को डंडा दिखा के.
एक बदमाश को तलवार से.ब्राह्मण अच्छे भोजन से तृप्त होते है. मोर मेघ गर्जना से. साधू दुसरो की सम्पन्नता देखकर और दुष्ट दुसरो की विपदा देखकर.

एक शक्तिशाली आदमी से उसकी बात मानकर समझौता करे. एक दुष्ट का प्रतिकार करे. और जिनकी शक्ति आपकी शक्ति के बराबर है उनसे समझौता विनम्रता से या कठोरता से करे.

एक राजा की शक्ति उसकी शक्तिशाली भुजाओ में है. एक ब्राह्मण की शक्ति उसके स्वरुप ज्ञान में है. एक स्त्री की शक्ति उसकी सुन्दरता, तारुण्य और मीठे वचनों में है.

अपने व्यवहार में बहुत सीधे ना रहे. आप यदि वन जाकर देखते है तो पायेंगे की जो पेड़ सीधे उगे उन्हें काट लिया गया और जो पेड़ आड़े तिरछे है वो खड़े है.
हंस वहा रहते है जहा पानी होता है. पानी सूखने पर वे उस जगह को छोड़ देते है. आप किसी आदमी को ऐसा व्यवहार ना करने दे की वह आपके पास आता जाता रहे
संचित धन खर्च करने से बढ़ता है. उसी प्रकार जैसे ताजा जल जो अभी आया है बचता है, यदि पुराने स्थिर जल को निकल बहार किया जाये.

वह व्यक्ति जिसके पास धन है उसके पास मित्र और सम्बन्धी भी बहोत रहते है. वही इस दुनिया में टिक पाता है और उसीको इज्जत मिलती है.

स्वर्ग में निवास करने वाले देवता लोगो में और धरती पर निवास करने वाले लोगो में कुछ साम्य पाया जाता है.
उनके समान गुण है १. परोपकार २. मीठे वचन ३. भगवान् की आराधना. ४. ब्राह्मणों के जरूरतों की पूर्ति.

नरक में निवास करने वाले और धरती पर निवास करने वालो में साम्यता – १. अत्याधिक क्रोध २. कठोर वचन ३. अपने ही संबंधियों से शत्रुता ४. नीच लोगो से मैत्री ५. हीन हरकते करने वालो की चाकरी.

यदि आप शेर की गुफा में जाते हो तो आप को हाथी के माथे का मणि मिल सकता है. लेकिन यदि आप लोमड़ी जहा रहती है वहा जाते हो तो बछड़े की पूछ या गधे की हड्डी के अलावा कुछ नहीं मिलेगा.

एक अनपढ़ आदमी की जिंदगी किसी कुत्ते की पूछ की तरह बेकार है. उससे ना उसकी इज्जत ही ढकती है और ना ही कीड़े मक्खियों को भागने के काम आती है.

यदि आप दिव्यता चाहते है तो आपके वाचा, मन और इन्द्रियों में शुद्धता होनी चाहिए. उसी प्रकार आपके ह्रदय में करुणा होनी चाहिए.

जिस  प्रकार एक फूल में खुशबु है. तील में तेल है. लकड़ी में अग्नि है. दूध में घी है. गन्ने में गुड है. उसी प्रकार यदि आप ठीक से देखते हो तो हर व्यक्ति में परमात्मा है.

wish4me to English

ek buddhimaan vyakti ko nimnalikhit baaten kisee ko nahin bataanee chaahie ..
1. kee usakee daulat kho chukee hai.
2. use krodh aa gaya hai.
3. usakee patnee ne jo galat vyavahaar kiya.
4. logo ne use jo gaaliya dee.
5. vah kis prakaar beijjat hua hai.

jo vyakti aarthik vyavahaar karane mein, gyaan arjan karane mein, khaane mein aur kaam-dhanda karane mein sharmaata nahin hai vo sukhee ho jaata hai.

jo sukh aur shaanti ka anubhav svarup gyaan ko praapt karane se hota hai, vaisa anubhav jo lobhee log dhan ke lobh mein yahaan vaha bhatakate rahate hai unhen nahin hota.
vyakti neeche dee hue 3 cheejo se santusht rahe:
1. khudakee patnee 2. vah bhojan jo vidhaata ne pradaan kiya. 3. utana dhan jitana imaanadaaree se mil gaya.

lekin vyakti ko neeche dee huee 3 cheejo se santusht nahin hona chaahie…
1. abhyaas 2. bhagavaan ka naam smaran. 3. paropakaar

in donon ke madhy se kabhee na jae..
1. do braahman.
2. braahman aur usake yagy mein jalane vaalee agni.
3. pati patnee.
4. svaamee aur usaka chaakar.
5. hal aur bail.

apana pair kabhee bhee inase na chhoone de…1. agni 2. adhyaatmik guru 3. braahman 4. gaay 5. ek kumaarika 6. ek umr mein bada aadamee. 5. ek bachcha.

haathee se hajaar gaj kee duree rakhe.
ghode se sau kee.
sing vaale jaanavar se das kee.
lekin dusht jaha ho us jagah se hee nikal jae.

haathee ko ankush se niyantrit kare.
ghode ko thap thapa ke.
sing vaale jaanavar ko danda dikha ke.
ek badamaash ko talavaar se.
braahman achchhe bhojan se trpt hote hai. mor megh garjana se. saadhoo dusaro kee sampannata dekhakar aur dusht dusaro kee vipada dekhakar.

ek shaktishaalee aadamee se usakee baat maanakar samajhauta kare. ek dusht ka pratikaar kare. aur jinakee shakti aapakee shakti ke baraabar hai unase samajhauta vinamrata se ya kathorata se kare.

ek raaja kee shakti usakee shaktishaalee bhujao mein hai. ek braahman kee shakti usake svarup gyaan mein hai. ek stree kee shakti usakee sundarata, taaruny aur meethe vachanon mein hai.

apane vyavahaar mein bahut seedhe na rahe. aap yadi van jaakar dekhate hai to paayenge kee jo ped seedhe uge unhen kaat liya gaya aur jo ped aade tirachhe hai vo khade hai.
hans vaha rahate hai jaha paanee hota hai. paanee sookhane par ve us jagah ko chhod dete hai. aap kisee aadamee ko aisa vyavahaar na karane de kee vah aapake paas aata jaata rahe
sanchit dhan kharch karane se badhata hai. usee prakaar jaise taaja jal jo abhee aaya hai bachata hai, yadi puraane sthir jal ko nikal bahaar kiya jaaye.

vah vyakti jisake paas dhan hai usake paas mitr aur sambandhee bhee bahot rahate hai. vahee is duniya mein tik paata hai aur useeko ijjat milatee hai.

svarg mein nivaas karane vaale devata logo mein aur dharatee par nivaas karane vaale logo mein kuchh saamy paaya jaata hai.
unake samaan gun hai 1. paropakaar 2. meethe vachan 3. bhagavaan kee aaraadhana. 4. braahmanon ke jarooraton kee poorti.

narak mein nivaas karane vaale aur dharatee par nivaas karane vaalo mein saamyata – 1. atyaadhik krodh 2. kathor vachan 3. apane hee sambandhiyon se shatruta 4. neech logo se maitree 5. heen harakate karane vaalo kee chaakaree.

yadi aap sher kee gupha mein jaate ho to aap ko haathee ke maathe ka mani mil sakata hai. lekin yadi aap lomri jaha rahatee hai vaha jaate ho to bachhade kee poochh ya gadhe kee haddee ke alaava kuchh nahin milega.

ek anapadh aadamee kee jindagee kisee kutte kee poochh kee tarah bekaar hai. usase na usakee ijjat hee dhakatee hai aur na hee keede makkhiyon ko bhaagane ke kaam aatee hai.

yadi aap divyata chaahate hai to aapake vaacha, man aur indriyon mein shuddhata honee chaahie. usee prakaar aapake hraday mein karuna honee chaahie.

jis prakaar ek phool mein khushabu hai. teel mein tel hai. lakadee mein agni hai. doodh mein ghee hai. ganne mein gud hai. usee prakaar yadi aap theek se dekhate ho to har vyakti mein paramaatma hai.

Comments

comments