Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति : दसवां अध्याय (Chanakya Niti: tenth chapter)

चाणक्य नीति : दसवां अध्याय (Chanakya Niti: tenth chapter)

chanakya-niti-tenth-chapter

chanakya-niti-tenth-chapter

chaanaky

chaanaky

जिसके पास धन नहीं है वो गरीब नहीं है, वह तो असल में रहीस है, यदि उसके पास विद्या है. लेकिन जिसके पास विद्या नहीं है वह तो सब प्रकार से निर्धन है.

हम अपना हर कदम फूक फूक कर रखे. हम छाना हुआ जल पिए. हम वही बात बोले जो शास्त्र सम्मत है. हम वही काम करे जिसके बारे हम सावधानीपुर्वक सोच चुके है.
जिसे अपने इन्द्रियों की तुष्टि चाहिए, वह विद्या अर्जन करने के सभी विचार भूल जाए. और जिसे ज्ञान चाहिए वह अपने इन्द्रियों की तुष्टि भूल जाये. जो इन्द्रिय विषयों में लगा है उसे ज्ञान कैसा, और जिसे ज्ञान है वह व्यर्थ की इन्द्रिय तुष्टि में लगा रहे यह संभव नहीं.
वह क्या है जो कवी कल्पना में नहीं आ सकता. वह कौनसी बात है जिसे करने में औरत सक्षम नहीं है. ऐसी कौनसी बकवास है जो दारू पिया हुआ आदमी नहीं करता. ऐसा क्या है जो कौवा नहीं खाता.
नियति एक भिखारी को राजा और राजा को भिखारी बनाती है. वह एक अमीर आदमी को गरीब और गरीब को अमीर.
भिखारी यह कंजूस आदमी का दुश्मन है. एक अच्छा सलाहकार एक मुर्ख आदमी का शत्रु है.
वह पत्नी जो पर पुरुष में रूचि रखती है, उसके लिए उसका पति ही उसका शत्रु है.
जो चोर रात को काम करने निकलता है, चन्द्रमा ही उसका शत्रु है.
जिनके पास यह कुछ नहीं है…विद्या, तप, ज्ञान, अच्छा स्वभाव, गुण, दया भाव|
…वो धरती पर मनुष्य के रूप में घुमने वाले पशु है. धरती पर उनका भार है.
जिनके भेजे खाली है, वो कोई उपदेश नहीं समझते. यदि बास को मलय पर्वत पर उगाया जाये तो भी उसमे चन्दन के गुण नहीं आते.
जिसे अपनी कोई अकल नहीं उसकी शास्त्र क्या भलाई करेंगे. एक अँधा आदमी आयने का क्या करेगा.
अपने निकट संबंधियों का अपमान करने से जान जाती है.
दुसरो का अपमान करने से दौलत जाती है.
राजा का अपमान करने से सब कुछ जाता है.
एक ब्राह्मण का अपमान करने से कुल का नाश हो जाता है.
यह बेहतर है की आप जंगल में एक झाड के नीचे रहे, जहा बाघ और हाथी रहते है, उस जगह रहकर आप फल खाए और जलपान करे, आप घास पर सोये और पुराने पेड़ो की खाले पहने. लेकिन आप अपने सगे संबंधियों में ना रहे यदि आप निर्धन हो गए है.
ब्राह्मण एक वृक्ष के समान है. उसकी प्रार्थना ही उसका मूल है. वह जो वेदों का गान करता है वही उसकी शाखाए है. वह जो पुण्य कर्म करता है वही उसके पत्ते है. इसीलिए उसने अपने मूल को बचाना चाहिए. यदि मूल नष्ट हो जाता है तो शाखाये भी ना रहेगी और पत्ते भी.
लक्ष्मी मेरी माता है. विष्णु मेरे पिता है. वैष्णव जन मेरे सगे सम्बन्धी है. तीनो लोक मेरा देश है.
रात्रि के समय कितने ही प्रकार के पंछी वृक्ष पर विश्राम करते है. भोर होते ही सब पंछी दसो दिशाओ में उड़ जाते है. हम क्यों भला दुःख करे यदि हमारे अपने हमें छोड़कर चले गए.
जिसके पास में विद्या है वह शक्तिशाली है. निर्बुद्ध पुरुष के पास क्या शक्ति हो सकती है? एक छोटा खरगोश भी चतुराई से मदमस्त हाथी को तालाब में गिरा देता है.
हे विश्वम्भर तू सबका पालन करता है. मै मेरे गुजारे की क्यों चिंता करू जब मेरा मन तेरी महिमा गाने में लगा हुआ है. आपके अनुग्रह के बिना एक माता की छाती से दूध नहीं बह सकता और शिशु का पालन नहीं हो सकता. मै हरदम यही सोचता हुआ, हे यदु वंशियो के प्रभु, हे लक्ष्मी पति, मेरा पूरा समय आपकी ही चरण सेवा में खर्च करता हू.
wish4me to English
jisake paas dhan nahin hai vo gareeb nahin hai, vah to asal mein rahees hai, yadi usake paas vidya hai. lekin jisake paas vidya nahin hai vah to sab prakaar se nirdhan hai.

ham apana har kadam phook phook kar rakhe. ham chhaana hua jal pie. ham vahee baat bole jo shaastr sammat hai. ham vahee kaam kare jisake baare ham saavadhaaneepurvak soch chuke hai.

jise apane indriyon kee tushti chaahie, vah vidya arjan karane ke sabhee vichaar bhool jae. aur jise gyaan chaahie vah apane indriyon kee tushti bhool jaaye. jo indriy vishayon mein laga hai use gyaan kaisa, aur jise gyaan hai vah vyarth kee indriy tushti mein laga rahe yah sambhav nahin.

vah kya hai jo kavee kalpana mein nahin aa sakata. vah kaunasee baat hai jise karane mein aurat saksham nahin hai. aisee kaunasee bakavaas hai jo daaroo piya hua aadamee nahin karata. aisa kya hai jo kauva nahin khaata.

niyati ek bhikhaaree ko raaja aur raaja ko bhikhaaree banaatee hai. vah ek ameer aadamee ko gareeb aur gareeb ko ameer.

bhikhaaree yah kanjoos aadamee ka dushman hai. ek achchha salaahakaar ek murkh aadamee ka shatru hai.
vah patnee jo par purush mein roochi rakhatee hai, usake lie usaka pati hee usaka shatru hai.
jo chor raat ko kaam karane nikalata hai, chandrama hee usaka shatru hai.

jinake paas yah kuchh nahin hai…vidya, tap, gyaan, achchha svabhaav, gun, daya bhaav|
…vo dharatee par manushy ke roop mein ghumane vaale pashu hai. dharatee par unaka bhaar hai.

jinake bheje khaalee hai, vo koee upadesh nahin samajhate. yadi baas ko malay parvat par ugaaya jaaye to bhee usame chandan ke gun nahin aate.

jise apanee koee akal nahin usakee shaastr kya bhalaee karenge. ek andha aadamee aayane ka kya karega.

apane nikat sambandhiyon ka apamaan karane se jaan jaatee hai.
dusaro ka apamaan karane se daulat jaatee hai.
raaja ka apamaan karane se sab kuchh jaata hai.
ek braahman ka apamaan karane se kul ka naash ho jaata hai.

yah behatar hai kee aap jangal mein ek jhaad ke neeche rahe, jaha baagh aur haathee rahate hai, us jagah rahakar aap phal khae aur jalapaan kare, aap ghaas par soye aur puraane pedo kee khaale pahane. lekin aap apane sage sambandhiyon mein na rahe yadi aap nirdhan ho gae hai.

braahman ek vrksh ke samaan hai. usakee praarthana hee usaka mool hai. vah jo vedon ka gaan karata hai vahee usakee shaakhae hai. vah jo puny karm karata hai vahee usake patte hai. iseelie usane apane mool ko bachaana chaahie. yadi mool nasht ho jaata hai to shaakhaaye bhee na rahegee aur patte bhee.

lakshmee meree maata hai. vishnu mere pita hai. vaishnav jan mere sage sambandhee hai. teeno lok mera desh hai.

raatri ke samay kitane hee prakaar ke panchhee vrksh par vishraam karate hai. bhor hote hee sab panchhee daso dishao mein ud jaate hai. ham kyon bhala duhkh kare yadi hamaare apane hamen chhodakar chale gae.

jisake paas mein vidya hai vah shaktishaalee hai. nirbuddh purush ke paas kya shakti ho sakatee hai? ek chhota kharagosh bhee chaturaee se madamast haathee ko taalaab mein gira deta hai.

he vishvambhar too sabaka paalan karata hai. mai mere gujaare kee kyon chinta karoo jab mera man teree mahima gaane mein laga hua hai. aapake anugrah ke bina ek maata kee chhaatee se doodh nahin bah sakata aur shishu ka paalan nahin ho sakata. mai haradam yahee sochata hua, he yadu vanshiyo ke prabhu, he lakshmee pati, mera poora samay aapakee hee charan seva mein kharch karata hoo

Comments

comments