Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति : प्रथम अध्याय (Chanakya Niti: The First Chapter)

चाणक्य नीति : प्रथम अध्याय (Chanakya Niti: The First Chapter)

chanakya-niti-the-first-chapter

chanakya-niti-the-first-chapter

Chanakya Niti: The First Chapter

Chanakya Niti: The First Chapter

१. तीनो लोको के स्वामी सर्वशक्तिमान भगवान विष्णु को नमन करते हुए मै एक राज्य के लिए नीति शास्त्र के सिद्धांतों को कहता हूँ. मै यह सूत्र अनेक शास्त्रों का आधार ले कर कह रहा हूँ।

2. जो व्यक्ति शास्त्रों के सूत्रों का अभ्यास करके ज्ञान ग्रहण करेगा उसे अत्यंत वैभवशाली कर्तव्य के सिद्धांत ज्ञात होगे। उसे इस बात का पता चलेगा कि किन बातों का अनुशरण करना चाहिए और किनका नहीं। उसे अच्छाई और बुराई का भी ज्ञात होगा और अंततः उसे सर्वोत्तम का भी ज्ञान होगा।

३. इसलिए लोगो का भला करने के लिए मै उन बातों को कहूंगा जिनसे लोग सभी चीजों को सही परिपेक्ष्य मे देखेगे।

४. एक पंडित भी घोर कष्ट में आ जाता है यदि वह किसी मुर्ख को उपदेश देता है, यदि वह एक दुष्ट पत्नी का पालन-पोषण करता है या किसी दुखी व्यक्ति के साथ अतयंत घनिष्ठ सम्बन्ध बना लेता है.

५. दुष्ट पत्नी, झूठा मित्र, बदमाश नौकर और सर्प के साथ निवास साक्षात् मृत्यु के समान है।

६ . व्यक्ति को आने वाली मुसीबतो से निबटने के लिए धन संचय करना चाहिए। उसे धन-सम्पदा त्यागकर भी पत्नी की सुरक्षा करनी चाहिए। लेकिन यदि आत्मा की सुरक्षा की बात आती है तो उसे धन और पत्नी दोनो को तुक्ष्य समझना चाहिए।

७ .भविष्य में आने वाली मुसीबतो के लिए धन एकत्रित करें। ऐसा ना सोचें की धनवान व्यक्ति को मुसीबत कैसी? जब धन साथ छोड़ता है तो संगठित धन भी तेजी से घटने लगता है।

८.  उस देश मे निवास न करें जहाँ आपकी कोई ईज्जत नहीं हो, जहा आप रोजगार नहीं कमा सकते, जहा आपका कोई मित्र नहीं और जहा आप कोई ज्ञान आर्जित नहीं कर सकते।

 

wish4me to English

1. teeno loko ke svaamee sarvashaktimaan bhagavaan vishnu ko naman karate hue mai ek raajy ke lie neeti shaastr ke siddhaanton ko kahata hoon. mai yah sootr anek shaastron ka aadhaar le kar kah raha hoon.

2. jo vyakti shaastron ke sootron ka abhyaas karake gyaan grahan karega use atyant vaibhavashaalee kartavy ke siddhaant gyaat hoge. use is baat ka pata chalega ki kin baaton ka anusharan karana chaahie aur kinaka nahin. use achchhaee aur buraee ka bhee gyaat hoga aur antatah use sarvottam ka bhee gyaan hoga.

3. isalie logo ka bhala karane ke lie mai un baaton ko kahoonga jinase log sabhee cheejon ko sahee paripekshy me dekhege.

4. ek pandit bhee ghor kasht mein aa jaata hai yadi vah kisee murkh ko upadesh deta hai, yadi vah ek dusht patnee ka paalan-poshan karata hai ya kisee dukhee vyakti ke saath atayant ghanishth sambandh bana leta hai.

5. dusht patnee, jhootha mitr, badamaash naukar aur sarp ke saath nivaas saakshaat mrtyu ke samaan hai.

6 . vyakti ko aane vaalee museebato se nibatane ke lie dhan sanchay karana chaahie. use dhan-sampada tyaagakar bhee patnee kee suraksha karanee chaahie. lekin yadi aatma kee suraksha kee baat aatee hai to use dhan aur patnee dono ko tukshy samajhana chaahie.

7 .bhavishy mein aane vaalee museebato ke lie dhan ekatrit karen. aisa na sochen kee dhanavaan vyakti ko museebat kaisee? jab dhan saath chhodata hai to sangathit dhan bhee tejee se ghatane lagata hai.

8. us desh me nivaas na karen jahaan aapakee koee eejjat nahin ho, jaha aap rojagaar nahin kama sakate, jaha aapaka koee mitr nahin aur jaha aap koee gyaan aarjit nahin kar sakate

Comments

comments