Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » चिठ्ठी आई है आई है चिठ्ठी आई है

चिठ्ठी आई है आई है चिठ्ठी आई है

chithi-ayi-hai-ayi-hai-chithi-ayi-hai

chithi-ayi-hai-ayi-hai-chithi-ayi-hai

Chithi Ayi Hai Ayi Hai Chithi Ayi Hai Bhajan

जय जय माँ, जय जय माँ, जय जय माँ, जय जय माँ

चिठ्ठी आई है, आई है, चिठ्ठी आई है
चिठ्ठी आई है, मैया की चिठ्ठी आई है
चिठ्ठी आई है, कटरा से चिठ्ठी आई है
बड़े दिनों के बाद, इस निर्धन की फरियाद
संदेसा माँ का लायी है
चिठ्ठी आई है, मैया की चिठ्ठी आई है…

पहले माँ का नाम लिखा है
फिर माँ का पैगाम लिखा है
लिखती है माता वैष्णो रानी
जग जननी जगदम्बा भवानी
माँ ने लिखा तू मिलने आज
कुछ पल मेरे पास बिता जा
जी भर के तुझे प्यार करुँगी
खुशिओं से झोली मैं भर दूंगी
लाल चुनरिया तू, मेरे लाल ले आना,
नारियल ध्वजा तू भूल ना जाना
चिठ्ठी आई है…

करना पड़ा इंतज़ार है तुझको
मालूम है मेरे लाल यह मुझको
मेरी भी थी कुछ मजबूरी
बतलाती वो बात जरूरी
लाखों हैं जग में मेरे बेटे
एक साथ ना जाए समेटे
तंग गुफा में घर है मेरा,
ऊँचे पर्वत पे मेरा डेरा
कोशिश कर कर के मैं हारी
तब कहीं आई तेरी बारी
आई घडी अब है वो सुहानी,
लिखती है माँ विष्णो रानी
चिठ्ठी आई है…

आगे लिखा है माँ ने खत में
नमन करूँ माँ को शत शत मैं
कटरा तक बस तू आ जाना
दूर नहीं फिर मेरा ठिकाना
बोलना प्रेम से जय माता दी
लेना समझना की खबर पंहुचा दी
लेने को खुद आ जाउंगी
मंजिल तक तुझे पहुँचाऊँगी
मुमकिन है तू देख ना पाये
पर एहसास तुझे हो जाए
आधक्वारी से तुझको मिलाऊँ
गर्बजून की गुफा दिखाऊं
आगे फिर साँजी छत आए
भवन नज़र वहां से आ जाए
वहीँ मिलूँगी लाल मैं तुझको
कब आएगा बतला मुझको
तेरा मैं इंतज़ार करुँगी
गोदी बिठा के प्यार करुँगी
चिठ्ठी आई है…

चिठ्ठी आई है आई है चिठ्ठी आई है
चिठ्ठी आई है मैया की चिठ्ठी आई है
चिठ्ठी आई है कटरा से चिठ्ठी आई है
चिठ्ठी आई है भवन से चिठ्ठी आई है
बड़े दिनों के बाद, इस निर्धन की याद
भवानी माँ को आई है
चिठ्ठी आई है मैया की चिठ्ठी आई है…


 

jay jay maan, jay jay maan, jay jay maan, jay jay maan

aaee hai, aaee hai, chiththee aaee hai chiththee
chiththee aaee hai, maiya kee chiththee aaee hai
chiththee aaee hai, katara se chiththee aaee hai
bade dinon ke baad, is nirdhan kee phariyaad
sandesa maan ka laayee hai
aaee hai, maiya kee chiththee aaee hai chiththee …

pahale maan ka naam likha hai
phir maan ka paigaam likha hai
likhatee hai maata vaishno raanee
jag jananee jagadamba bhavaanee
maan ne likha too milane aaj
kuchh pal mere paas bita ja
jee bhar ke tujhe pyaar karungee
khushion se jholee main bhar doongee
laal chunariya too, mere laal le aana,
naariyal dhvaja too bhool na jaana
chiththee aaee hai …

karana pada intazaar hai tujhako
maaloom hai mere laal yah mujhako
meree bhee thee kuchh majabooree
batalaatee vo baat jarooree
laakhon hain jag mein mere bete
ek saath na jae samete
tang gupha mein ghar hai mera,
oonche parvat pe mera dera
koshish kar kar ke main haaree
tab kaheen aaee teree baaree
aaee ghadee ab hai vo suhaanee,
likhatee hai maan vishno raanee
chiththee aaee hai …

aage likha hai maan ne khat mein
naman karoon maan ko shat shat main
katara tak bas too aa jaana
door nahin phir mera thikaana
bolana prem se jay maata dee
lena samajhana kee khabar panhucha dee
lene ko khud aa jaungee
manjil tak tujhe pahunchaoongee
mumakin hai too dekh na paaye
par ehasaas tujhe ho jae
aadhakvaaree se tujhako milaoon
garbajoon kee gupha dikhaoon
aage phir saanjee chhat aae
bhavan nazar vahaan se aa jae
vaheen miloongee laal main tujhako
kab aaega batala mujhako
tera main intazaar karungee
godee bitha ke pyaar karungee
chiththee aaee hai …

chiththee aaee hai aaee hai chiththee aaee hai
chiththee aaee hai maiya kee chiththee aaee hai
chiththee aaee hai katara se chiththee aaee hai
chiththee aaee hai bhavan se chiththee aaee hai
bade dinon ke baad, is nirdhan kee yaad

Comments

comments