Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Positive and Negative » संकट का सामना करने के लिए साहस जरूरी (Courage needed to face crisis)

संकट का सामना करने के लिए साहस जरूरी (Courage needed to face crisis)

courage-needed-to-face-crisis

courage-needed-to-face-crisis

Hermitage of a saint

Hermitage of a saint

किसी महात्मा की कुटिया में एक चूहा रहता है। बिल्ली उधर से निकलती तो चूहा डर से कांपने लगता। एक दिन महात्मा ने चूहे से उसके भय का कारण पूछा। चूहे ने बिल्ली का भय बताया, साथ ही महात्मा से प्रार्थना की- मुझे बिल्ली बना दीजिए ताकि निर्भय रह सकूं। महात्मा ने वैसा ही किया।
चूहा बिल्ली बन गया और उस क्षेत्र में सिर उठाकर विचरने लगा, लेकिन कुत्तों ने उसे देखा तो खदेड़ने लगे। बिल्ली ने अपने ऊपर संकट आता देखकर महात्मा से कुत्ता बना देने का अनुरोध किया दयालु महात्मा ने वैसा ही किया। बिल्ली अब कुत्ता बनकर भौकने लगा, तो भेड़िया उसकी गंध पाते ही उसे खाने के लिए चक्कर लगाने लगे। कुत्ते ने इस मुसीबत को देख महात्मा से भेड़िया बनाने की प्रार्थना की। महात्मा ने उसे भेड़िया बना दिया। भेड़िये को सिंह अपना घोर शत्रु मानते है। इसलिए सिंह उसे मारने पर उतारू हो गया। अत: उसने महात्मा से सिंह बना देने की प्रार्थना की। इस बार भी महात्मा ने उसकी कामना पूरी कर दी। बहुत दिन नहीं बीते थे कि शिकारियों का एक दल उसे मारने के लिए उसकी तलाश करने लगा। वरदान से बने सिंह को जब पता चला तो संकट की घड़ी सिर पर मंडराते देखी। जाता कहां, महात्मा के पास ही पहुंचा, लेकिन अब की बार महात्मा की मुद्रा बदली हुई थी। उन्होंने कमंडल से जल छिड़का और सिंह को चूहा बना दिया। बोले- संकत का सामना करने का जिसमें साहस नहीं, उसका दूसरों की सहायता से कब तक काम चल सकता है। किसी कार्य का पूर्ण रूप से संपादन तो स्वयं ही करना पड़ेगा।
‪#‎शिक्षा‬ – दूसरों की मदद से ज्यादा दिन काम नहीं चल सकता। जब व्यक्ति दूसरों पर ही निर्भर हो जाता है तो वे भी उससे कन्नी काटने लगते हैं।

wish4me to English

kisee mahaatma kee kutiya mein ek chooha rahata hai. billee udhar se nikalatee to chooha dar se kaampane lagata. ek din mahaatma ne choohe se usake bhay ka kaaran poochha. choohe ne billee ka bhay bataaya, saath hee mahaatma se praarthana kee- mujhe billee bana deejie taaki nirbhay rah sakoon. mahaatma ne vaisa hee kiya.

chooha billee ban gaya aur us kshetr mein sir uthaakar vicharane laga, lekin kutton ne use dekha to khadedane lage. billee ne apane oopar sankat aata dekhakar mahaatma se kutta bana dene ka anurodh kiya dayaalu mahaatma ne vaisa hee kiya. billee ab kutta banakar bhaukane laga, to bhediya usakee gandh paate hee use khaane ke lie chakkar lagaane lage. kutte ne is museebat ko dekh mahaatma se bhediya banaane kee praarthana kee. mahaatma ne use bhediya bana diya. bhediye ko sinh apana ghor shatru maanate hai. isalie sinh use maarane par utaaroo ho gaya. at: usane mahaatma se sinh bana dene kee praarthana kee. is baar bhee mahaatma ne usakee kaamana pooree kar dee. bahut din nahin beete the ki shikaariyon ka ek dal use maarane ke lie usakee talaash karane laga. varadaan se bane sinh ko jab pata chala to sankat kee ghadee sir par mandaraate dekhee. jaata kahaan, mahaatma ke paas hee pahuncha, lekin ab kee baar mahaatma kee mudra badalee huee thee. unhonne kamandal se jal chhidaka aur sinh ko chooha bana diya. bole- sankat ka saamana karane ka jisamen saahas nahin, usaka doosaron kee sahaayata se kab tak kaam chal sakata hai. kisee kaary ka poorn roop se sampaadan to svayan hee karana padega.
‪#‎shiksha‬ – doosaron kee madad se jyaada din kaam nahin chal sakata. jab vyakti doosaron par hee nirbhar ho jaata hai to ve bhee usase kannee kaatane lagate hain

 

Comments

comments