Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » दक्षिणा क्यों है महत्त्वपूर्ण

दक्षिणा क्यों है महत्त्वपूर्ण

dakshina-kyon-hai-mahatvapoorn-2

dakshina-kyon-hai-mahatvapoorn-2

tod nahin paaya koee shyaam ka rikord

tod nahin paaya koee shyaam ka rikord

दक्षिणा प्रदान करने वालों के ही आकाश में तारागण के रूप में दिव्य चमकीले चित्र हैं, दक्षिणा देने वाले ही भूलोक में सूर्य की भांति चमकते हैं, दक्षिणा देने वालों को अमरत्व प्राप्त होता है और दक्षिणा देने वाले ही दीर्घायु होकर जीवित रहते हैं । शास्त्रों में दक्षिणारहित यज्ञ को निष्फल बताया गया है । जिस वेदवेत्ता ने हवन आदि कृत्य मंत्रोपचार करवाएं हों, उसे खाली हाथ लौटा देना भला कौन उचित कहेगा ? इस संस्कार के द्वारा वर और वधू दाम्पत्य सूत्र में बंधते हैं और एक दूसरे के जीवन साथी बनकर भविष्य में परिवार चलाते हैं । विवाह आठ प्रकार के होते हैं जैसे – ब्राह्म, देव, आर्ण, प्रजापत्य, असुर, गंधर्व, राक्षस और पिशाच । उसमें प्रथम चार श्रेष्ठ और अंतिम चार निष्कृष्ट माने जाते हैं । हिंदू – संस्कृति में विवाह कभी न टूटने वाला एक परम पवित्र धार्मिक संस्कार है, यज्ञ है । विवाह में दो प्राण (वर – वधू) अपने अलग अस्तित्वों को समाप्त कर एक सम्मिलित इकाई का निर्माण करते हैं और एक दूसरे को अपनी योग्यताओं एवं भावनाओं का लाभ पहुंचाते हुए गाड़ी में लगे दो पहियों की तरह प्रगति पथ पर बढ़ते हैं । विवाह दो आत्माओं का पवित्र बंढन है, जिसका उद्देश्य मात्र इंद्रिया सुखभोग नहीं, बल्कि पुत्रोत्पादन, संतानोत्पादन कर एक परिवार की नींव डालना है । सृष्टि के आरंभ में विवाह जैसी कोई प्रथा नहीं थी । कोई भी पुरुष किसी भी स्त्री से यौन संबंध बनाकर संतान उत्पन्न कर सकता था । पिता का ज्ञान न होने से मातृपक्ष की ही प्रधानता थी तथा संतान का परिचय माता से ही दिया जाता था । वह व्यवस्था वैदिककाल तक चलती रही । इस व्यवस्था को परवर्ती ऋषियों ने चुनौती दी तथा इसे पाशविक संबंध मानते हुए नए वैवाहिक नियम बनाए । ऋषि श्वेतकेतु का एक संदर्भ वैदिक साहित्य में आया है कि उन्होंने मर्यादा की रक्षा के लिए विवाह प्रणाली की स्थापना की और तभी से कुटुंब – व्यवस्था का श्रीगणेश हुआ । हिंदू विवाह भोगलिप्सा का साधन नहीं, एक धार्मिक संस्कार है । संस्कार से अन्त:शुद्धि होती है और शुद्ध अंतकरण में तत्वज्ञान व भवत्प्रेमं उत्पन्न होता है, जो जीवन का चरम एवं परम पुरुषार्थ है । मनुष्य के ऊपर देवऋण, ऋषिऋण एवं पितृऋण – ये तीन ऋण होता है । यज्ञ – योगादि से देवऋण, स्वाध्याय से ऋषिगण तथा विवाह करके पितरों के श्राद्ध तर्पण के योग्य धार्मिक एवं सदाचारी पुत्र उत्पन्न करके पितृऋण का परिशोधन होता है । इस प्रकार पितरों की सेवा तथा सद्धर्म का पालन की परंपरा सुरक्षित रखने के लिए संतान उत्पन्न करना विवाह का परम उद्देश्य है । यही कारण है कि हिंदूधर्म में विवाह की एक पवित्र संस्कार के रूप में मान्यता दी गयी है ।


 

dakshina pradaan karane vaalon ke hee aakaash mein taaraagan ke roop mein divy chamakeele chitr hain, dakshina dene vaale hee bhoolok mein soory kee bhaanti chamakate hain, dakshina dene vaalon ko amaratv praapt hota hai aur dakshina dene vaale hee deerghaayu hokar jeevit rahate hain . shaastron mein dakshinaarahit yagy ko nishphal bataaya gaya hai . jis vedavetta ne havan aadi krty mantropachaar karavaen hon, use khaalee haath lauta dena bhala kaun uchit kahega ? is sanskaar ke dvaara var aur vadhoo daampaty sootr mein bandhate hain aur ek doosare ke jeevan saathee banakar bhavishy mein parivaar chalaate hain . vivaah aath prakaar ke hote hain jaise – braahm, dev, aarn, prajaapaty, asur, gandharv, raakshas aur pishaach . usamen pratham chaar shreshth aur antim chaar nishkrsht maane jaate hain . hindoo – sanskrti mein vivaah kabhee na tootane vaala ek param pavitr dhaarmik sanskaar hai, yagy hai . vivaah mein do praan (var – vadhoo) apane alag astitvon ko samaapt kar ek sammilit ikaee ka nirmaan karate hain aur ek doosare ko apanee yogyataon evan bhaavanaon ka laabh pahunchaate hue gaadee mein lage do pahiyon kee tarah pragati path par badhate hain . vivaah do aatmaon ka pavitr bandhan hai, jisaka uddeshy maatr indriya sukhabhog nahin, balki putrotpaadan, santaanotpaadan kar ek parivaar kee neenv daalana hai . srshti ke aarambh mein vivaah jaisee koee pratha nahin thee . koee bhee purush kisee bhee stree se yaun sambandh banaakar santaan utpann kar sakata tha . pita ka gyaan na hone se maatrpaksh kee hee pradhaanata thee tatha santaan ka parichay maata se hee diya jaata tha . vah vyavastha vaidikakaal tak chalatee rahee . is vyavastha ko paravartee rshiyon ne chunautee dee tatha ise paashavik sambandh maanate hue nae vaivaahik niyam banae . rshi shvetaketu ka ek sandarbh vaidik saahity mein aaya hai ki unhonne maryaada kee raksha ke lie vivaah pranaalee kee sthaapana kee aur tabhee se kutumb – vyavastha ka shreeganesh hua . hindoo vivaah bhogalipsa ka saadhan nahin, ek dhaarmik sanskaar hai . sanskaar se ant:shuddhi hotee hai aur shuddh antakaran mein tatvagyaan va bhavatpreman utpann hota hai, jo jeevan ka charam evan param purushaarth hai . manushy ke oopar devrn, rshirn evan pitrrn – ye teen rn hota hai . yagy – yogaadi se devrn, svaadhyaay se rshigan tatha vivaah karake pitaron ke shraaddh tarpan ke yogy dhaarmik evan sadaachaaree putr utpann karake pitrrn ka parishodhan hota hai . is prakaar pitaron kee seva tatha saddharm ka paalan kee parampara surakshit rakhane ke lie santaan utpann karana vivaah ka param uddeshy hai . yahee kaaran hai ki hindoodharm mein vivaah kee ek pavitr sanskaar ke roop mein maanyata dee gayee hai .

Comments

comments