Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » दीर्घजीवी होने का रहस्य विनम्रता में निहित

दीर्घजीवी होने का रहस्य विनम्रता में निहित

deerghajeevee-hone-ka-rahasy-vinamrata-mein-nihit

deerghajeevee-hone-ka-rahasy-vinamrata-mein-nihit

deerghajeevee hone ka rahasy vinamrata mein nihit

deerghajeevee hone ka rahasy vinamrata mein nihit

एक साधु थे अत्यंत विनम्र, त्यागी और मधुरभाषी। उनका शिष्य वृंद काफी विशाल था। वे सदैव परोपकार में लगे रहते और सादा जीवन व्यतीत करते। जब उन्हें लगा कि अंतिम समय निकट आ गया है तो उन्होंने अपने सभी शिष्यों को बुलाया और बोले- देखो अब भगवान का बुलावा किसी भी समय आ सकता है। जाते जाते तुम्हें अंतिम उपदेश देना चाहता हूं। जिससे तुम्हारा जीवन प्रकाशमय हो सके।
साधु महाराज बोले- मेरे मुंह में देख कर बताओं कि कितने दांत बचे है। शिष्यों ने उनके मुंह में देखकर एक ही सुर में कहा- गुरुदेव आपके मुंह में एक बी दांत नहीं बचे है। साधु बोले- देखों मेरी जीभ तो बची हुई है। सभी ने उत्तर दिया- हां आपकी जीभ तो सही सलामत है। साधु ने कहा मेरे जन्म के समय जीभ थी और जब आज मै मर रहा हूं तो भी यह बची हुई है। ये दांत बाद में पैदा हुए लेकिन जीभ से पहले कैसे विदा हो गए। इसका कारण तुम जानते हो। शिष्यों ने कहा- हम नहीं जानते। आप ही बताइए। तब साधु ने कहा – देखों मेरे बच्चों, इस जीभ में माधुर्य था। कोमलता थी। इसलिए ये जन्म से लेकर आज तक मेरे पास है। दांतो में शुरू से ही कठोरता थी इसलिए वे बाद में आकर भी पहले समाप्त हो गए। अपनी कठोरता के कारण वे दीर्घजीवी नहीं हो सके।
इसलिए अगर तुम दीर्घजीवी होना चाहते हो तो विनम्रता सीखों।

सार- अहंकार और वाणी की कठोरता से बचकर रहा जाए और विनम्रता को अपने व्यवहार का अंग बना लिया जाए तो व्यक्ति का दीर्घजीवी होना तय है।

To English in Wish4me

ek saadhu the atyant vinamr, tyaagee aur madhurabhaashee. unaka shishy vrnd kaaphee vishaal tha. ve sadaiv paropakaar mein lage rahate aur saada jeevan vyateet karate. jab unhen laga ki antim samay nikat aa gaya hai to unhonne apane sabhee shishyon ko bulaaya aur bole- dekho ab bhagavaan ka bulaava kisee bhee samay aa sakata hai. jaate jaate tumhen antim upadesh dena chaahata hoon. jisase tumhaara jeevan prakaashamay ho sake.
saadhu mahaaraaj bole- mere munh mein dekh kar bataon ki kitane daant bache hai. shishyon ne unake munh mein dekhakar ek hee sur mein kaha- gurudev aapake munh mein ek bee daant nahin bache hai. saadhu bole- dekhon meree jeebh to bachee huee hai. sabhee ne uttar diya- haan aapakee jeebh to sahee salaamat hai. saadhu ne kaha mere janm ke samay jeebh thee aur jab aaj mai mar raha hoon to bhee yah bachee huee hai. ye daant baad mein paida hue lekin jeebh se pahale kaise vida ho gae. isaka kaaran tum jaanate ho. shishyon ne kaha- ham nahin jaanate. aap hee bataie. tab saadhu ne kaha – dekhon mere bachchon, is jeebh mein maadhury tha. komalata thee. isalie ye janm se lekar aaj tak mere paas hai. daanto mein shuroo se hee kathorata thee isalie ve baad mein aakar bhee pahale samaapt ho gae. apanee kathorata ke kaaran ve deerghajeevee nahin ho sake.
isalie agar tum deerghajeevee hona chaahate ho to vinamrata seekhon.
saar- ahankaar aur vaanee kee kathorata se bachakar raha jae aur vinamrata ko apane vyavahaar ka ang bana liya jae to vyakti ka deerghajeevee hona tay hai.

 

Comments

comments