Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Pooja Paath » देवशयनी एकादशी आज, जानिए कैसे करें पूजन

देवशयनी एकादशी आज, जानिए कैसे करें पूजन

devyani-akadshi-aaj

devyani-akadshi-aaj

Devyani Akadshi aaj

आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्रीहरि विष्णु क्षीरसागर में शयन करते हैं। इस साल यह पर्व 15 जुलाई यानि आज है। इसी दिन से चातुर्मास का आरंभ माना जाता है। कहीं-कहीं इस तिथि को ‘पद्मनाभा’ भी कहते हैं। पुराणों का ऐसा भी मत है कि भगवान विष्णु इस दिन से चार मासपर्यंत (चातुर्मास) पाताल में राजा बलि के द्वार पर निवास करके कार्तिक शुक्ल एकादशी को लौटते हैं। इसी प्रयोजन से इस दिन को ‘देवशयनी’ तथा कार्तिक शुक्ल एकादशी को ‘प्रबोधिनी’ एकादशी कहते हैं।

पौराणिक व्रत कथा

सूर्यवंश में मांधाता नाम का एक चक्रवर्ती राजा हुआ, जो सत्यवादी और महान प्रतापी था। वह अपनी प्रजा का पुत्र की भांति पालन किया करता था। उसकी सारी प्रजा धनधान्य से भरपूर और सुखी थी। उसके राज्य में कभी अकाल नहीं पड़ता था। एक समय उस राजा के राज्य में तीन वर्ष तक वर्षा नहीं हुई और अकाल पड़ गया। प्रजा अन्न की कमी के कारण अत्यंत दुखी हो गई। अन्न के न होने से राज्य में यज्ञादि भी बंद हो गए। एक दिन प्रजा राजा के पास जाकर कहने लगी कि हे राजा! सारी प्रजा त्राहि-त्राहि पुकार रही है, क्योंकि समस्त विश्व की सृष्टि का कारण वर्षा है। वर्षा के अभाव से अकाल पड़ गया है और अकाल से प्रजा मर रही है। इसलिए हे राजन! कोई ऐसा उपाय बताओ जिससे प्रजा का कष्ट दूर हो। राजा मांधाता कहने लगे कि आप लोग ठीक कह रहे हैं, वर्षा से ही अन्न उत्पन्न होता है और आप लोग वर्षा न होने से अत्यंत दुखी हो गए हैं। मैं आप लोगों के दुखों को समझता हूं। ऐसा कहकर राजा कुछ सेना साथ लेकर वन की तरफ चल दिया। वह अनेक ऋषियों के आश्रम में भ्रमण करता हुआ अंत में ब्रह्माजी के पुत्र अंगिरा ऋषि के आश्रम में पहुंचा। वहां राजा ने घोड़े से उतरकर अंगिरा ऋषि को प्रणाम किया। मुनि ने राजा को आशीर्वाद देकर कुशलक्षेम के पश्चात उनसे आश्रम में आने का कारण पूछा। राजा ने हाथ जोड़कर विनीत भाव से कहा कि हे भगवन! सब प्रकार से धर्म पालन करने पर भी मेरे राज्य में अकाल पड़ गया है। इससे प्रजा अत्यंत दुखी है। राजा के पापों के प्रभाव से ही प्रजा को कष्ट होता है, ऐसा शास्त्रों में कहा है। जब मैं धर्मानुसार राज्य करता हूं तो मेरे राज्य में अकाल कैसे पड़ गया? इसके कारण का पता मुझको अभी तक नहीं चल सका।
अब मैं आपके पास इसी संदेह को निवृत्त कराने के लिए आया हूं। कृपा करके मेरे इस संदेह को दूर कीजिए। साथ ही प्रजा के कष्ट को दूर करने का कोई उपाय बताइए। इतनी बात सुनकर ऋषि कहने लगे कि हे राजन! यह सतयुग सब युगों में उत्तम है। इसमें धर्म को चारों चरण सम्मिलित हैं अर्थात इस युग में धर्म की सबसे अधिक उन्नति है। लोग ब्रह्म की उपासना करते हैं और केवल ब्राह्मणों को ही वेद पढ़ने का अधिकार है। ब्राह्मण ही तपस्या करने का अधिकार रख सकते हैं, परंतु आपके राज्य में एक शूद्र तपस्या कर रहा है। इसी दोष के कारण आपके राज्य में वर्षा नहीं हो रही है। इसलिए यदि आप प्रजा का भला चाहते हो तो उस शूद्र का वध कर दो। इस पर राजा कहने लगा कि महाराज मैं उस निरपराध तपस्या करने वाले शूद्र को किस तरह मार सकता हूं। आप इस दोष से छूटने का कोई दूसरा उपाय बताइए। तब ऋषि कहने लगे कि हे राजन! यदि तुम अन्य उपाय जानना चाहते हो तो सुनो।
आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की पद्मा नाम की एकादशी का विधिपूर्वक व्रत करो। व्रत के प्रभाव से तुम्हारे राज्य में वर्षा होगी और प्रजा सुख प्राप्त करेगी क्योंकि इस एकादशी का व्रत सब सिद्धियों को देने वाला है और समस्त उपद्रवों को नाश करने वाला है। इस एकादशी का व्रत तुम प्रजा, सेवक तथा मंत्रियों सहित करो।
मुनि के इस वचन को सुनकर राजा अपने नगर को वापस आया और उसने विधिपूर्वक पद्मा एकादशी का व्रत किया। उस व्रत के प्रभाव से वर्षा हुई और प्रजा को सुख पहुंचा। अत: इस मास की एकादशी का व्रत सब मनुष्यों को करना चाहिए। यह व्रत इस लोक में भोग और परलोक में मुक्ति को देने वाला है। इस कथा को पढ़ने और सुनने से मनुष्य के समस्त पाप नाश को प्राप्त हो जाते हैं।

👉 ऐसे करें पूजन👈
* एकादशी को प्रातःकाल उठें।
* इसके बाद घर की साफ-सफाई तथा नित्य कर्म से निवृत्त हो जाएं।
* स्नान कर पवित्र जल का घर में छिड़काव करें।
* घर के पूजन स्थल अथवा किसी भी पवित्र स्थल पर प्रभु श्री हरि विष्णु की सोने, चांदी, तांबे अथवा पीतल की मूर्ति की स्थापना करें।
* इसके बाद भगवान विष्णु को पीतांबर आदि से विभूषित करें।
* तत्पश्चात व्रत कथा सुननी चाहिए।
* इसके बाद आरती कर प्रसाद वितरण करें।
* अंत में सफेद चादर से ढंके गद्दे-तकिए वाले पलंग पर श्रीहरि विष्णु को शयन कराना चाहिए।


 

aashaadh shukl ekaadashee ko devashayanee ekaadashee kaha jaata hai. is din se bhagavaan shreehari vishnu ksheerasaagar mein shayan karate hain. is saal yah parv 15 julaee yaani aaj hai. isee din se chaaturmaas ka aarambh maana jaata hai. kaheen-kaheen is tithi ko padmanaabha bhee kahate hain. puraanon ka aisa bhee mat hai ki bhagavaan vishnu is din se chaar maasaparyant (chaaturmaas) paataal mein raaja bali ke dvaar par nivaas karake kaartik shukl ekaadashee ko lautate hain. isee prayojan se is din ko devashayanee tatha kaartik shukl ekaadashee ko prabodhinee ekaadashee kahate hain.

pauraanik vrat katha

sooryavansh mein maandhaata naam ka ek chakravartee raaja hua, jo satyavaadee aur mahaan prataapee tha. vah apanee praja ka putr kee bhaanti paalan kiya karata tha. usakee saaree praja dhanadhaany se bharapoor aur sukhee thee. usake raajy mein kabhee akaal nahin padata tha. ek samay us raaja ke raajy mein teen varsh tak varsha nahin huee aur akaal pad gaya. praja ann kee kamee ke kaaran atyant dukhee ho gaee. ann ke na hone se raajy mein yagyaadi bhee band ho gae. ek din praja raaja ke paas jaakar kahane lagee ki he raaja! saaree praja traahi-traahi pukaar rahee hai, kyonki samast vishv kee srshti ka kaaran varsha hai. varsha ke abhaav se akaal pad gaya hai aur akaal se praja mar rahee hai. isalie he raajan! koee aisa upaay batao jisase praja ka kasht door ho. raaja maandhaata kahane lage ki aap log theek kah rahe hain, varsha se hee ann utpann hota hai aur aap log varsha na hone se atyant dukhee gae hain ho. main aap logon ke dukhon ko samajhata hoon. aisa kahakar raaja kuchh sena saath lekar van kee taraph chal diya. vah anek rshiyon ke aashram mein bhraman karata hua ant mein brahmaajee ke putr angira rshi ke aashram mein pahuncha. vahaan raaja ne ghode se utarakar angira rshi ko pranaam kiya. muni ne raaja ko aasheervaad dekar kushalakshem ke pashchaat unase aashram mein aane ka kaaran poochha. raaja ne haath jodakar vineet bhaav se kaha ki he bhagavan! sab prakaar se dharm paalan karane par bhee mere raajy mein akaal pad gaya hai. isase praja atyant dukhee hai. raaja ke paapon ke prabhaav se hee praja ko kasht hota hai, aisa shaastron mein kaha hai. jab main dharmaanusaar raajy karata hoon to mere raajy mein akaal kaise pad gaya? isake kaaran ka pata mujhako abhee tak nahin chal saka.
ab main aapake paas isee sandeh ko nivrtt karaane ke lie aaya hoon. krpa karake mere is sandeh ko door keejie. saath hee praja ke kasht ko door karane ka koee upaay bataie. itanee baat sunakar rshi kahane lage ki he raajan! yah satayug sab yugon mein uttam hai. isamen dharm ko chaaron charan sammilit hain arthaat is yug mein dharm kee sabase adhik unnati hai. log brahm kee upaasana karate hain aur keval braahmanon ko hee ved padhane ka adhikaar hai. braahman hee tapasya karane ka adhikaar rakh sakate hain, parantu aapake raajy mein ek shoodr tapasya kar raha hai. isee dosh ke kaaran aapake raajy mein varsha nahin rahee hai ho. isalie yadi aap praja ka bhala chaahate ho to us shoodr ka vadh kar do. is par raaja kahane laga ki mahaaraaj main us niraparaadh tapasya karane vaale shoodr ko kis tarah maar sakata hoon. aap is dosh se chhootane ka koee doosara upaay bataie. tab rshi kahane lage ki he raajan! yadi tum any upaay jaanana chaahate ho to suno.
aashaadh maas ke shukl paksh kee padma naam kee ekaadashee ka vidhipoorvak vrat karo. vrat ke prabhaav se tumhaare raajy mein varsha hogee aur praja sukh praapt karegee kyonki is ekaadashee ka vrat sab siddhiyon ko dene vaala hai aur samast upadravon ko naash karane vaala hai. is ekaadashee ka vrat tum praja, sevak tatha mantriyon sahit karo.
muni ke is vachan ko sunakar raaja apane nagar ko vaapas aaya aur usane vidhipoorvak padma ekaadashee ka vrat kiya. us vrat ke prabhaav se varsha huee aur praja ko sukh pahuncha. at: is maas kee ekaadashee ka vrat sab manushyon ko karana chaahie. yah vrat is lok mein bhog aur paralok mein mukti ko dene vaala hai. is katha ko padhane aur sunane se manushy ke samast paap naash ko praapt ho jaate hain.

👉 aise karen poojan👈
* ekaadashee ko praatahkaal uthen.
* isake baad ghar kee saaph-saphaee tatha nity karm se nivrtt ho jaen.
* snaan kar pavitr jal ka ghar mein chhidakaav karen.
* ghar ke poojan sthal athava kisee bhee pavitr sthal par prabhu shree hari vishnu kee sone, chaandee, taambe athava peetal kee moorti kee sthaapana karen.
* isake baad bhagavaan vishnu ko peetaambar aadi se vibhooshit karen.
* tatpashchaat vrat katha sunanee chaahie.
* isake baad aaratee kar prasaad vitaran karen.

Comments

comments